आंखों के आसपास की त्वचा से संबंधित समस्याएं

आंखों की सुंदरता केवल आंखों की चमक से ही नहीं बल्कि आंखों के आसपास की त्वचा के स्वस्थ होने से भी होती है। आंखों के आसपास की त्वचा काफी संवेदनशील होती है। डार्क सर्कल, आंखों के किनारे लकीरें, धब्बे आदि त्वचा के इस क्षेत्र में होने वाली समस्याएं हैं।

Shabnam Khan
Written by: Shabnam Khan Published at: Dec 20, 2014

आंखों के पास की त्वचा की समस्याएं

आंखों के पास की त्वचा की समस्याएं
1/8

जब आप किसी व्यक्ति से पहली बार बात करते हैं तो आप दोनों की नजरें जरूर मिलती हैं। इसका मतलब, कोई जब आपसे मुखातिब होता है तो आपकी आंखों की ओर देखता है। आंखों में चमक होना आपके अच्छे शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य की निशानी है। लेकिन उन्हीं आंखों के आसपास की त्वचा अगर समस्याग्रस्त हो तो आपके सौंदर्य में कमी जरूर आएगी। आंखों की समस्या के बारे में तो आपको अक्सर जानकारियां मिलती ही रहती हैं लेकिन आप आंखों के आसपास की त्वचा से संबंधित समस्याओं के बारे में शायद ही जानते होंगे। Image Source - Getty Images

बाकी त्वचा के मुकाबले अधिक संवेदनशील

बाकी त्वचा के मुकाबले अधिक संवेदनशील
2/8

वैसे तो पूरी त्वचा बहुत संवेदनशील अंग है लेकिन आंखों के आसपास की त्वचा को अधिक संवेदनशील माना जाता है। याद कीजिए, जब ब्यूटी पार्लर में आपके चेहरे पर पैक लगाया जाता है तो केवल आंखों के आसपास के हिस्से को छोड़ दिया जाता है। या फिर, ब्लीच के डिब्बे पर दिए गए निर्देशों में भी आंखों के आसपास की त्वचा पर ब्लीच न लगाने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि आंखों के आसपास की त्‍वचा बहुत कोमल और नाजुक होती है। इसकी जरुरत बाकी त्वचा से अलग होती है। Image Source - Getty Images

डार्क सर्कल

डार्क सर्कल
3/8

खूबसूरती पर दाग लगाने के लिये कई त्‍वचा सम्‍बन्‍धी समस्‍याएं हैं, जिनमें से आंखों के नीचे पड़े काले घेरे यानी डार्क सर्कल आम होते हैं। यह दिक्कत कई वजहों जैसे शरीर में पोषक तत्वों की कमी होना, नींद न आना, मानसिक तनाव या फिर बहुत ज्यादा देर तक कंप्यूटर सिस्टम पर काम करने के कारण भी हो सकती है। इन डार्क सर्कल की वजह से व्यक्ति थका हुआ और उम्रदराज भी नजर आता है। जिन युवतियों का हीमोग्लोबिन का स्तर 10 से कम हो जाए, उनमें काले घेरे की संभावना अधिक देखी जाती है। Image Source - Getty Images

ज़ेन्थेलाज्मा

ज़ेन्थेलाज्मा
4/8

निचली पलकों के आसपास की त्वचा पर कभी-कभी पीले धब्बे उभर आते हैं। ये समस्या ज़ेन्थेलाज्मा कहलाती है। ये धब्बे धीरे-धीरे बढ़ने लगते हैं। कुछ महिलाओं की ऊपरी पलकों के पास की त्वचा में भी ये समस्या हो जाती है। इन धब्बों में हालांकि दर्द या खुजली जैसी समस्या नहीं होती लेकिन ये देखने में भद्दे लगते हैं और इन्हें सौंदर्य प्रसाधनों की मदद से छिपाना भी मुश्किल होता है। ये समस्या उन लोगों को हो सकती है जिनकी डायबिटीज बढ़ जाती है। Image Source - Getty Images

मिलिआ

मिलिआ
5/8

यह त्वचा पर पसीने की ग्रंथियों का ब्लॉक होता है। हालांकि ये कहीं भी दिख सकता है लेकिन आंखों के आसपास की त्वचा पर ये ज्यादा दिखता है। यह वाइटहेड्स जैसे लगते हैं लेकिन ये वो होते नहीं हैं। बिना ट्रीटमेंट के मिलिआ (milia)कम नहीं होते। कुछ शारीरिक गड़बड़ियों के कारण मिलिआ हो जाते हैं। कम उम्र में ही वो बढ़ भी जाते हैं। यह पूरी तरह से सौंदर्य से जुड़ी समस्या है। इसका उपचार लेजर तकनीक से किया जा सकता है। Image Source - Getty Images

सिरिंगोमा

सिरिंगोमा
6/8

सिरिंगोमा (syringoma) त्वचा के रंग की गांठ या फिर ढेर सा होता है जो आंखों के आसपास की त्वचा पर साफ दिखता है। इस समस्या में त्वचा ढीली पड़ जाती है और सौंदर्य में कमी आती है। जिन लोगों की त्वचा पर सिरिंगोमा होते हैं, उनको ये समस्या बार-बार हो जाती है। ये समस्या आनुवांशिक भी होती है। इस समस्या का निदान लेजर तकनीक से उपचार करना है। Image Source - Getty Images

आंखों के पास लकीरें

आंखों के पास लकीरें
7/8

आंखों के किनारों से हेयरलाइन तक लकीरें जैसी बन जाती हैं। इन लकीरों को क्रोज़ फीट (Crow’s feet) या लाफ लाइन्स कहा जाता है। इन्हें लाफ लाइन्स इसलिए कहा जाता है क्योंकि ये मुख्य रूप से हंसने के दौरान दिखाई पड़ती हैं। इस समस्या पर अक्सर सौंदर्य विशेषज्ञ टॉक्सिन इंजेक्शन की सलाह देते हैं। हर 4-6 महीने में ये इंजेक्शन लगवाना पड़ता है। जब इन लकीरों की शुरुआत हो तभी इंजेक्शन ले लेना चाहिए क्योंकि अगर ये लकीरें स्थायी हो जाती हैं तो इनके उपचार में लंबा वक्त लगता है। Image Source - Getty Images

आंखों के पास की त्वचा की घरेलू देखभाल

आंखों के पास की त्वचा की घरेलू देखभाल
8/8

आंखों के आसपास की त्वचा बहुत संवेदनशील होती है। अगर आप चाहते हैं कि आपके सौंदर्य में यह किसी प्रकार की रुकावट न बने तो नियमित रूप से कुछ घरेलू उपायों को अपनाएं। सबसे पहले, भरपूर नींद लें। नींद न ले पाने की वजह से डार्क सर्कल होना सबसे आम समस्या है। आंखों पर खीरे या कच्चे आलू की स्लाइज रखें, और 15 मिनट के लिए आंखों को आराम दें। इसके अलावा, रात को सोने से पहले आई जेल या एलोवेरा जेल से आंखें बंद करके सर्कल मोशन में मसाज करें। इससे ब्लड सर्कुलेशन सुधरेगा और यहां की त्वचा स्वस्थ होगी। Image Source - Getty Images

Disclaimer