दर्दभरी है मुंह के छालों की समस्या

मुंह के छालों की समस्या काफी आम है। ये समस्या पेट की गड़बड़ी से होती है।

Shabnam Khan
Written by: Shabnam Khan Published at: Nov 13, 2014

दर्दभरी समस्या है मुंह के छाले

दर्दभरी समस्या है मुंह के छाले
1/8

मुंह के छाले एक ऐसी समस्या है जिससे लगभग सभी को दो-चार होना पड़ता है। मुंह के छाले गालों के अंदर और जीभ व आसपास की जगह पर होते हैं। कई लोगों को तो खाने की नली तक में छाले हो जाते हैं। ये छाले देखने में तो छोटे होते हैं लेकिन इनमें दर्द बहुत होता है। मुंह में छाले होने पर तेज जलन और दर्द होता है, कुछ भी खाना या पीना मुश्किल हो जाता है। कई बार तो रोगी के लिए ठीक से बोलना भी मुश्किल हो जाता है। Image Source - Getty Images

एक नहीं, कई कारण

एक नहीं, कई कारण
2/8

मुंह के छाले होने का कोई एक कारण नहीं होता। इसलिए जरूरी नहीं है कि जिस वजह से किसी एक व्यक्ति के मुंह के अंदर छाले हो रहे हों, बिल्कुल उसी कारण से दूसरे व्यक्ति को भी छाले हो जाएं। कई बार तो ऐसा भी होता है कि कोई चीज खाते समय दांतों के बीच जीभ या गाल का हिस्सा आ जाता है, जिसकी वजह से छाले हो जाते हैं। ऐसे छाले मुँह की लार से अपने-आप ठीक हो जाते हैं। Image Source - Getty Images

पेट की गर्मी

पेट की गर्मी
3/8

मुंह के छालों का सबसे सामान्य कारण पेट की गर्मी माना जाता है। आयुर्वेद के अनुसार मुंह में छाले पेट की खराबी तथा पेट की गरमी की वजह से होते हैं। बदहजमी और कब्ज इसका मुख्य कारण है। कब्ज के कारण पाचनक्रिया खराब होकर मुंह में छाले, घाव, दाने आदि उत्पन्न हो जाते हैं। Image Source - Getty Images

दवाओं का साइड इफेक्ट

दवाओं का साइड इफेक्ट
4/8

ऐलोपैथिक दवाओं के साइड इफेक्ट की वजह से भी मुंह में छाले हो जाते हैं। खासतौर पर जब लंबे समय तक एंटीबॉयोटिक दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है तो मुंह में छाले होने की संभावना बढ़ जाती है। दरअसल, अधिक मात्रा में एंटीबॉयोटिक का इस्तेमाल करने से हमारी आंतों में लाभदायक कीटाणुओं की संख्या घट जाती है। नतीजतन मुँह में छाले पैदा हो जाते हैं। Image Source - Getty Images

दातों की संरचना का गलत होना

दातों की संरचना का गलत होना
5/8

अगर आपके दांत आड़े-तिरछे, नुकीले या आधे टूटे हुए होने के कारण जीभ या मुंह में चुभते हैं या फिर उनसे लगातार रगड़ लगती रहती है, तो वहाँ छाले होने का डर रहता है। अगर कोई नुकीला दांत लंबे समय तक जीभ या गाल से घर्षण करता रहे या चुभता रहे, इससे आगे चलकर कैंसर होने का डर भी होता है। Image Source - Getty Images

क्या हैं लक्षण

क्या हैं लक्षण
6/8

इस दौरान जीभ, तालू और होठों के अंदर छोटे छोटे दाने निकल आते हैं। ये दाने लाल-सफेद रंग के होते हैं। इनमें जलन होती है और सुई चुभने जैसा दर्द भी होता है। मुंह से बदबू आने लगती है। छालों के दौरान मुंह में बहुत ज्यादा लार होती है। ये समस्या इतनी दर्दभरी होती है कि रोगी कुछ खा-पी नहीं पाता। यहां तक कि पानी पीने से भी उसे दर्द होने लगता है। Image Source - Getty Images

घरेलू इलाज है प्रभावी

घरेलू इलाज है प्रभावी
7/8

मुंह में छाले की समस्या से निपटने के लिए बहुत से प्रभावी घरेलू इलाज मौजूद हैं। छोटी हरड़ को बारीक पीसकर छालों पर दिन में दो तीन बार लगाने से मुंह तथा जीभ दोनों के छाले ठीक हो जाते हैं। छाले होने पर तुलसी की चार पांच पत्तियां रोजना सुबह और शाम को चबाकर ऊपर से थोड़ा पानी पी लें, चार पांच दिन ऐसा करने से आराम मिलता है। इसके अलावा, शहद में मुलहठी का चूर्ण मिलाकर इसका लेप मुँह के छालों पर करें और लार को मुँह से बाहर टपकने दें। इस प्रक्रिया से छालों में जलन फौरन ठीक हो जाती है। जिन लोगों को बार बार छाले होते हों उन्हें टमाटर ज्यादा खाने चाहिए। Image Source - Getty Images

क्या करें परहेज़

क्या करें परहेज़
8/8

खाने में अधिक तेल, मिर्च, तेज मसाले व गर्म पदार्थ न खायें। इन चीज़ों से कब्ज होती है और उसी से छाले बनते हैं। अधिक गरिष्ठ भोजन न करें। मांस का अधिक सेवन करने वालों को भी छाले की समस्या हो जाया करती है। यदि मांस का सेवन कर रहे हैं तो इस बात को ध्यान में रखें। इसके अतिरिक्त, चाय, शराब, बीड़ी-सिगरेट या किसी भी नशीली चीज़ के सेवन से भी मुंह में छाले हो जाते हैं। Image Source - Getty Images

Disclaimer