अस्‍पताल में छुट्टी से पहले पूछें ये सवाल

अस्‍पताल में बीमारी के उपचार के बाद अगर चिकित्‍सक ने आपको डिस्‍चार्ज करने के लिए कहा है तो अस्‍पताल छोड़ने से पहले अपने उपचार और समस्‍याओं से संबंधित सवाल चिकित्‍सक से जरूर पूछें।

Nachiketa Sharma
Written by: Nachiketa SharmaPublished at: Jul 25, 2014

अस्‍पताल में छुट्टी लेने से पहले

अस्‍पताल में छुट्टी लेने से पहले
1/11

किसी बीमारी के लिए अगर आपको अस्‍पताल में भर्ती होना पड़ रहा है और चिकित्‍सक ने आपकी चिकित्‍सा के बाद आपको डिस्‍चार्ज के लिए बोल दिया है तो यह खबर आपके लिए सुखदायक हो सकती है। लेकिन अस्‍पताल छोड़ने से पहले कुछ सवाल ऐसे हैं जिनके बारे में चिकित्‍सक से सलाह अवश्‍य ले लेना चाहिए, ताकि अगर भविष्‍य में कोई समस्‍या हो तो आप इसके बारे में कुछ हद तक सजग रहें। image source - getty images

कुछ मूल बातें

कुछ मूल बातें
2/11

जरूरी नहीं आप‍ चिकित्‍सक से बीमारी को लेकर गहन बातें करें, कुछ मूल बातें भी हैं जिनका उत्‍तर आपको मिलना चाहिए। मसलन चिकित्‍सक से पूदें कि क्‍या यह उसके डिस्‍चार्ज होने का सही वक्‍त है और क्‍या वह आसानी से अपनी देखभाल घर पर कर सकता है? image source - getty images

रोग का निदान क्‍या है?

रोग का निदान क्‍या है?
3/11

अगर आपकी सर्जरी हुई तो आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि आपके रोग का निदान क्‍या है, इसके अलावा यह भी जानिये कि जब आप अस्‍पताल में आये तब क्‍या स्थिति थी और वर्तमान में क्‍या स्थिति है। image source - getty images

घर पर कैसे मदद मिलेगी?

घर पर कैसे मदद मिलेगी?
4/11

अगर अस्‍पताल से छुट्टी मिलने के बाद भी घर पर आपको नर्सिंग सुविधा कुछ दिनों के लिए मिलने वाली है तो उसके बारे में जानकारी कर लीजिए। चिकित्‍सक से यह भी पूछें कि क्‍या नर्सिंग सुविधा के अलाव चिकित्‍सक भी उसकी जांच के लिए घर पर विजिट करेंगे। image source - getty images

मेडिकल इन्‍श्‍योरेंस का कितना फायदा मिला?

मेडिकल इन्‍श्‍योरेंस का कितना फायदा मिला?
5/11

अगर आपने कोई बीमा पॉलिसी ली है तो आपके बिल का भुगतान करते वक्‍त उस पॉलिसी ने कितनी सहायता दी। इसके अलावा यह भी जानिये कि क्‍या उस बीमा पॉलिसी का प्रयोग सही तरीके से किया गया है नहीं। क्‍योंकि बिल के भुगतान के दौरान अक्‍सर गड़बड़ी हो जाती है जिसे देखना बहुत जरूरी है। image source - getty images

क्‍या यह मेरे जाने का सही वक्‍त है?

क्‍या यह मेरे जाने का सही वक्‍त है?
6/11

अधिकतर मरीज अस्‍तपाल से घर जाने के लिए तैयार नहीं होते हैं जबकि अस्‍पताल को लगता है कि उनके डिस्‍चार्ज होने का यही सही वक्‍त है। अगर आपके साथ भी यह समस्‍या हो तो एक बार चिकित्‍सक से जरूर पूछिये कि क्‍या यह आपके जाने का सही वक्‍त है या नहीं। image source - getty images

क्‍या कुछ गलत तो नहीं है?

क्‍या कुछ गलत तो नहीं है?
7/11

चिकित्‍सक से यह सवाल जरूर कीजिए कि क्‍या उपचार के दौरान किसी प्रकार की समस्‍या तो नहीं हुई और अगर हुई है तो क्‍या भविष्‍य में वह समस्‍या का कारण बन सकती है। अगर कोई छोटी सी भी समस्‍या है तो उसे नजरअंदाज बिलकुल भी न करें। image source - getty images

दवाओं का प्रबंधन कैसे करना है?

दवाओं का प्रबंधन कैसे करना है?
8/11

डिस्‍चार्ज होने के बाद सबसे ज्‍यादा समस्‍या होती है दवाओं के प्रबंधन में। अगर आपको एक दिन में कई तरह की दवायें विभिन्‍न समय पर लेनी हैं तो अक्‍सर आप दवाओं को लेने का सही वक्‍त भूल जाते हैं और उस समय पर गलत दवा खा लेते हैं। इससे आपकी समस्‍या बढ़ सकती है, इसलिए दवाओं के सेवन के बारे में अच्‍छे से जानकारी लीजिए। image source - getty images

किस प्रकार की थेरेपी की जरूरत होगी?

किस प्रकार की थेरेपी की जरूरत होगी?
9/11

डिस्‍चार्ज होने के बाद कुछ मरीजों को नियमित रूप से फिजियोथेरेपिस्‍ट की जरूरत होती है। अगर आपको भी चिकित्‍सक ने फिजियो से थेरेपी कराने का सुझाव दिया है तो उसके बारे में भी सवाल कीजिए। image source - getty images

सक्रियता कितनी होनी चाहिए?

सक्रियता कितनी होनी चाहिए?
10/11

डिस्‍चार्ज होने के बाद शारीरिक सक्रियता आपके उपचार को आसान बनाती है, लेकिन इसके बारे में भी सावधानी बहुत जरूरी है। ऐसा बिलकुल न करें कि डिस्‍चार्ज होने के बाद 1 घंटे वर्कआउट करें। इसके लिए चिकित्‍सक से सलाह दीजिए और उसके निर्देशानुसार ही शरीर को सक्रिय बनायें। image source - getty images

Disclaimer