पेट दर्द के लिए जिम्मेदार हैं आपकी ये 5 गलतियां, आज ही सुधारें इन्हें

आदमी के पेट में हर दिन लगभग 20 बार गैस बनती है। जिसके कारण पेट में दर्द होता है, जो कभी-कभी असहनीय होता है।

Rashmi Upadhyay
Written by: Rashmi UpadhyayPublished at: Aug 01, 2018

पेट में गैस बनना

पेट में गैस बनना
1/10

आदमी के पेट में हर दिन लगभग 20 बार गैस बनती है। जिसके कारण पेट में दर्द होता है, जो कभी-कभी असहनीय होता है। इस समस्‍या से बचने के कुछ तरीके के बारे में हम आपको बताते हैं।

इन खाद्य-पदार्थों को न खायें

इन खाद्य-पदार्थों को न खायें
2/10

फूलगोभी, बीन्‍स और साबुत अनाज वाले खाद्य-पदार्थ पेट में एसिडिटी का कारण बनते हैं। पेट में गैस न बने इसके लिए एसिडिटी बनाने वाले खाद्य-पदार्थों को खाने से बचें।

चबाकर खायें

चबाकर खायें
3/10

अगर आप खाने को जल्‍दी से खाकर समाप्‍त कर देते हैं तो इस आदत को बदलिए। खाने को आराम से चबाकर खाइए। ऐसा करने से पेट में गैस नही बनेगी।

इन पेय पदार्थों को न पियें

इन पेय पदार्थों को न पियें
4/10

साफ्ट ड्रिंक पेट में गैस बनाने का काम करते हैं। कोला, बीयर जैसे पेय पदार्थ पेट में गैस बनाते हैं, इन पेय पदार्थों को पीने से बचें।

स्‍मोकिंग न करें

स्‍मोकिंग न करें
5/10

धूम्रपान भी एसिडिटी का कारण बनता है। जो लोग धूम्रपान करते हैं उनके पेट में धुयें के साथ हवा भी जाती है जो‍ कि पेट में गैस का कारण बनती है।

ज्‍यादा सॉस न खायें

ज्‍यादा सॉस न खायें
6/10

जो लोग खाने के साथ सॉस और शरबत लेते हैं उनमें फ्रक्‍टोज कॉन सिरप की मात्रा बढ़ जाती है। जो कि पेट की समस्‍याओं का कारण बनती है, इसलिए खाने के दौरान केचअप और सॉस खाने से बचें।

लिमिट से ज्‍यादा न खायें

लिमिट से ज्‍यादा न खायें
7/10

आपका शरीर आपको खुद बता देता है कि अब आपका पेट भर चुका है। आपको तभी रुक जाना चाहिए। कई बार हम स्‍वाद के चक्‍कर में अपने पेट की बात को अनसुना कर देते हैं, इसका खामियाजा हमें दर्द के रूप में भुगतना पड़ता है। अच्‍छा है कि भूख से कम ही खायें।

व्‍यायाम करते रहें

व्‍यायाम करते रहें
8/10

आपको हल्‍का-फुल्‍का व्‍यायाम करते रहना चाहिए। अगर आप व्‍यायाम करते हैं, तो आपकी पाचन क्रिया सही रहती है। भोजन अच्‍छे से पच जाता है। पाचन क्रिया सही रहने से आपको पेट दर्द में दर्द होने की आशंका कम रहती है।

प्रोबॉयोटिक्‍स युक्‍त भोजन करें

प्रोबॉयोटिक्‍स युक्‍त भोजन करें
9/10

आपको दही और सोया मिल्‍क जैसे आहारों का सेवन करना चाहिए। ऐसा आहार आपका चयापचय बढ़ाता है। इससे आपका हाजमा सही रहता है। यह आहार आपको पेट संबंधी रोगों से बचाने में भी मदद करता है। इस आहार से डायरिया व अन्‍य संक्रमित होने का खतरा कम हो जाता है।

एंटी बायोटिक्‍स से दूर रहें

एंटी बायोटिक्‍स से दूर रहें
10/10

जरूरत न हो, तो एंटी बायोटिक्‍स का सेवन न करें। एंटी बायोटिक्‍स आपके पेट में मौजूद गुड बैक्‍टीरिया को खत्‍म कर देते हैं, जिससे पेट की नैसर्गिक कार्यप्रणाली बाधित होती है। इससे आपको भोजन पचाने में दिक्‍कत होती है जिसके कारण आपको पेट दर्द हो सकता है।

Disclaimer