ब्रेस्‍ट से संबंधित कुछ वैज्ञानिक बातों को भी जानें

ब्रेस्‍ट को लेकर कुछ ऐसे तथ्‍य है जिन्‍हें पढ़कर आपको हैरानी होगी। यह तथ्‍य अजीबोगरीब होने के साथ-साथ सच भी है। यहां तक कि इसमें से ज्‍यादातर आपको शायद पता भी नहीं है।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Apr 27, 2017

ब्रेस्‍ट से जुड़ी वैज्ञानिक बातें

ब्रेस्‍ट से जुड़ी वैज्ञानिक बातें
1/7

महिलाओं की ब्रेस्ट हमेशा से सेक्सुअल आकर्षण का केंद्र रहीं हैं। पुरुष हमेशा इसे निहारते और महिलाएं हमेशा इसे संवारती हैं। महिलाओं को हमेशा ब्रेस्‍ट को उभारने या सुडौल बनाने की इच्छा रहती है। लेकिन ब्रेस्‍ट से जुड़ी कुछ वैज्ञानिक बातों से लगभग सभी अंजान है। ब्रेस्‍ट को लेकर कुछ ऐसे तथ्‍य है जिन्‍हें पढ़कर आपको हैरानी होगी। यह तथ्‍य अजीबोगरीब होने के साथ-साथ सच भी है। यहां तक कि इसमें से ज्‍यादातर आपको शायद पता भी नहीं है।

फायदेमंद ब्रेस्‍ट मसाज

फायदेमंद ब्रेस्‍ट मसाज
2/7

एक शोध के अनुसार, ब्रेस्ट मसाज से कैंसर के खतरे को रोका जा सकता है। इसके अलावा ब्रेस्ट मसाज से ऑक्सिटॉक्सिन नामक हार्मोंन का स्राव होता है। यह वही बॉडी हॉर्मोन है जो किसी को गले लगाने पर रिलीज होता है।

गलत ब्रा पहनने का असर

गलत ब्रा पहनने का असर
3/7

ज्‍यादातर महिलाओं का मानना है कि ब्रा पहनने से ब्रेस्‍ट में कसाव आता है और ब्रेस्‍ट जल्‍दी लूज नहीं होती। लेकिन शोधों से साबित हुआ है कि ब्रा पहनने का ज्‍यादा असर ब्रेस्‍ट की बजाय गर्दन और पीठ पर होता है। साथ ही 48 प्रतिशत महिलाएं अपने साइज से एक या दो इंच बड़ी ब्रा पहनती हैं और लगभग 80 प्रतिशत महिलाएं गलत साइज की ब्रा पहनती है जिससे उन्‍हें पीठ दर्द और अपच की शिकायत रहती है। इसके अलावा ठीक ब्रा ना पहनने पर निपल्स घिसते हैं और इससे ब्लीडिंग भी हो सकती है।

ब्रेस्‍ट का आकार

ब्रेस्‍ट का आकार
4/7

ब्रेस्‍ट का आकार आनुवंशिक और बढ़ते वजन पर निर्भर करता है। जब महिलाएं वजन घटाती या बढ़ाती हैं तो सबसे पहले फर्क उनकी ब्रेस्‍ट पर ही पड़ता है। अमेरिका की येल यूनिवर्सिटी में हुए एक अध्‍ययन के अनुसार, महिलाओं के ब्रेस्‍ट का साइज हर घंटे घटता बढ़ता रहता है, यहां तक कि कभी-कभी मिनट-मिनट पर भी ऐसा होता है। लेकिन परिवर्तन इतना कम होता है कि आपको पता भी नहीं चलता है।

पुरुषों की भी होती है ब्रेस्‍ट और निपल

पुरुषों की भी होती है ब्रेस्‍ट और निपल
5/7

पुरुषों में भी ब्रेस्ट और निपल होते हैं, क्योंकि सभी भ्रूण शुरू में लड़की बनकर ही अस्तित्‍व में आते हैं। 6 हफ्ते बाद टेस्टोस्टरॉन का असर दिखना शुरू होता है, लेकिन तब तक ब्रेस्ट और निपल तो बन ही चुके होते हैं।

धूम्रपान से ब्रेस्‍ट में ढ़ीलापन

धूम्रपान से ब्रेस्‍ट में ढ़ीलापन
6/7

हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार स्तनपान कराने से ब्रेस्ट के आकार पर कोई असर नहीं पड़ता लेकिन धूम्रपान से ब्रेस्ट ढीले होने लगते हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ केनटर्की के शोधकर्ताओं के अनुसार धूम्रपान की वजह से ब्रेस्ट में पाए जाने वाला इलास्टिन नामक प्रोटीन कमजोर होने लगता है और यह प्रोटीन ब्रेस्ट को अपने सही आकार में रखने में मदद करता है।

उत्‍तेजित होने का माध्‍यम

उत्‍तेजित होने का माध्‍यम
7/7

वर्ष 2006 में किये गये एक शोध के अनुसार, 82 प्रतिशत लड़कियों ने कहा कि वह ब्रेस्‍ट के स्‍पर्श पर ही यौन संबंध के लिये उत्‍तेजित होती हैं। एक अन्‍य शोध में कई महिलाओं ने यह भी माना कि उन्‍हें ऑर्गेज्म ब्रेस्‍ट से ही महसूस हो जाता है। Image Source : Getty

Disclaimer