समय पूर्व प्रसव के खतरे को कम करने के उपाय

निर्धारित समय से पूर्व हुए प्रसव को समय पूर्व प्रसव कहा जाता है, तनाव, नींद की कमी, अस्‍वस्‍थ खानपान और डायबिटीज जैसी बीमारियों के कारण इसकी संभावना बढ़ जाती है।

Nachiketa Sharma
Written by: Nachiketa SharmaPublished at: Nov 20, 2014

समयपूर्व प्रसव

समयपूर्व प्रसव
1/8

गर्भावस्‍था के दौरान सही तरीके से देखभाल और नियमित जांच न कराई जाये तो समय से पहले प्रसव हो सकता है। सामान्‍यतया 42 सप्‍ताह के बाद प्रसव होने पर मां और बच्‍चा दोनों स्‍वस्‍थ रहते हैं। 42 सप्‍ताह में बच्‍चे का शरीर पूर्ण विकसित हो जाता है, इससे पहले यानी 35 से 41 सप्‍ताह में अगर प्रसव हो तो बच्‍चा पूरी तरह स्‍वस्‍थ नहीं रहता और बाद में कई समस्‍यायें भी होती हैं। गर्भवती महिलायें कुछ बातों का ध्‍यान रखें तो समयपूर्व होने वाले प्रसव के खतरे को कम किया जा सकता है। image source - getty images

तनाव न लें

तनाव न लें
2/8

तनाव गर्भावस्‍था का सबसे बड़ा दुश्‍मन है, इसलिए गर्भवती महिलाओं को तनाव नहीं लेना चाहिए। न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि तनाव के कारण गर्भावस्था का समय कम हो जाता है, जिसके कारण समय से पूर्व प्रसव होने और गर्भपात होने का खतरा अधिक रहता है। इसलिए तनाव से बचें। image source - getty images

भरपूर नींद है जरूरी

भरपूर नींद है जरूरी
3/8

गर्भावस्‍था के दिनों में भरपूर नींद और आराम बहुत जरूरी है। रात में सोने से पहले गर्म दूध में शहद डालकर पिएं, इससे अच्छी नींद आएगी। कम से कम 7 घंटे की नींद जरूर लें। भरपूर नींद लेने से रक्‍त संचार ठीक रहता है और बच्‍चे के शरीर के अंग भी विकसित हो जाते हैं। image source - getty images

इन्‍हें न खायें

इन्‍हें न खायें
4/8

गर्भावस्‍था के दिनों में खानपान पर विशेष ध्‍यान देने की बात चिकित्‍सक भी करते हैं, लेकिन कुछ खाद्य-पदार्थ ऐसे भी हैं जिनका सेवन करने से बचना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को पपीता का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है, इसमें लैटेक्‍स होता है जो गर्भपात का कारण भी बन सकता है। इसके अलावा अनानास, आडू खाने से परहेज करें। image source - getty images

शराब और धूम्रपान

शराब और धूम्रपान
5/8

गर्भावस्‍था के दौरान शराब पीने और धूम्रपान करने समय पूर्व प्रसव होने का खतरा अधिक रहता है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को इनके सेवन से बचना चाहिए। image source - getty images

दवाओं से बचें

दवाओं से बचें
6/8

गर्भवती महिलाओं को कोई भी दवा बिना चिकित्‍सक की सलाह के नहीं लेना चाहिए, चाहे वह सामान्‍य दर्द हो फिर कोल्‍ड। एंटीबॉयटिक दवाओं का सेवन करने से समय से पहले प्रसव होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए दवाओं के सेवन के लिए चिकित्‍स की सलाह अवश्‍य लें। image source - getty images

बीमारियों से बचाव

बीमारियों से बचाव
7/8

गर्भवती महिला को अगर किसी भी प्रकार की बीमारी है तो उसका उपचार तुरंत करना चाहिए। डायबिटीज की शिकार महिलाओं को इसपर नियंत्रण रखना बहुत जरूरी है, इससे प्रीमेच्‍योर डिलीवरी होने की संभावना अधिक होती है। इसके अलावा अपने रक्‍तचाप को नियंत्रण में रखें। रक्‍तचाप बढ़ने से गर्भ में पल रहे बच्‍चे को सांस लेने में दिक्‍कत हो सकती है और यह समयपूर्व प्रसव का कारण भी बन सकता है। image source - getty images

मोटापे पर नियंत्रण

मोटापे पर नियंत्रण
8/8

मोटापे से ग्रस्‍त महिलाओं में समयपूर्व प्रसव होने की संभावना अधिक होती है, इसलिए मोटापे पर नियंत्रण रखना बहुत जरूरी है। कैलीफोर्निया में हुए शोध के मुताबिक जिन महिलाओं का वजन ज्यादा होता है, समय से पहले उनके बच्चे के जन्म की आशंका भी ज्यादा होती है। अगर आपका वजन अधिक है तो इसपर नियंत्रण पाने के बाद ही गर्भधारण के बारे में सोचिये। image source - getty images

Disclaimer