जब लगे ध्‍यान करना है नामुमकिन तो अपनायें ये टिप्‍स

ध्‍यान सिर्फ आंखें मूंदकर बैठने का नाम नहीं है। ध्‍यान किसी काम को डूबकर करने का नाम है। ध्‍यान वह प्रक्रिया है, जब आप किसी काम में इतना डूब जाएं कि आपको अपने आसपास की फिक्र ही न रहे। जानिये, कैसे आप ध्‍यान की परंपरागत विधियों से इतर रोजमर्रा के कामों से ध्‍यान का मजा ले सकते हैं।

Bharat Malhotra
Written by: Bharat MalhotraPublished at: Mar 31, 2014

तनाव दूर करे ध्‍यान

तनाव दूर करे ध्‍यान
1/16

तनाव दूर करने के लिए ध्‍यान बेहद कारगर उपाय है। लेकिन, अकसर लोगों को इस बात की शिकायत होती है कि वे चाहकर भी ध्‍यान नहीं कर पाते। उन्हें लगता है कि  ध्‍यान का अर्थ घंटा भर बिना किसी मकसद से बैठे रहना है। उन्‍हें यकीन नहीं होता कि वे ऐसा कर सकते हैं। लेकिन, हर बार ऐसा नहीं होता।

बनी बनायी छवि को तोड़ें

बनी बनायी छवि को तोड़ें
2/16

ध्‍यान का नाम सुनते ही आपके जेहन में पहली तस्‍वीर किसी योगी की आती है। जो शांत चित्‍त होकर किसी झील या दरिया के किनारे ध्‍यानमग्‍न बैठा है। कमर सीधी और पद्मासन में लीन बैठकर वह दुनिया से विरक्‍त हो चुका है। लेकिन, हकीकत इससे काफी अलग है। ध्‍यान का कैनवॉस काफी बड़ा है।

सिर्फ बैठकर ही नहीं होता ध्‍यान

सिर्फ बैठकर ही नहीं होता ध्‍यान
3/16

ध्‍यान की शुरुआत करने वालों, अथवा वे लोग जो पहले से ध्‍यान करते चले आए हैं। उन्‍हें यह बात समझनी चाहिए कि ध्‍यान केवल बैठकर ही नहीं किया जाता। आप दिल को खुश करने वाले छोटे से छोटे काम को ध्‍यान की तरह इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

अभ्‍यास से होता है सब

अभ्‍यास से होता है सब
4/16

जब आप अपने जीवन में अधिक उत्‍साह महसूस करने लगते हैं, तो आप छोटी सी छोटी बात का आनंद उठाते हो। इस दौरान आपको न तो भविष्‍य की चिंता सताती है और न ही बीती हुई बातो का मलाल होता है। यह सब अभ्‍यास से आता है। और जब आप इसमें परांगत हो जाते हैं, तो यह आसान लगने लगता है। और इसके बाद सब खूबसूरत लगने लगता है।

हर लम्‍हा जियें

हर लम्‍हा जियें
5/16

यदि आप पूरा दिन खुशी और उत्‍साह के साथ बिताना चाहते हैं, तो सबसे पहले उस लम्‍हें में जियें। हर चीज को महसूस करें, हर शारीरिक और मानसिक संवेदना की अनुभूति लें। धीरे-धीरे सांस लें और चेहरे पर एक मुस्‍कान बनाये रखें। आप एक साथ सब चीजों में महारत हासिल करने की न सोचें। धीरे-धीरे लगातार प्रैक्टिस करने से ही आप आगे बढ़ते रहेंगे।

संगीत सुनें

संगीत सुनें
6/16

हर प्रकार के वाद्य यंत्र का आनंद लें। गीत के बोलों को जरा अलग कर, केवल संगीत की धुन का आनंद लें। यदि संभव हो, तो साथ गुनगुनायें। अपने शरीर में उन धुनों को महसूस करें। ऐसा महसूस करें जैसे आपका शरीर उन लहरियों पर झूम रहा है।

कुछ पियें और जियें

कुछ पियें और जियें
7/16

दिन की शुरुआत किसी तरल पदार्थ से करें। दिन के पहले पांच मिनट अपने आपके लिए रखें। गर्मागरम चाय, कॉफी या पानी से अपने दिन की शुरुआत करें। आंखें बंद कर एक-एक घूंट को महसूस करें। कहते हैं, चाय जुबां से उतरकर आत्‍मा तक जाती है।

योग करें

योग करें
8/16

योग आपकी जिंदगी को खुशनुमा और सेहतमंद बनाने में मदद करता है। अगर आप अपने जीवन में सिर्फ योग को शामिल कर लें, तो आपको किसी अन्‍य व्‍यायाम की आवश्‍यकता नहीं है। आप चाहें दिन में केवल 15 से 20 मिनट की योग क्‍यों न करें, आपको इसका जरूर फायदा मिलता है।

ड्राइविंग द किंग

ड्राइविंग द किंग
9/16

ड्राइव करते समय अकसर हम सड़क पर किसी से उलझ पड़ते हैं। रास्‍ते का तनाव हमारी थकान को काफी बढ़ा देता है। तेज संगीत को बंद करें और बेकार में किसी से बहस करने से बचें। इस तरह आप अपने लिए कुछ वक्‍त निकाल पाएंगे। और यही तो ध्‍यान है।

पैदल चलें

पैदल चलें
10/16

पैदल चलने से आपको काफी फायदा हो सकता है। धीरे-धीरे चलें। बहुत धीरे-धीरे। सांस अंदर लेते समय अपने पैरों को उठायें और पैर नीचे रखते समय सांस छोड़ें। इस क्रिया को लगातार दोहराते रहें। पैदल चलना अपने साथ वक्‍त बिताने का बहुत ही कारगर जरिया है।

Disclaimer