इशारे कि वह लड़का आपके लिए नहीं है सही

प्‍यार में बेशक भावनायें प्रधान होती हैं, लेकिन इसके बीच में समझदारी को ताक पर रख देना सही नहीं है। कुछ ऐसे इशारे होते हैं जो बताते हैं कि अमुक लड़का आपके लिए ठीक नहीं है। समय रहते अगर आप उन लक्षणों को पहचान जाएं तो आपके लिए मुश्किलें काफी कम हो सकती हैं।

Bharat Malhotra
Written by: Bharat MalhotraPublished at: Aug 22, 2014

प्‍यार है तो सब कुछ है

प्‍यार है तो सब कुछ है
1/9

जीवन में प्‍यार हो तो सब कुछ है। प्‍यार बिना जीवन नीरस हो जाता है। और इसी प्‍यार की तलाश कई बार थकाऊ और ऊबाऊ हो जाती है। कई बार तो निराशा के बादल आपको घेर लेते हैं। आज के दौर में जब सोशल मीडिया, सीरियल डेटिंग और प्‍यार में धोखा इतना बढ़ गया है, तो एक सवाल उठता है कि आखिर हम किसी की तलाश क्‍यों करते हैं। दिमाग जब प्‍यार के खतरों के बारे में आगाह करता है, तो भी दिल प्‍यार में डूबा रहना चाहता है। आखिर क्‍यों हम किसी को तलाश करते रहते हैं।

प्‍यार करना है इनसानी फितरत

प्‍यार करना है इनसानी फितरत
2/9

हमें हमेशा किसी की तलाश रहती है। हम प्‍यार चाहते हैं। यही तो इनसान की मूल प्रवृत्ति है। सब कुछ सुनने, जानने, समझने और भौतिकतावाद के हमलों के बाद भी इनसान प्‍यार में रहना चाहता है। किसी का साथ हमें सुरक्षा का भाव देता है। किसी से जुड़कर हम पूर्ण महसूस करते हैं। हालांकि, प्‍यार के मामले में भी कई बार थोड़ा स्‍मार्ट होना जरूरी है। भावनाओं के वशीभूत होने के बाद भी अपनी आंखें खुली रखनी चाहिये। इससे आपको सही फैसले लेने में मदद मिलेगी। तो, मेरी दोस्‍तों जब कभी आपका दिल किसी की ओर‍ खिंचा जा रहा हो, तो एक पल ठहरकर इन बातों पर ध्‍यान दें। देखें कि क्‍या यह वाकई आपके लिए बना है। और पहले सोचना बाद में पछताने से हमेशा अच्‍छा होता है। क्‍यों सही कहा ना...

मिलता ही नहीं

मिलता ही नहीं
3/9

शहर एक ही है, लेकिन उससे मुलाकात होती नहीं। मुलाकात तो छोडि़ये जनाब के पास तो बात करने तक का वक्‍त नहीं है। तो, जरा सचेत हो जाइए। कुछ तो गड़बड़ चल रही है। किसी भी लड़की के लिए किसी नये लड़के से बात करना हमेशा झिझक वाला होता है। और अगर वह आपकी आवाज सुनकर नाराज या परेशान हो जाता है, तो फिर ऐसे लड़के से बात करने में कोई फायदा नहीं। वह खुद से आपसे बात करने में दिलचस्‍पी नहीं दिखाता। बस आपकी कुछ कॉल या संदेशों के जवाब देता है, तो शायद वह आपके लिए नहीं बना।

तारीफ तो करता नहीं

तारीफ तो करता नहीं
4/9

पिछली बार उसने आपकी तारीफ कब थी। कुछ याद है आपको। क्‍या कहा तभी जब आप दोनों मिले थे। उसके बाद फोन पर या मैसेज, व्‍हाट्स-अप किसी पर नहीं। तो यही बताऊं, तो वह आपकी पूरी कद्र नहीं कर रहा। मेरा कहने का मतलब यह नहीं है कि वह आपके आगे-पीछे घूमता रहे। लेकिन, उसे गर्व होना चाहिये कि आप उसकी जिंदगी का हिस्‍सा हैं। और गाहे-बगाहे उसे आपको यह अहसास कराते रहना चाहिये। एक-दूसरे की तारीफ करना और उन्‍हें खास होने का अहसास कराना किसी भी रिश्‍ते की बुनियाद होता है। यह तो प्रेम की सहज प्रवृत्ति है।

