पपीते के पत्तों से कर सकते हैं इन 8 समस्याओं का घरेलू इलाज, जानें इस्तेमाल का तरीका

पपीते के पत्ते सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। यहां जानें इसके फायदों के बारे में।

Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Jul 15, 2021

पपीते के पत्तों के फायदे

पपीते के पत्तों के फायदे
1/10

पपीते के पत्ते सेहत के लिहाज से काफी फायदेमंद होते हैं। पपीते के पत्ते कई समस्याओं में काम आते हैं। इसमें एंटी फंगल, एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी बैक्टीरियल गुण आदि पाए जाते हैं। यह डेंगू, मलेरिया से लेकर इम्यूनिटी बढ़ाने तक में मददगार होते हैं। इस लेख के माध्यम से हम आपको पपीते के पत्तों के कुछ फायदों के बारे में बताएंगे। चलिए जानते हैं इसके बारे में।    

डेंगू

डेंगू
2/10

पपीते के पत्ते डेंगू में बहुत लाभकारी साबित होते हैं। डेंगू में लगातार प्लेटलेट्स घटने लगती हैं। पपीते के पत्तों का जूस 24 घंटे के अंदर ही प्लेटलेट्स बढ़ाने में सक्षम होता है। इससे आपका बुखार भी कम होता है। पपीते के पत्तों के जूस को डेंगू का रामबाण इलाज माना जाता है। इसके लिए इसके पत्तों का जूस पीना भी फायदेमंद होता है।  

डायबिटीज

डायबिटीज
3/10

पपीते के पत्तों में एंटीऑक्सिडेंट्स की भरपूर मात्रा होती है। यह शरीर में ब्लड शुगर लेवल नियंत्रित करता है। डायबिटीज के लिए पपीते का पत्ता एक बहुत ही अच्छा उपचार है। इसमें ब्लड शुगर लेवल को कम करने की क्षमता होती है। पपीते के पत्तों का सेवन करने से इन्सुलिन प्रोडक्शन रेगुलेट होता है। साथ ही डायबिटीज से होने वाली अन्य समस्याओं का खतरा भी टल जाता है।  

पाचन

पाचन
4/10

पेट साफ करने के लिए पपीता खाने की सलाह अक्सर दी जाती है। आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि पपीता के पत्ते भी पेट और पाचन के लिए उतने ही फायदेमंद होते है जितने की पपीते। पपीते के पत्तों में प्रोटीज और एमिलेस होता है जो कि कार्ब्स प्रोटीन और मिनरल्स के ब्रेकडाउन में मदद करता है। इस तरह से पपीता के पत्ते डाइजेशन में मददगार साबित होते हैं। इसके एंटीबैक्टीरियल गुणों की वजह से पेट में छाले 

स्किन के लिए फायदेमंद

स्किन के लिए फायदेमंद
5/10

पपीते के पत्तों में भरपूर मात्रा में विटामिन्स और मिनरल्स पाए जाते हैं। यह स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। इसमें विटामिन ए, सी ई के और बी पाए जाते हैं। ये सभी विटामिन्स त्वचा के लिए बहुत जरूरी होते हैं। पपीते के पत्तों का सेवन करने से त्वचा पर एक्ने दाग धब्बे रिंकल्स नही आते हैं। साथ ही त्वचा को सन डैमेज से भी बचाता है।  

कैंसर से बचाव

कैंसर से बचाव
6/10

पपीते के पत्ते कैंसर जैसी बीमारी के लक्षणों को भी कम करने में काफी कारगर होते हैं। इसमें एंटी कैंसर गुण पाए जाते हैं। पपीते के पत्ते में मुख्य रूप से लाइकोपीन नामक तत्व पाया जाता है, जो कैंसर के खतरे को कम करने में सहायक होता है। यही नहीं यह आपके फ्री रेडिकल्स को भी कम करते हैं। वहीं इसकी एंटी इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज कैंसर की सेल्स को नष्ट करती हैं।  

इम्यूनिटी बढ़ाए

इम्यूनिटी बढ़ाए
7/10

पपीते के पत्ते इम्यूनिटी बढ़ाने में भी काफी सहायक होते हैं। यह आपकी शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई को बढ़ाकर आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। वहीं इसके सेवन से शरीर में रेड ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स में भी बढ़ोत्तरी होती है। पपीते के पत्तों में इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुण पाए जाते हैं। जिससे इम्यूनिटी में काफी इजाफा होता है।   

बालों की ग्रोथ

बालों की ग्रोथ
8/10

आज के खराब लाइफस्टाइल की वजह से अधिकतम 30 से कम उम्र के लोगों के बाल पतले और काम होने लगते हैं। बालों की ग्रोथ बढ़ाने के लिए पपीता के पत्तों का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। यह बालों को पतला होने से बचाता है। साथ ही पपीते के पत्तो से गंजापन भी नही होता है। पपीते के पत्तों में मौजूद अल्कालोइड स्कैल्प से पोर्स ब्लॉक करने वाली गंदगी और ऑयल हटाता है। इससे बालों की नई ग्रोथ तेज़ी से होती है। साथ ही यह एक एंटी डैंड्रफ इलाज भी है।  

लिवर की समस्या से बचाए

लिवर की समस्या से बचाए
9/10

पपीते के पत्तों के एंटीऑक्सिडेंट्स शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। पपीते के पत्तों को खाने से लिवर डिटॉक्सिफाई होता है। पपीते के पत्ते लिवर की कई समस्याएं जैसे कि जौंडिस लिवर सिरोसिस लिवर कैंसर आदि को ठीक करने में सक्षम हैं। इसके फाइटोकेमिकल्स और फ्लेवोनॉयड्स लिवर के सारे टॉक्सिंस साफ कर देते है।  

पपीते के पत्तों का प्रयोग कैसे करें

पपीते के पत्तों का प्रयोग कैसे करें
10/10

पपीते के पत्तों का इस्तेमाल कई तरीकों से किया जा सकता है। इसमें सबसे अच्छा विकल्प पपीते के पत्तों का रस बनाकर पीना होता है। तमाम समस्याओं में पपीते के पत्तों का रस सबसे अच्छा होता है। साथ ही त्वचा संबंधी रोगों में इसकी पत्तियों में को पीसकर लेप बनाना भी फायदेमंद होता है। साथ ही इन पत्तों को उबालकर इसका काढ़ा आदि भी पिया जा सकता है।   

Disclaimer