वायरल अर्थराइटिस से बचने के लिए अपनाएं ये 7 तरीके

वायरल अर्थराइटिस एक प्रकार की संक्रामक बीमारी है, जो दूसरों की बजाय अपने ही शरीर से बाकी अंगों में खून के जरिए फैलता है, इससे बचाव के लिए कुछ तरीके आप आजमा सकते हैं।

Aditi Singh
Written by: Aditi Singh Published at: Apr 08, 2015

वायरल अर्थराइटिस

वायरल अर्थराइटिस
1/5

किसी भी बीमारी का इलाज करने से पहले आपके शरीर पर उसका क्या प्रभाव पड़ेगा ये जानना भी जरूरी होता है। वायरल अर्थराइटिस भी इसका अपवाद नहीं है। ये एक ऐसी बीमारी है जिससे जोडों में दर्द, कठोरता, सूजन आदि की समस्या हो जाती है। शरीर के किसी अंग में चोट लग जाने या सर्जरी होने के दौरान वायरस शरीर के खून में फैल जाते हैं। इसके सबसे सामान्य लक्षण जोड़ों मे दर्द और सूजन है। इस बीमारी से आसानी से बचाव किया जा सकता है।ImageCourtesy@Gettyimages

उचित इलाज

उचित इलाज
2/5

वायरल अर्थराइटिस का इलाज उचित और सिस्टमैटिक दवाइयों से किया जा सकता है। अपनी बीमारी के संबंध में डाक्टर्स से संपर्क करें। वायरल अर्थराइटिस में कई एनाल्जेसिक और नॉन स्टीरियोडल एंटी इन्‍फ्लेमेट्री दवाईयां फायदेमंद होती है। वैक्सीनेशन के जरिए वायरल अर्थराइटिस का बटाव किया जा सकता है। सावधानी बचाव से ज्यादा भली होती है। अगर इस तरह की बीमारियों से बचना है तो वैक्सीनेशन का सहारा लें। अपने डाक्टर्स से संपर्क करें और उचित वैक्सीनेशन लें।ImageCourtesy@Gettyimages

हीट और कोल्‍ड थेरेपी

हीट और कोल्‍ड थेरेपी
3/5

अर्थराइटिस के दर्द से छुटकारा पाने का सबसे आसान और किफायती तरीका है गर्म और ठंडा इलाज। इस थेरेपी के कई प्रकार होते हैं। आपको दर्द से राहत पाने के लिए अपने लिए सबसे मुफीद तरीका चुनना चाहिये। तो, अपने डॉक्‍टर से बात कर आप हॉट एंड कोल्‍ड थेरेपी का सही संतुलन चुन सकते हैं। इससे आपको अर्थराइटिस के दर्द से राहत मिल सकती है।     ImageCourtesy@Gettyimages इसे भी पढ़े:गठिया में कैसे काम करता हैं तांबा

यौन संबंध में बरते सावधानी

यौन संबंध में बरते सावधानी
4/5

वायरल अर्थराइटिस के उपचार में सेक्स भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वायरल अर्थराइटिस कई तरह का होता है जिसमें से एक को सूजाक अर्थराइटिस कहते है। सूजाक अर्थराइटिस से बचने के लिए आप या सेक्स ना करें या फिर सेफ सेक्स करें। ये आपके इलाज में कारगर रहेगा। वायरल अर्थराइटिस से बचाव करनें के लिए आपको सफाई पंसद बनना पड़ेगा। हमेशा घर वापस आने पर अपने हाथों और पैरों को कीटाणुनाशक से साफ करें। अपनें बच्चों में भी इस तरह की आदतों को डालें। सफाई सिर्फ वायरल अर्थराइटिस से ही नहीं बल्कि अन्य बीमारियों से भी आपको बचाती है।ImageCourtesy@Gettyimages

सर्जरी से बचाव

सर्जरी से बचाव
5/5

अर्थराइटिस की चिकित्सा में समय के साथ उपचार का तरीका बदल सकता है यह इस बात पर निर्भर करता है कि किस तरह की अर्थराइटिस है।अगर वायरल अर्थराइटिस की समस्या गंभीर हो जाती है तो इसे सर्जरी के जरिए दोबारा से ठीक किया जा सकता है। हालांकि केवल संक्रमण और सूजाक के मामलों में सर्जरी नहीं की जाती है। अपनी बीमारी के संबध में उचित जानकारी उसके इलाज में मदद करती है। वायरल अर्थराइटिस की के लक्षणों, कारणों की पूरी जानकारी आप अपनें बच्चों को भी दें। इश तरह वायरल अर्थराइटिस के उपचार में मदद मिलेगी। । अगर आपको वायरल अर्थराइटिस के लक्षण नजर आ रहे हो तो तुरंत ही डाक्टर से संपर्क करें।ImageCourtesy@Gettyimages

Disclaimer