एंटीबायोटिक दवा का ज्यादा इस्तेमाल क्यों? जब इन 5 प्राकृतिक चीजों में हैं ये गुण

जब भी आप बीमार पड़ते हैं और डॉक्टर के पास दवा लेने जाते हैं तो डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक दवाएं जरूर देते हैं। शरीर की तमाम बीमरियों का कारण कोई रिएक्शन या इंफेक्शन होता है और अलग-अलग बीमारियों और इंफेक्शन को ठीक करने में मुख्य दवाओं के साथ एंटीबायोटिक दवाओं की भी मदद ली जाती है। लेकिन अगर आप एंटीबायोटिक दवाओं का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं तो ये सेहत के लिए नुकसानदेह है। इसकी जगह आप उन प्राकृतिक चीजों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं जिनमें एंटीबायोटिक गुण होते हैं और जिनका शरीर पर कोई प्रतिकूल प्रभाव भी नहीं पड़ता है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Feb 15, 2018

हल्दी

हल्दी
1/5

हल्दी जितनी फायदेमंद शरीर के लिए है उतनी ही फायदेमंद त्वचा के लिए है इसलिए तमाम रोगों के साथ-साथ हल्दी सौंदर्य के लिए भी प्रयोग की जाती है। आर्थराइटिस, हार्ट बर्न, पेट में कीड़े, पेट दर्द, सिरदर्द, दांत का दर्द, डिप्रेशन, फेफड़ों के इंफेक्शन, ब्रॉन्कायटिस आदि में हल्दी के प्रयोग से फायदा मिलता है। इसके अलावा हल्दी दर्द और सूजन को भी तेजी से कम करती है।

लहसुन

लहसुन
2/5

लहसुन में भी ढेर सारे गुण होते हैं। लहसुन प्राकृतिक रूप से दर्द और सूजन को कम करता है। लहसुन में एंटी-बायोटिक, एंटी-वायरल, एंटी-पैरासाइटल, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-फंगल गुण होते हैं। इसके अलावा लहसुन में ढेर सारे एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं जो शरीर को कई रोगों से बचाते हैं। लहसुन दिल की बीमारियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। रोजाना सुबह दो कली लहसुन को गुनगुने पानी के साथ खाने से वजन भी कम होता है।

शहद

शहद
3/5

शहद में एंटीबायोटिक गुणों के साथ-साथ एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं इसलिए बहुत सारे इंफेक्शन्स में डॉक्टर स्वयं इसके सेवन की सलाह देते हैं। मुंह के छालों में शहद लगाने और खाने से बहुत राहत मिलती है। इसके अलावा शहद त्वचा संबंधी कई रोगों में भी बहुत काम आता है। जलने, कटने, कील, मुंहासे, चोट, सूजन आदि कई तरह की समस्याओं में शहद से हमें लाभ मिलता है।

लौंग

लौंग
4/5

लौंग हर्ब्स में सबसे ज्यादा गुणकारी मानी जाती है क्योंकि इसमें एंटीबायोटिक, एंटी-सेप्टिक, एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-फंगल और एंटी-वायरल सभी गुण होते हैं। लौंग का प्रयोग भी अलग-अलग परेशानियों जैसे दांत दर्द, सिरदर्द, अस्थमा और अपच आदि में करते हैं। इसके अलावा लौंग हमारे खून में मौजूद अशुद्धियों को दूर करता है।

अदरक

अदरक
5/5

अदरक अपने एंटीबायोटिक गुणों के कारण ही सर्दी, जुकाम, नजला और बुखार जैसी सामान्य बीमारियों के इलाज के लिए जानी जाती है। खांसी और जुकाम का असली कारण शरीर में वायरस और इंफेक्शन ही है। ऐसे में अदरक के सेवन से वायरस और बैक्टीरिया मर जाते हैं और हमें इन रोगों से राहत मिलती है। अदरक एक नेचुरल पेन किलर भी है और ये सांस और पाचन संबंधी बीमारियों को भी ठीक करती है।

Disclaimer