जानें 35 साल के बाद क्‍यों अधिक गहरा हो जाता है प्‍यार

जीवन अनमोल है, आप हर रोज नए अनुभव करते हैं और बढ़ती उम्र और अनुभवों के साथ आप जीवन को बेहतर तरीके से जीते हैं। आइए इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से जानें कि 35 साल की उम्र के बाद प्‍यार क्‍यों अधिक गहरा हो जाता है।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Jul 28, 2016

35 साल के बाद का प्‍यार

35 साल के बाद का प्‍यार
1/5

जीवन अनमोल है, आप हर रोज नए अनुभव करते हैं और अनुभवों के साथ आप जीवन को बेहतर तरीके से जीते हैं। यानी उम्र बढ़ने के साथ लाइफ बेहतर होती है। जवानी में आप दुनिया के बारे में बहुत कम जानते हैं, लेकिन शोर बहुत ज्‍यादा मचाते हैं। लेकिन उम्र बढ़ने के साथ आपका अनुभव बढ़ता है और शोर कम हो जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि आपको यह स्‍पष्‍ट हो जाता है कि आप अपने जीवन से क्‍या चाहते हैं। जब आप जानते हैं कि आप क्या चाहते हैं, तो उसे हासिल करना बहुत आसान हो जाता है। इसके अलावा, उम्र बढ़ने के साथ आपके व्यवहार में बदलाव आने लगता है, और आप एक बेहतर इंसान बनते है। आपका साथ लोगों और आपके साथी को खुशी देता है और आपके स्‍वार्थ में कमी आने लगती है। आप दूसरों के प्रति दयालु और अनुकूल हो जाते हैं और युवाओं के बीच एक शानदार उदाहरण बन जाते हैं। ऐसा ही आपकी लव लाइफ में भी होता है। आइए इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से जानें कि 35 साल की उम्र के बाद प्‍यार क्‍यों अधिक गहरा हो जाता है।

आपका प्‍यार ऊपरी सुंदरता का मोहताज नहीं

आपका प्‍यार ऊपरी सुंदरता का मोहताज नहीं
2/5

जवां उम्र का प्‍यार लुक्‍स पर आधारित होता है। लड़की के हॉट होने पर आप उसे चुनते हैं ताकी आसपास दूसरों को आपसे ईर्ष्‍या हो। या सेक्‍स की लालसा को पूरा करने के लिए लड़की से दोस्‍ती करते हैं। लेकिन 35 साल के बाद, आपकी ज्‍यादातर क्रेजी इच्‍छाएं पूरी हो चुकी होती है, इसलिए आपको एक अच्‍छे पार्टनर की तलाश होती है, न सिर्फ एक बेडरूम दोस्‍त की।

बेहतर इंसान और बेहतर फैसले

बेहतर इंसान और बेहतर फैसले
3/5

आपके जीवन के सभी अनुभव और विफलताएं आपको 35 के बाद एक बेहतर इंसान बनाती है। इसके अलावा आप किसी भी बातचीत में ज्‍यादा अनुभव के साथ दिलचस्‍पी लेते हैं। साथ ही युवा उम्र में आपके सारे विचार आपके निजी अंगों से प्रभावित होते हैं। लेकिन 35 की उम्र के बाद आप रिलेशनशीप में निर्णय लेने के लिए दिमाग का इस्‍तेमाल करना शुरू कर देते हैं। जिसके कारण पार्टनर के साथ आपका प्‍यार बहुत गहरा हो जाता है।

उम्र के साथ अहं भी होता है कम

  उम्र के साथ अहं भी होता है कम
4/5

रिश्‍तों में अहं की कोई जगह नहीं होती, अहं के चलते रिश्‍ता कभी परिपक्‍व नहीं हो सकता। युवा लोगों में अहं की भावना बहुत ज्‍यादा होती है, और यह स्‍वाभाविक भी है। इसके अलावा हार्मोन को भी इस उम्र में ऐसे व्‍यवहार के लिए दोषी ठहराया जाता है। लेकिन 35 की उम्र के बाद आप एक परिपक्‍व इंसान बन जाते हैं और आप कोमल रहना जानते हैं। यही कारण आपको एक अच्‍छा पार्टनर बनाता है।

शांत व्‍यवहार और सेक्‍स में बेहतर कौशल

शांत व्‍यवहार और सेक्‍स में बेहतर कौशल
5/5

युवा जोड़े अधिक लड़ते हैं। जबकि परिपक्‍व जोड़े जानते हैं कि उन्‍हें कैसे शांति बनाई रखनी है। इसके अलावा विवाहित जीवन में सेक्‍स बहुत मायने रखता है। अच्‍छे सेक्‍स रिलेशन से आपका रिश्‍ता बहुत मजबूत होता है। जबकि जवानी में आपका एकमात्र उद्देश्‍य बिस्‍तर तोड़ना होता है, लेकिन उम्र के साथ, शिष्टता के साथ सेक्‍स करते हैं। आप अपनी सारी शक्ति दिखाने की बजाय पार्टनर की संतुष्टि को अधिक महत्‍व देने लगते हैा। Image Source : Getty

Disclaimer