पालतू जानवरों से होने वाली एलर्जी से बचने के तरीके

पालतू जानवरों और मानव का प्रेम अद्भुत होता है, इसी कारण लोग पालतू जानवरों से बच्‍चे की तरह प्‍यार करते हैं, लेकिन अगर उनकी सफाई का ध्‍यान न रखा जाये तो इससे संक्रमण हो सकता है, कुछ बातों का खयाल रखकर इससे बचाव किया जा सकता है।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Apr 16, 2015

पालतू जानवरों से होने वाली एलर्जी

पालतू जानवरों से होने वाली एलर्जी
1/10

जानवरों से प्यार करने वालों के लिए उनके जरिये एलर्जी होना बहुत बड़ी सजा होती है। फिर चाहे आपकी प्यारी बिल्ली को गले लगाने की बात हो या आपके चहेते कुत्ते के साथ खेलना हो। एलर्जी न सिर्फ इनके बालों से होती है, ऐसा इनके एक जगह से दूसरी जगह जाने और गंदी जीचों के संपर्क में आने के कारण संक्रमित होने से फैलती है। पालतू जानवर को साफ रखना ही निदान नहीं बल्कि आपको कई अन्‍य बातों का भी विशेष ध्‍यान रखना होगा। कुछ सावधानियां बरतकर आप अपने प्यारे पेट के साथ एक अच्छा समय बिता सकते हैं। आइए पालतू जानवर से होने वाली एजर्ली से खुद का बचाव करने के उपायों के बारे में जानें।image courtesy : getty images

पेट खरीदने से पहले

पेट खरीदने से पहले
2/10

विशेषज्ञ मानते हैं कि अगर आपको नहीं पता कि आप पर या आपके घर वालों पर पालतू जानवर का कैसा प्रभाव पड़ेगा तो अपने दोस्त के पालतू जानवर के साथ कुछ समय बितायें, इससे आपको पता चल जायेगा। कि कहीं आपको पालतू जानवर से किसी प्रकार की एलर्जी तो नहीं। कुछ समय पालतू जानवर के साथ बिताने पर भी अगर आपको आपको सर्दी या आंखों में परेशानी नहीं है, तो आप पालतू जानवर को घर ला सकते हैं।image courtesy : getty images

नियमित जांच करवायें

नियमित जांच करवायें
3/10

अपने पालतू जानवर की नियमित रूप से जांच करवाये। उसे कौन से जरूरी वैक्‍सीन लगवानी है इसकी जानकारी रखें और वैक्‍सीन जरूर लगवाएं। इससे न सिर्फ आपका पालतू जानवर सुरक्षित रहेगा, बल्कि आपके घर के सदस्‍य और बच्‍चे भी सुरक्षित रहेगें।image courtesy : getty images

पालतू जानवर को साफ रखें

पालतू जानवर को साफ रखें
4/10

अपने पालतू जानवर को साफ रखें। उसे हर दिन नहलाएं और ऐसा न कर पायें तो उसे हफ्ते में एक बार अपने को ज़रूर नहलायें। इससे एलर्जेन के कम होने की सम्भावना रहती है।और अच्‍छे पालतू जानवर के लिए बने शैम्‍पू का इस्‍तेमाल करें। बाहर के जानवरों के सम्‍पर्क में आने से बचाएं। image courtesy : getty images

जानवर के बारे में पूरी जानकारी लें

जानवर के बारे में पूरी जानकारी लें
5/10

आप जिस भी जानवर को पालने वाले हो, उसके बारे में पूरी जानकारी लें। और पशु की शारीरिक बनावट के बारे में ज्‍यादा से ज्‍यादा जानें और उसके बालों पर विशेष ध्‍यान दें। साथ ही उसके बाल कितने समय पर झड़ने लगते हैं। या उसे खाज की बीमारी किस मौसम में होने के आंशका ज्‍यादा रहती हैं। इसकी भी पूरी जानकारी लें। image courtesy : getty images

एच ई पी ए फिल्टर ले आयें

एच ई पी ए फिल्टर ले आयें
6/10

यह फिल्टर पूरे घर के वातावरण को साफ कर डैंडर फ्री बनाता हैं। हाई एनर्जी पार्टिकुलेट अरेस्टिंग फिल्टर जानवरों के डैंडर को आसानी से वातावरण से साफ कर देते हैं। अच्छा होगा आप पोर्टेबल फिल्टर का इस्तेमाल करें।image courtesy : getty images

अपने पालतू को प्रशिक्षित करें

अपने पालतू को प्रशिक्षित करें
7/10

किसी भी जानवर को घर में पालने के बाद उसे थोड़ा-थोड़ा प्रशिक्षण दें। धीरे-धीरे उसे इतना प्रशिक्षण दे दें कि उसकी आदतों में सुधार आने लगे। और उसकी आदते इतनी अच्‍छी बन जाये कि कोई भी उसके साथ बहुत अच्‍छे से मजे ले सकें। image courtesy : getty images

पालतू को अपने बैडरूम से दूर रखें

पालतू को अपने बैडरूम से दूर रखें
8/10

बहुत से पैट लवर्स को और बच्चों को जानवरों के साथ अपने बैड पर खेलना बहुत ही अच्छा लगता है, लेकिन इससे एलर्जी के होने का खतरा बहुत ज्‍यादा बढ़ जाता है। इसलिए अपने पालतू जानवर को अपने बैडरूम से दूर ही रखें। image courtesy : getty images

बच्‍चों को भी समझायें

बच्‍चों को भी समझायें
9/10

पालतू जानवरों को ही सिर्फ ठीक करने से कुछ नहीं होगा। अपने घर के बच्‍चों को भी पालतू जानवरों के साथ सुरक्षा बरतने के लिए कहें। उन्‍हे बताएं कि उन्‍हें अपने पशुओं को किस तरह हैंडल करना चाहिए। ताकी वह भी जानवरों से होने वाली एलर्जी से आसानी से बच सकें। image courtesy : getty images

कार्पेट्स न रखें

कार्पेट्स न रखें
10/10

घर में रहने वाली ऐसी चीजें जो साफ न हो उन्हें घर में न रखें क्योंकि कार्पेट्स या अन्‍य ऐसी चीजों में एलर्जेन चिपक जाते हैं। और एलर्जी पैदा करने की आशंका को  बहुत ज्‍यादा बढ़ा देते हैं। टाइल्स या फर्श को साफ करना आसान होता है लेकिन कार्पेट्स को साफ करना आसान नहीं होता।image courtesy : getty images

Disclaimer