सिजेरियन से हुए इंफेक्‍शन की कैसे करें देखभाल

सिजेरियन डिलिवरी इस दिनों बहुत आम हो गई है। लेकिन कई बार सिजेरियन के बाद इंफेक्‍शन भी हो जाता है। इसलिए इंफेक्‍शन की देखभाल के उपायों की जानकारी होनी चाहिए।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Oct 21, 2015

सिजेरियन से हुए इंफेक्‍शन की देखभाल

सिजेरियन से हुए इंफेक्‍शन की देखभाल
1/5

सिजेरियन डिलिवरी इस दिनों बहुत आम हो गई है। दिनचर्या और महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य के कारण आजकल सिजेरियन डिलीवरी ज्‍यादा हो रही है। अगर डिलीवरी की निर्धारित तिथि बीत जाने पर भी डिलिवरी नहीं होती तो डॉक्‍टर सिजेरियन की सलाह देते हैं। साथ ही अगर गर्भवती की पहले भी सीजेरियन से डिलीवरी हो चुकी है तो डॉक्‍टर दूसरी बार भी सी-सेक्‍सन कराने की सलाह देते हैं। यहां तक कि कुछ गर्भवती तो नार्मल डिलिवरी के डर के कारण सिजेरियन डिलिवरी करवाना पसंद करती है। लेकिन टांके ठीक होने में थोडा समय लगने के कारण सिजेरियन डिलिवरी के बाद देखभाल बहुत जरूरी होती है। कई बार सिजेरियन के बाद इंफेक्‍शन भी हो सकता है।  इसलिए इंफेक्‍शन की देखभाल के उपायों की जानकारी होनी चाहिए। पर इसमें क्‍या-क्‍या सावधानियां रखनी चाहिए इसके बारे में हम इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से जानेगें।

घाव की निगरानी

घाव की निगरानी
2/5

अगर आपको सी-सेक्‍शन हुआ है तो आपको घाव की उपस्थिति पर बारी‍की से नजर रखनी होगी और डाक्‍टर के निर्देंशों का पालन करना भी महत्‍वपूर्ण होता है। अगर आप घाव को देखने में असमर्थ है तो अपने किसी नजदीकी को घाव की हर दूसरे दिन जांच करने के लिए कहें ताकी संक्रमण के चेतावनी संकेत पर नजर रख सकें। इसके अलावा सिजेरियन आपको खून के थक्‍के जैसी कई अन्‍य समस्‍याओं के जोखिम में भी डाल सकता है।

कुछ दिनों के लिए नहाने से बचें

कुछ दिनों के लिए नहाने से बचें
3/5

टांकों के ताजा होने के कारण कुछ दिनों के लिए खुद को नहाने से बचाना चाहिए। अगर नहाना भी है तो डॉक्‍टर की सलाह लेने के बाद ही नहाना चाहिए। क्‍योंकि पानी के प्रयोग से इंफेक्‍शन में समस्‍या हो सकती है और घाव अधिक दर्दनाक हो सकता है। साथ ही खुले और हमेशा सूती कपड़े पहनें। त्वचा को नम और ड्राई होने से बचाता है। इसके अलावा घाव पर बॉडी लोशन न लगाये।

संतुलित आहार

संतुलित आहार
4/5

सिजेरियन से होने वाले घाव के संक्रमण से जल्‍दी रिकवरी के लिए महिला को अपने आहार में विटामिन सी को शामिल करना चाहिए। इसमें लिए आपको अपने आहार में ब्रोकली, पालक, साग, हरी मटर, संतरा, पीच, मौसमी, खुबानी आदि को शामिल करें। इसमें बहुत अधिक मात्रा में विटामिन सी होता है। इसके साथ ही इंफेक्‍शन के दौरान तेल मसालों से भी दूर बनाकर रखनी चाहिए।

दवाओं को पूरा कोर्स करें

दवाओं को पूरा कोर्स करें
5/5

अपने डॉक्टर या नर्स द्वारा दिए गए घाव देखभाल के निर्देश और पश्चात दवा निर्देशों का पालन करें। अगर आपके इस बारे में कोई भी सवाल है, तो अपने डॉक्टर को फोन करने में संकोच न करें। साथ ही अगर आपको एंटीबायोटिेक दवाओं को लेने के लिए कहा गया है तो इलाज का पूरा कोर्स समाप्‍त होने तक खुराक को छोड़ें नहीं न ही इनके उपयोग को बीच में बंद करें। Image Source : Getty

Disclaimer