जानिए किस बीमारी में क्या खाने से बनेंगे हेल्थी

बीमारियों से बचने के लिए बीमारी के अनुसार ये फल खाएं।

Gayatree Verma
Written by: Gayatree Verma Published at: Oct 24, 2016

फल और बीमारियां

फल और बीमारियां
1/6

आपके खानपान पर आपका पूरा स्वास्थ्य निर्भर करता है। इसलिए कहा गया है कि जितना सात्विक भोजन उतना अच्छा जीवन। सही तरह का भोजन और सही समय पर भोजन आपको जीवन भर रोगमुक्त रखने में मदद करता है। लेकिन इसके लिए इंसान को पता भी होना चाहिए कि किस तरह का भोजन करें। आपकी इस अनभिज्ञता को दूर करने के लिए हम लाएं हैं ये लेख, जिसमें आपको किसी बीमारी से बचाने के लिए कौन सा फल खाना चाहिए के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

आंखों के लिए

आंखों के लिए
2/6

आज आंखों की समस्या हर दूसरे इंसान को होती है। कंप्यूटर, स्मार्टफोन और टैबलेट्स का दिन भर इस्तेमाल करने के कारण आंखों के ऊपर अनचाहा बोझ पड़ता है जिससे आंखों की रोशनी कम होती चली जाती है। अगर आपको भी कम उम्र में आंखों की समस्या हो रही है तो सतर्क हो जाएं और हरा धनिया व गाजर का रस पिएं। हरा धनिया और गाजर का रस आंखों को स्वस्थ रखने और बीमारी से बचाने के लिए लाभदायक है।

बवासीर के लिए

बवासीर के लिए
3/6

बवासीर या पाइल्स एक खतरनाक और गंभीर बीमारी है। सामान्य भाषा में इसको खूनी और बादी बवासीर के नाम से जाना जाता है। इसमें मिर्च मसाला युक्त खानपान को पूरी तरह से बंद कर देना पड़ता है। इसके सेवन से तकलीफ बढ़ जाती है। इससे बचने के लिए दिन में तीन बार अदरक के रस में घी डालकर सेवन करें। या मूली का सेवन करें।

पथरी के लिए

पथरी के लिए
4/6

जंकफुड खाने और पानी कम पीने की वजह से पथरी होना आजकल एक आम समस्या बन गयी है। पथरी की समस्या किडनी में होती है जिसमें इंसान को काफी तकलीफ झेलनी पड़ती है। पथरी की समस्या अधिकतर 20 से लेकर 30 साल तक के लोगों में अधिक देखने को मिलती है। बिना ऑपरेशन के पथरी की समस्या को ठीक करने के लिए नियामित तौर पर कद्दू का रस, गाजर का रस और ककड़ी का रस का सेवन करें।

भूख बढ़ाने के लिए

भूख बढ़ाने के लिए
5/6

तनाव व फ्रस्ट्रेशन की वजह से कई लोगों को भूख ना लगने की समस्या होती है। जिसके लिए डॉक्टरों के चक्कर लगाने पड़ जाते हैं। जबकि अपने आहार में सुबह खाली पेट नींबू का पानी पीना शुरू कर देने से इस समस्या से निजात मिल सकती है।

दमा के लिए

दमा के लिए
6/6

दमा सांस की समस्या है जिसके बारे में कहा जाता है कि इसके एक बार लग जाने से ताउम्र साथ रहती है और इसकी दवाई भी जिंदगी भर चलती है। जबकि नियमित तौर पर अदरक, तुलसी, मूंग का सूप, लहसुन और गोभी का सेवन कर इस बीमारी को ठीक किया जा सकता है।

Disclaimer