महावारी का बालों पर पड़ता है ये दुष्प्रभाव

पीरियड के ये कुछ दिन वाकई परेशानी भरे होते हैं, और शरीर में इन दिनों कई परेशान करने वाले बदलाव आते हैं। आज हम आपको पीरियड्स के दौरान बोलों पर पड़ने वाले कुछ दुष्प्रभावों के बारे में बाते रहें हैं।

Devendra Tiwari
Written by: Devendra Tiwari Published at: Mar 25, 2016

पीरियड में बालों पर दुष्प्रभाव

पीरियड में बालों पर दुष्प्रभाव
1/5

पीरियड अर्थात महावारी में ऐंठन, पेट दर्द और तनाव के साथ क्या आपने कभी गौर किया है कि आपके बालों पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। पीरियड के ये कुछ दिन वाकई परेशानी भरे होते हैं, और शरीर में इन दिनों कई परेशान करने वाले बदलाव आते हैं। आपके बाल और त्वचा भी इससे अछूते नहीं हैं। आज हम आपको पीरियड्स के दौरान बोलों पर पड़ने वाले कुछ दुष्प्रभावों के बारे में बाते रहें हैं, ताकि आप इसका सामना करने के लिये पहले से तैयार हो पाएं। Images source : © Getty Images

बेहद संवेदनशील हो जाता है सिर

 बेहद संवेदनशील हो जाता है सिर
2/5

इन दिनों सिर में बेहद चिपचिपेपन के साथ आपके बाल और खोपड़ी भी बेहद संवेदनशील हो जाते हैं। इस दौरान बालों को स्ट्रेट कराने या कोई और केमिकल ट्रीटमेंट, यहां तक कि शैंपू करने से ज्यादा दर्द होता है, तो पीरियड्स के समय पार्लर जानें से बचें। Images source : © Getty Images

कैसे करें इस समस्या का सामना

कैसे करें इस समस्या का सामना
3/5

ऐसा तो नहीं है कि आप इन दिनों अपने बालों की देखभाल या साज-संवार करना ही छोड़ दें। लेकिन आप अपने पीरियड्स आने से पहले और इस दौरान सही स्थिति की पता कर बेहतर ढ़ंग से इस समस्या का सामना कर सकती हैं। इसके लिये सबसे बेहतर तरीका है कि आर पीरियड ट्रैकिंग एप का इस्तेमाल करें। इस तरह आप इन दिनों का पहले से ही सही ध्यान रख पाएंगी और पीरियड्स के दौरान तेल या ड्राइनेस बढ़ाने वाले शऐंपू आदि के इस्तेमाल से बच पाएंगी।  Images source : © Getty Images

आपके बालों की बनावट सीधे हार्मोन से संबंधित होती है

आपके बालों की बनावट सीधे हार्मोन से संबंधित होती है
4/5

तनाव, आर्द्रता, और रासायनिक उपचार के अलावा बालों की बनावट में हार्मोन एक बड़ी भूमिका निभाते हैं। आपका एस्ट्रोजन का स्तर आपके मासिक चक्र की दूसरी छमाही के दौरान अपने उच्चतम पर होता है। और इस दौरान ज्यादातर लड़कियों के त्वचा और बाल बेहतर लगते हैं। लेकिन परियड्स के ठीक पहले होने वाला टेस्टोस्टेरोन का उच्च स्तर बालों को रूखा और बेजान बनाता है। इसका साधा सा मतलब है कि एस्ट्रोजन का उच्च स्तर आपके बालों के लिये अच्छा होता है और एस्ट्रोजन का स्तर बुरा। Images source : © Getty Images

तैलीय हो जाते हैं बाल

तैलीय हो जाते हैं बाल
5/5

पीएमएस के दौरान बढ़ने वाला एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का स्तर बालों और त्वचा में अधिक तेल पैदा करता है। जिसके कारण बाल बेहद चिपचिपे और रफ दिखाई देने लगते हैं। तो परियड्स के दिनों की सही जानकारी रख आप पहले से ही बलों की ऑयलिंक करना बंद कर सकती हैं, ताकि समस्या को काफी हद तक कम किया जा सके। लेकिन जिन लड़कियों की त्वचा रूखी होती है, उनके लिये इन बढ़े हार्मोनों का फायदा होता है और इस दौरान उनके बाल ठीक रहते हैं। Images source : © Getty Images

Disclaimer