फिट और हेल्‍दी रहना है तो इस तरह से डायट में शामिल करें तिल और शहद

अपने प्रतिदिन के आहार में शहद और तिल को अवश्य शामिल करना चाहिए। यह आपको फिट और स्वस्थ रखते हैं।ये दोनों पदार्थ शरीर को कई प्रकार के पोषक तत्व प्रदान करते हैं। इन्हें आपस में मिलाने पर ये बहुत अधिक ऊर्जा प्रदान करते हैं।

Aditi Singh
Written by:Aditi Singh Published at: Dec 24, 2015

तिल और शहद

तिल और शहद
1/5

शहद को आयुर्वेद में अमृत माना गया है। रोजाना सही ढंग से शहद लेना सेहत के लिए अच्छा होता है।शहद में विटामिन का भंडार पाया जाता है । शहद में 80 प्रतिशत प्राकृतिक चीनी, 19 प्रतिशत जल और 2 प्रतिशत खनिज की मात्रा रहती है। तिल में कई तरह के लवण जैसे कैल्श‍ियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक, मोनो-सैचुरेटेड फैटी एसिड और सेलेनियम होते हैं। तिल में कई तरह के पोषक तत्‍व पाये जाते हैं जैसे, प्रोटीन, कैल्शियम, बी काम्‍प्‍लेक्‍स और कार्बोहाइट्रेड आदि। जब शहद और तिल को आपस में मिलाया जाता है तो इससे होने वाले स्वास्थ्य लाभ बहुत बढ़ जाते है।Image Source-Getty

मजबूत बनाता है प्रतिरक्षा प्रणाली

मजबूत बनाता है प्रतिरक्षा प्रणाली
2/5

ऐसे लोग जिन्हें मीठा खाना पसंद होता है, उनके लिए शहद एक अच्छा विकल्प है। ऐसे पदार्थ खाएं जिनमें शहद प्रचुर मात्रा में हो क्योंकि यह न सिर्फ वज़न को नियंत्रित करता है बल्कि यह मुंह के स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है। शहद और तिल का मिश्रण प्रतिरक्षा तंत्र के लिए लाभदायक होता है। शहद में उपस्थित गुण प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होते हैं। तिल के बीज शरीर में हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस की वृद्धि को रोकते हैंImage Source-Getty

दर्द को दूर करें

दर्द को दूर करें
3/5

तिल और शहद को साथ में खाने से पेट दर्द से आराम मिलता है। मासिक धर्म के दौरान होने वाले पेट दर्द को कम करने में यह बहुत प्रभावकारी होता है। तिल में आयरन (लौह तत्व) प्रचुर मात्रा में होता है जो माहवारी को नियमित करने में सहायक है।शहद और तिल को साथ में खाने से पेट से संबंधित बीमारियों का उपचार किया जा सकता है। शहद में एंटी ऑक्सीडेंट होते हैं जो पेट की परत की रक्षा करते हैं तथा तिल पेट के अल्सर को दूर करने में सहायक होता है।Image Source-Getty

हड्डियों के लिए फायदेमंद

हड्डियों के लिए फायदेमंद
4/5

इन दोनों ही घटकों में समान मात्रा में कैल्शियम होता है जो हड्डियों को मज़बूत बनाता है। इसे नियमित तौर पर खाने से आपकी हड्डियां उम्र के साथ कमज़ोर नहीं होती।तिल और शहद में ऊर्जा प्रचुर मात्रा में होती है। अत: जब इन दो घटकों को आपस में मिलाया जाता है तो शरीर को प्रचुर मात्रा में उर्जा प्राप्त होती है जो आपको दैनिक गतिविधियों को करने में सहायक होते हैं।Image Source-Getty

डायबिटीज का निंयत्रण

डायबिटीज का निंयत्रण
5/5

टाइप 2 के डायबिटीज को रोकने के लिए आपको अपने आहार में तिल अवश्य शामिल करना चाहिए, विशेष रूप से यदि आपके परिवार में कोई इससे ग्रसित है तो। दूसरी ओर डायबिटीज़ के रोगी शक्कर के स्थान पर शहद का उपयोग कर सकते हैं।तिल से होने वाला एक सबसे बड़ा स्वास्थ्य लाभ यह है कि यह शरीर में कोलेस्ट्राल को कम करते हैं। इन बीजों को सलाद या डिज़र्ट पर छिड़का जा सकता है या इसे कच्चा भी खाया जा सकता है।Image Source-Getty

Disclaimer