अपने प्यार का साथ छोड़ने से पहले खुद से पूछें ये 7 सवाल

रिश्ते जोड़ने में सालों लग जाते हैं और तोड़ने में सकेंड्स भी नहीं लगते। ऐसे में अगर आपने रिश्ता तोड़ने का फैसला कर लिया है तो ये सात सवाल आखिरी बार खुद से पूछें।

Gayatree Verma
Written by: Gayatree Verma Published at: Feb 09, 2016

साथ छोड़ने से पहले पूछें ये सात सवाल

साथ छोड़ने से पहले पूछें ये सात सवाल
1/8

रिश्ता निभाना इस दुनिया का सबसे मुश्किल काम है और रिश्ता तोड़ना बहुत ही आसान। रिश्तों को बनने में सालों गुजर जाते हैं और रिश्ते तोड़ने में सकेंड्स भी नहीं लगते। अब बॉलीवुड को ही लें जहां ब्रेकअप की क्या बात करें। सितारे तो अब दस-पंद्रह साल पहले की शादी से ब्रेक ले रहे हैं। अगर आप भी ऐसे ही ब्रेकअप के मझदार में खड़ें हैं तो फिर से एक बार साथ खत्म करने से पहले खुद से पूछें ये सात सवाल।

क्‍या उनके पास सच में टाइम नहीं है?

क्‍या उनके पास सच में टाइम नहीं है?
2/8

ब्रेकअप का सबसे पहला कारण होता है - टाइम। हर कोई यही बोलता है कि उसके पास टाइम नहीं है। अगर आपका भी यही कारण है तो खुद से एक बार जरूर पूछें कि आपके पास टाइम है कि नहीं? क्योंकि कई बार ऐसा भी होता है कि पार्टनर के पास टाइम होता है तो आपके पास नहीं होता और आपके पास होता है उनके पास नहीं होता। इसे टाइम कंफल्किट कहते हैं और इसमें आप दोनों बराबर के भागीदार हैं। सो इस कारण पर फिर से गौर करें।

क्‍या वह आपकी इज्जत नहीं करते?

क्‍या वह आपकी इज्जत नहीं करते?
3/8

ब्रेकअप में कई बार चीजें टेक इट फॉर ग्रांटेड हो जाती है और लोग जाने-अनजाने में एक-दूसरे के सम्मान को ठेस पहुंचा देते हैं। ये ब्रेकअप करने की सबसे महत्वपूर्ण वजह होती है। लेकिन ये आपका केवल वहम है और आपका पार्टनर आपको, आपके काम को और आपसे जुड़े हर इंसान को सम्‍मान देता है तो फिर आपको ऐसे रिश्‍ते को खत्‍म करने से पहले एक बार सोच लेना चाहिए।

क्‍या वह आपको धोखा दे रहे हैं?

क्‍या वह आपको धोखा दे रहे हैं?
4/8

कुत्ता पाल लो लेकिन शक ना पालो। कई बार लोग शक के आधार पर सालों-साल के रिश्ते को तोड़ देते हैं। अगर आपका पार्टनर आपको अपने हर सच और झूठ के बारे में बताता है और फिर भी आपको उन पर शक है तो उनसे क्लियर करें। जिससे आपकी गलतफहमी भी दूर होगी और आपका रिश्ता भी बच जाएगा।

कहीं ये आपका मानसिक तनाव तो नहीं?

कहीं ये आपका मानसिक तनाव तो नहीं?
5/8

आज की व्यस्त लाइफ और काम के तनाव के कारण मानसिक तनाव हो जाता है जिससे आप चिड़चिड़े हो जाते हैं और कई बार उनपर बेवजह बरस पड़ते हैं। ऐसे में अगर आप चिड़चिड़ाहट में या प्रेशर में आकर रिश्तों को उलझा कर तोड़ने के कगार पर पहुंच गए हैं तो एक बार फिर सोचें। ये रिश्‍ता आपकी जिंदगी का सबसे अच्छा तोहफा है। इसे तोड़े नहीं, सहेजें।

कहीं आप बहाने तो नहीं तलाश रहे?

कहीं आप बहाने तो नहीं तलाश रहे?
6/8

वर्किंग लाइफ में दूसरों के प्रति आकर्षण होना आम बात है। लेकिन कई बार लोग आकर्षण को सच मान लेते हैं और रिश्ते से दुखी हो जाते हैं। फिर शुरू होता है झगड़ों का सिलसिला। ऐसे में खुद को जांचे और सोचें की कहीं आप ही तो बहाने नहीं तलाश रहे। अगर आपकी भी यही वजह है तो एक बार सोच लें और कोशिश करें आकर्षण को खत्म करने की।

क्या यही एक अंतिम उपाय?

क्या यही एक अंतिम उपाय?
7/8

अगर उपरोक्त कारणों के अलावा दूसरा कोई सीरियस कारण है तो एक बार खुद से पूछें की क्या यही एक अंतिम उपाय है? इसके अलावा रिश्ते को बचाने का दूसरा उपाय कोई नहीं है।

पछतावा तो नहीं होगा?

पछतावा तो नहीं होगा?
8/8

अगर आपने फैसला कर ही लिया है अलग होने का तो अंत में एक सवाल खुद से पूछें कि कहीं आपको ये रिश्ता तोड़कर किसी तरह का पछतावा तो नहीं होगा? अगर आपको उसकी याद आई तो? रिश्ते को तोड़कर आप खुश तो रहेंगे? अगर आपको किसी भी सवाल में से एक भी जवाब में पछतावा होने का अहसास होता है तो ब्रेकअप ना करें। फिलहाल तो ना ही करें।

Disclaimer