एक पल में बदल जाता है

एक पल में बदल जाता है
5/9

उसका साथ आपको बहुत पसंद आता है। आप उन लम्‍हों का पूरा आनंद उठाती हैं। लेकिन, वे जनाब आपके साथ वक्‍त गुजारने की कोई कोशिश ही नहीं करते। तो, शायद वह उतना खुश नहीं है, जितना कि आप हैं। आप उसके जेहन में तभी तक हैं जब तक आप दोनों साथ हैं, और आपको भूलने के उसके पास तमाम कारण है, तो वक्‍त आ गया है कि आप इस रिश्‍ते से किनारा कर लें। बेशक, आपको उसका साथ पसंद आता है, लेकिन रिश्‍ता कभी एक तरफा नहीं होता। जो व्‍यक्ति किसी महिला को पसंद करता है वह उसके साथ रहने की हर संभव कोशिश करता है।

शायद उसे आया की जरूरत है

शायद उसे आया की जरूरत है
6/9

अगर आपको अहसास हो कि उसके पास हमेशा पैसों की कमी रहती है। उसके फ्रिज में गंदगी रहती है और उसका घर भी अस्‍त-व्‍यस्‍त रहता है, तो मैडम जरा ठहरिये। शायद उसे प्‍यार की नहीं आया की जरूरत है। वह आपका साथ चाहता है। वह चाहेगा कि आप उसका खयाल रखें। लेकिन, इसके बदले वह आपकी कीमत नहीं समझेगा। यह सीधा सा इशारा है कि वह अपनी देखभाल खुद नहीं कर सकता। तो बेहतर है कि ऐसे व्‍यक्ति से दूर ही रहा जाए।

मेरे साथ या रास्‍ता नाप

मेरे साथ या रास्‍ता नाप
7/9

वह बहुत अडि़यल है। वह रिश्‍तों की बुनियाद अपनी शर्तों पर रखना चाहता है। जब भी आप उसे अपनी जरूरतों और चाहतों के बारे में बताती हैं, तो वह पहले-पहल तो राजी हो जाता है, लेकिन जब उन बातों पर अमल करने की बारी आती है, तो जनाब का अहं आड़े आ जाता है। वह चीजों को अपने हिसाब से ही करना चाहता है। और अगर आप उनसे सहमत नहीं हैं, तो आप कहीं भी जाएं उन्‍हें कोई फर्क नहीं पड़ता। रिश्‍तों में दोनों साथियों को लचीला रुख अपनाना चाहिये। किसी एक व्‍यक्ति के आधार पर रिश्‍ते नहीं चलते।

इतनी आसानी से छोड़ दे

इतनी आसानी से छोड़ दे
8/9

आप लड़कर जा रही हैं और वह आपको रोकने की कोशिश भी नहीं कर रहा। तो इसके दो ही अर्थ हैं कि या तो उसने इस रिश्‍ते में निवेश नहीं किया था या फिर वह अंदर ही अंदर यह जानता है कि वह आपके लायक नहीं है। आपकी पहली लड़ाई ही आपको इस बात का संकेत दे देगी कि क्‍या वह आपके साथ रहना चाहता है या नहीं। अगर उसकी गलती होने के बाद भी आप ही बातें सुलझाती हैं, तो आप गलत परिपाटी तय कर रही हैं। वह वास्‍तव में रिश्‍ता पटरी पर रखना ही नहीं चाहता। वह आसानी से सब चीजें छोड़ देता है। ऐसा व्‍‍यक्ति अपनी कद्र नहीं करता और बेशक उसे दूसरों की कद्र करने का सलीका भी नहीं आता।

क्‍या करें

क्‍या करें
9/9

ऐसे पुरुष हर जगह होते हैं। आपके रिश्‍ते में भी एक या इससे अधिक लक्षण नजर आ सकते हैं। और ऐसे में आपको यह दुविधा हो सकती है कि आखिर अपने रिश्‍ते को कैसे आगे लेकर जाया जाए। आपको सबसे पहले ऐसे व्‍यक्ति की तलाश करनी चाहिये, जो भले ही देखने में अधिक सुंदर न हो, लेकिन उसे देखकर आपको अहसास हो कि वह आपको प्‍यार करता है। उसका साथ आपको कद्र, खुशी और सम्‍मान देता है। आपका उसके साथ एक संबंध है, जिसे आपको उम्र भर निभाने के बारे में सोचना चाहिये।

Disclaimer