इसलिए मेरी मां हैं बेस्ट!

पापा, ग्रैंडपेरेट्स और तमाम अंकल-आंटियां बच्चे की जिंदगी में बाद में आते हैं, सबसे पहले उसकी मां आती है। तो क्या सिर्फ यही वजह है कि मां बेस्ट होती हैं? नहीं, मां को बेस्ट बनाने वाली ऐसी बहुत सी वजहें होती हैं।

 ओन्लीमाईहैल्थ लेखक
Written by: ओन्लीमाईहैल्थ लेखकPublished at: May 11, 2017

तुझे सब है पता...

तुझे सब है पता...
1/9

"तुझे सब है पता, है न मां!" फिल्म 'तारे जमीं पर' का ये गाना सुनकर कौन सा बच्चा अपनी मां को याद करके नहीं रोता? मां, मम्मी, मम्मा, मॉम... नाम कुछ भी लो, इस रिश्ते की गर्माहट वही रहती है। बेटा हो या बेटी, अपनी मां के बेहद नजदीक होता है। पापा, ग्रैंडपेरेट्स और तमाम अंकल-आंटियां बच्चे की जिंदगी में बाद में आते हैं, सबसे पहले उसकी मां आती है। तो क्या सिर्फ यही वजह है कि मां बेस्ट होती हैं? नहीं, मां को बेस्ट बनाने वाली ऐसी बहुत सी वजहें होती हैं। चलिये फिर, जानते हैं उन वजहों को और करते हैं याद अपनी-अपनी मां को!

आपकी पहली टीचर

आपकी पहली टीचर
2/9

याद करिये आपकी पहली पोयम (कविता) आपको किसने सिखाई थी? दोनों हाथों से मछली बनाकर 'मछली जल की रानी है' करना आपको किसने बताया था? "खाना खाने से पहले हैंड वॉश करते हैं" ये सीख आपको किससे मिली? "जब कोई आपको टॉफी दे तो कहो थैंक यू!" ये बात आपको किसने सिखाई? याद करना इतना भी मुश्किल नहीं। ये सब आपकी मां ने किया। मां बच्चे की पहली टीचर होती है, और वो जो बच्चे को सिखाती है, वो उसे ताउम्र याद रहता है।

पेट आपका भूख उनकी

पेट आपका भूख उनकी
3/9

2 बज गए हैं, खाना खा लो! अरे, अपना टिफिन बॉक्स पूरा क्यों नहीं खाया? आज खाने में मैंने तुम्हारी पसंदीदा वेजिटेबल बिरयानी बनाई है! भूख क्यों नहीं लगी तुम्हें आज? ये सब बातें आपसे दिनभर पूछी और कही जाती है। और ये करती हैं आपकी मां। मां को अपने बच्चे के खाने का सबसे ज्यादा खयाल होता है, खुद बच्चे से भी ज्यादा। मां की इस आदत से एकबारगी शक ही हो जाता है कि कहीं हमारी भूख उन्हें महसूस तो नहीं हो जाती?

पापा का गुस्सा? मम्मी बचाओ!

पापा का गुस्सा? मम्मी बचाओ!
4/9

मां ऑल टाइम सेवियर होती है। वो आपको बड़ी से बड़ी मुसीबतों से बचाती हैं। चाहे वो मुसीबत आपके पापा को गुस्सा ही क्यों न हो। तो क्या हुआ कि आप अपने पापा को हिटलर मानते हैं, आपके पास मां है, जो पापा के गुस्से से आपको बचाने के लिए हमेशा तैयार रहती है। इसलिए अगली बार जब आपको पार्टी के बाद घर लौटने में बहुत देरी हो जाए तो फिक्र न करें, पापा के गुस्से से मम्मी आपको बचा लेंगी!

ब्रेकअप? मां...!!

ब्रेकअप? मां...!!
5/9

"अरे वो तेरे लायक ही नहीं था, मैं तेरे लिए इससे अच्छा लड़का ढूंढ के लाऊंगी!" ये कहना होता है आपकी मां का जब वो आपको आपके ब्रेकअप के बाद संभाल रही होती हैं। आजकल बच्चे अपनी मां से अपनी लव लाइफ नहीं छिपाते, और अगर छिपा भी लें तो ब्रेकअप नहीं छिपा पाते। आपके ब्रेकअप पर आपका सर अपनी गोद में रखकर जब आपकी मां सहलाती हैं तो आपको समझ आ जाता है कि आपसे ज्यादा प्यार आखिर कौन करता है...

एक्जाम आपका जागती हैं मां

एक्जाम आपका जागती हैं मां
6/9

रात के एक बज रहे हैं और आप पढ़ रहे हैं, क्यों? क्योंकि दो दिन बाद आपके एक्जाम शुरू हैं। इसी वक्त मां आपके कमरे में गर्मागर्म कॉफी का मग लेकर आती हैं और आपको कुछ देर और जगाए रखने का इंतजाम कर जाती हैं। मां की ये आदत उन्हें दुनिया का सबसे केयरिंग इंसान बना देती हैं। जब एक्जाम की वजह से आपके साथ-साथ आपकी मां भी रात भर जागती हैं!

आपके फ्रैंड्स मां के फ्रैंड्स

आपके फ्रैंड्स मां के फ्रैंड्स
7/9

आपके बेस्ट फ्रैंड के पेरेंट्स वीकेंड पर उसे अकेले घर छोड़कर कहीं बाहर चले गए हैं, आपकी मम्मी को जब ये बात मालूम चलती है तो वो उसे अपने घर बुला लेती हैं, और दिनभर उसका वैसा खयाल रखती हैं जैसा आपका रखती हैं। जी हां, अक्सर ऐसा होता है कि आपके फ्रैंड्स आपकी मम्मी के भी फ्रैंड आसानी से बन जाते हैं। बनेंगे ही, आपकी मम्मी का नेचर ऐसा है कि वो सबका दिल जीत लेती हैं। आपके दोस्तों के लिए केक बनाकर भेजती हैं, आपके बेस्ट फ्रैंड की पर्सनल पॉब्लम सॉल्व करती हैं, यहां तक कि आपके दोस्तों को पिकनिक भी लेकर जाती हैं। तो फिर क्यों न हों आपकी मॉम बेस्ट?

आप बीमार, मम्मी परेशान

आप बीमार, मम्मी परेशान
8/9

बच्चे की तकलीफ सबसे पहले उसकी मां महसूस करती है। याद नहीं, जब आपको बुखार होता है तो कैसे सब काम छोड़कर दिनभर आपके सिरहाने बैठी रहती हैं। डॉक्टर से अपॉइमेंट लेना, आपके चेकअप, खाने पीने का खयाल रखना... मां हर काम बिना थके हुए करती है और आपके सेहतमंद होने की दुआएं करती हैं।

आपका करियर उनका ख्वाब

आपका करियर उनका ख्वाब
9/9

आपकी मां के लगभग सारे ख्वाब आपके अपने ख्वाबों में मिल जाते हैं। आपका करियर उनकी जिंदगी का लक्ष्य कब और कैसे बन जाता है, आप इस बात को समझ ही नहीं पाते। इतना डेडिकेशन सिर्फ एक मां में ही हो सकता है।

Disclaimer