संकेत जो बताते हैं कि आप ग्‍लूटेन के प्रति हैं संवेदनशील

ग्‍लूटेन के प्रति संवेदनशीलता के लक्षण कई अन्य समस्याओं के जैसे होते हैं या उससे अलग, ये जानना बहत जरूरी है, लेकिन अगर आप ग्‍लूटेन के प्रति संवेदनशील हैं तो इसके ये लक्षण हैं।

Rahul Sharma
Written by: Rahul SharmaPublished at: Oct 28, 2015

ग्‍लूटेन के प्रति हैं संवेदनशीलता

ग्‍लूटेन के प्रति हैं संवेदनशीलता
1/5

ग्‍लूटेन के प्रति संवेदनशीलता के लक्षण कई अन्य समस्याओं के जैसे ही होते हैं, जिसके चलते इन्हें आसानी से पहचान पाना मुश्किल होता है। कभी-कभी इसके लक्षण भोजन के बाद दिखाई देते हैं और लंबे समय तक नहीं रहते हैं। कुछ दूसरे मामलों में ग्‍लूटेन के प्रति संवेदनशीलता के लक्षण हफ्तों तक रह सकते हैं, जो समस्या के कारण का सही पता करने से भ्रमित करते हैं। तो चलिये जानें कि ग्‍लूटेन के प्रति संवेदनशीलता के अहम मगर भ्रामक लक्षण कौन से होते हैं। Images source : © Getty Images

क्या है ग्‍लूटेन सेंसिटिविटी

क्या है ग्‍लूटेन सेंसिटिविटी
2/5

हमारा शरीर कई बार कुछ विशेष खाद्य पदार्थों के सेवन को लेकर बेहद संवेदनशील हो जाता है। इन पदार्थों का सेवन करते ही शरीर प्रतिक्रिया देने लगता है। इस बीमारी को सीलिएक कहते हैं, सीलिएक छोटी आंत की बीमारी है, जिसे गेहूं या अन्‍य साबुत अनाजों से होने वाली एलर्जी भी कहा जाता है। यह बीमारी शरीर द्वारा ग्लूटेन नामक प्रोटीन अवशोषित नहीं कर पाने की वजह से होती है। इस बीमारी का पता लगाने के लिए ब्लड टेस्ट किया जाता है। बीमारी होने की पुष्टि हो जाने के बाद प्रभावित व्यक्ति को जीवनभर ग्लूटेन फ्री डाइट लेनी होती है। दवाइयों या अन्य किसी तरीके से इसका इलाज नहीं किया जा सकता है। Images source : © Getty Images

बहुत ज्यादा खुजली और रैशेज

बहुत ज्यादा खुजली और रैशेज
3/5

अगर शरीर में बहुत ज्यादा खुजली हो और क्रीम लगाने के बाद भी ठीक न हो तो यह सीलिएक बीमारी का लक्षण हो सकता है। सीलिएक रोग से त्वचा बहुत ज्यादा संवेदनशील हो जाती है। इस बीमारी में शरीर को पौष्टिक तत्व नहीं मिल पाते हैं, जिसकी वजह से त्वचा पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। कई बार लोग त्वचा पर ज्यादा खुजली होने को कोई त्वचा संक्रमण समझ लेते हैं और उन्हें पता ही नहीं चल पाता है कि ये सीलिएक के लक्षण हैं।  Images source : © Getty Images

गैस्ट्रोइंटेस्टिनल समस्याएं या माइग्रेन

गैस्ट्रोइंटेस्टिनल समस्याएं या माइग्रेन
4/5

गैस्ट्रोइंटेस्टिनल (जठरांत्र), पेट और पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। ऐसी स्थिति में गैस, सूजन, मतली, पेट में ऐंठन, कब्ज, दस्त या इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम में से एक सभी लक्षण शामिल हो सकते हैं। इसके अलावा ग्‍लूटेन सेंस्टिविटी के लक्षणों के तौर पर सिर में दर्द या माइग्रेन भी हो सकता है। इसके अलवा क्रोनिक चिड़चिड़ापन और अचानक मूड स्विंग होना भी इसका लक्षण हो सकते हैं। लंबे समय से या फिर भोजन के तुरंत बाद थकान होना अर्थाता क्रोनिक फटीग सिंड्रोम (CFS) भी लक्षणों में शामिल हो सकते हैं। Images source : © Getty Images

केराटोसिस पिलरिस तथा फाइब्रोमायल्जिया

केराटोसिस पिलरिस तथा फाइब्रोमायल्जिया
5/5

केराटोसिस पिलरिस जिसे 'चिकन स्किन' (बाजुओं के पीछे की त्वचा का लाल हो जाना) के नाम से भी जाना जाता है। यह दरअसल फैटी एसिड तथा विटामिन ए की कमी के परिणाम स्वरूप आंत को नुकसान पहुंचाए ग्लूटेन द्वारा आंत को नुकसान की वजह वसा-कुअवशोषण की वजह से होता है। फाइब्रोमायल्जिया (Fibromyalgia) भी ग्‍लूटेन सेंसिटिविटी का लक्षण हो सकता है। यह कोई बीमारी नहीं, बल्कि एक सिंड्रोम होता है। इसमें मांसपेशियों और ऊतकों में दर्द होता है। Images source : © Getty Images

Disclaimer