आपसे जुड़े हैं हृदय रोग के ये अनजान जोखिम कारक

नियमित प्रयोग की जाने वाली कई वस्‍तुयें ऐसी भी हैं जो आपके हृदय रोग के खतरे को बढ़ाती हैं और आपको उनके बारे में पता भी नहीं चलता।

Nachiketa Sharma
Written by: Nachiketa SharmaPublished at: Apr 17, 2014

हृदय रोग के जोखिम कारक

हृदय रोग के जोखिम कारक
1/11

अभी तक आप यह जानते थे कि दिल की बीमारियों के कुछ प्रमुख जोखिम कारक हैं, इसमें हैं - धूम्रपान, अस्‍वस्‍थ खानपान, अनिमियत दिनचर्या, मोटापा, मधुमेह, पारिवारिक इतिहास, उच्‍च रक्‍तचाप, बैड कोलेस्‍ट्रॉल की अधिक मात्रा, आदि। लेकिन इसके अलावा भी हृदय रोगों के लिए कई अन्‍य जोखिम कारक हैं जो जाने-अनजाने आपसे जुड़े हैं और आप इनके संपर्क में अक्‍सर रहते हैं। image courtesy - getty images

डायट सोडा

डायट सोडा
2/11

डायट सोडा में शुगर की मात्रा अधिक होती है जो वजन को बढ़ाता है। अमेरिकन कॉलेज ऑफ कॉर्डियोलॉजी द्वारा कराये गये नये शोध में यह बात सामने आयी है कि जो महिलायें सप्‍ताह में कम से कम दो बार डायट सोडा का सेवन करती हैं उनमें दिल की बीमारियों के बढ़ने का खतरा 30 प्रतिशत अधिक होता है। image courtesy - getty images

आपकी कार

आपकी कार
3/11

घंटों कार ड्राइव करना भी आपके दिल के लिए खतरनाक है। स्‍वीडन की यूमिया यूनिवर्सिटी द्वारा कराये गये शोध के अनुसार जो लोग रोज 30 मील से अधिक कार से सफर करते हैं उनमें तनाव, उच्‍च रक्‍तचाप और दिल की बीमारियों का खतरा अधिक होता है। image courtesy - getty images

दर्दरोधक दवा

दर्दरोधक दवा
4/11

यदि आप दर्द को दूर करने के लिए एंटीबॉयटिक दवाओं का सेवन करते हैं तो यह आपके दिल के लिये खतरनाक हो सकता है। कभी-कभी ये दवायें ब्‍लड प्रेशर को बढ़ा देती हैं जो दिल के लिए नुकसानदेह हैं। image courtesy - getty images

साबुत अनाज की ब्रेड

साबुत अनाज की ब्रेड
5/11

सामान्‍यतया उच्‍च फाइबरयुक्‍त साबुत अनाज दिल के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद माने जाते थे। लेकिन हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार यदि आपको सिलियेक रोग है तो ग्‍लूटेन का अधिक सेवन आपके हृदय रोग के जोखिम को दोगुना कर सकता है। image courtesy - getty images

वनस्‍पति तेल

वनस्‍पति तेल
6/11

वनस्‍पति तेल में संतृप्‍त वसा होती है जो शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा घटाने में मददगार है। लेकिन हाल में हुए नये शोध की मानें तो यदि वनस्‍पति तेलों के सेवन से शरीर में संतृप्‍त वसा शरीर में जाती है तो यह दिल को बीमारियों से बचाने के बजाय हृदय रोग के जोखिम को बढ़ाता है। image courtesy - getty images

खर्राटे लेना

खर्राटे लेना
7/11

आप खर्राटे लेकर किसी की नींद तो उड़ाते हैं साथ ही अपने दिल को भी रोगी बनाते हैं। अधिक खर्राटे लेने से सांस लेने में समस्‍या होती है, इसके कारण रक्‍तचाप बढ़ता है और दिल की मांसपेशियां भी क्षतिग्रस्‍त हो सकती हैं। इसलिए खर्राटों का उपचार करायें। image courtesy - getty images

अकेलापन

अकेलापन
8/11

अकेलापन शरीर की अन्‍य बीमारियों की तरह दिल का भी दुश्‍मन है। एक शोध की मानें तो अकेले रहने वाले 50 की कम उम्र के लोगों में कार्डियोवस्‍कुलर बीमारियेां के होने का खतरा 12 प्रतिशत अधिक होता है। इसलिए अगर आप अकेले हैं तो दिल को तंदरुस्‍त रखने के लिए एक साथी की तलाश कीजिए। image courtesy - getty images

तेज आवाज

तेज आवाज
9/11

तेज आवाज न केवल आपके कानों का दुश्‍मन है बल्कि यह दिल के लिए भी नुकसानदेह है। दरअसल अधिक शोर के कारण तनाव के लिए जिम्‍मेदार कुछ हार्मोन जैसे - कार्टिसोल, एड्रेनालीन, नोराड्रीनॉल का स्राव अधिक मात्रा में होता है। ये हाइपरटेंशन, स्‍ट्रोक और दिल की विफलता के लिए जोखिम कारक हैं। image courtesy - getty images

निम्‍न रक्‍तचाप

निम्‍न रक्‍तचाप
10/11

उच्‍च रक्‍तचाप दिल के लिए खतरनाक है, लेकिन सामान्‍य से कम रक्‍तचाप भी दिल के लिए खतरनाक है। दरअसल निम्‍न रक्‍तचाप के कारण रक्‍त वाहिकाओं सिकुड़ जाती हैं और खून की आपूर्ति ठीक से नहीं हो पाती। image courtesy - getty images

Disclaimer