पेनकिलर का शरीर पर प्रभाव

किसी भी प्रकार के दर्द को दूर करने के लिए हम बिना सोचे-समझे पेनकिलर लेते हैं, लेकिन इसके दुष्‍प्रभाव बहुत ही खतरनाक होते हैं, इसके कारण एसिडिटी, डायरिया, जैसी समस्‍या हो सकती है।

Nachiketa Sharma
Written by: Nachiketa SharmaPublished at: Oct 08, 2014

नुकसानदेह है पेनकिलर

नुकसानदेह है पेनकिलर
1/8

किसी भी प्रकार का दर्द हो हम बिना सोचे-समझे तुरंत पेनकिलर ले लेते हैं। हालांकि यह शरीर में होने वाले किसी भी प्रकार के दर्द को तुरंत दूर तो कर देता है, लेकिन इसके दुष्प्रभाव खतरनाक हो सकते हैं। दर्दनिवारक दवा का सेवन करने से लाभ तो मिल जाता है लेकिन इसका शरीर पर विपरीत प्रभाव भी पड़ता है। इसलिए पेनकिलर से दूर रहने की कोशिश करनी चहिए। image source - getty images

क्‍या होती है समस्‍या

क्‍या होती है समस्‍या
2/8

पेनकिलर का सेवन करने से शरीर पर कई तरह के प्रभाव दिखते हैं। इनके अलग-अलग कांबिनेशन के अधिक सेवन से एसिडिटी, उल्टी, डायरिया, पेट दर्द जैसी समस्‍यायें हो सकती हैं। अगर आपने इन दवाओं का सेवन लंबे समय किया तो किडनी और ब्लड प्रेशर से संबंधित समस्‍या हो सकती है। इनका साइड-इफेक्‍ट हड्डियों पर भी पड़ सकता है। image source - getty images

जानलेवा भी है

जानलेवा भी है
3/8

अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंटोल में छपे एक रिपोर्ट की मानें तो केवल अमेरिका में ही हर साल लगभग 15 हजार लोगों की मौत पेनकिलर के ओवरडोज के कारण हो जाती है। ऐसे लोग दर्द से छुटकारा पाने के लिए अधिक दवाओं का सेवन करते हैं और इसका साइड-इफेक्‍ट जानलेवा हो जाता है। image source - getty images

दिमाग पर असर

दिमाग पर असर
4/8

दर्दनिवारक दवा का सेवन करने के बाद सबसे पहले असर दिमाग पर पड़ता है। ये दवायें दिमाग में स्थित प्रोटीन को अपना शिकार बनाती हैं। पेनकिलर को नशीला पदार्थ भी माना जाता है। ये दवायें दिमाग के साथ-साथ रीढ़ की हड्डी सहित कई अंगों को प्रभावित करती है। image source - getty images

दिमाग भ्रमित होता है

दिमाग भ्रमित होता है
5/8

पेनकिलर दिमाग को प्रभावित करती है जिससे व्‍यक्ति को लगता है कि उसे तुरंत आराम मिल गया है। लेकिन इसके कारण ही उल्‍टी, अनिद्रा, मानसिक भ्रम, और कब्‍ज की समस्‍या भी होती है। दिमागी भ्रम के कारण ही व्‍यक्ति को लगता है कि उसका दर्द गायब हो गया। image source - getty images

आदत बन जाती है

आदत बन जाती है
6/8

पेनकिलर खाने वालों को तुरतं फायदा होता है, जिससे उनको यह बहुत ही प्रभावशाली दवा लगती है। इसके कारण हर समस्‍या में वे इन दवाओं का सेवन करने से पीछे नहीं रहते हैं। इस तरह से व्‍यक्ति के शरीर में पेनकिलर की अधिक मात्रा होती जाती है। इसके कारण व्‍यक्तित्‍व में बदलाव, मति भ्रम, नींद न आना, खांसी, नाक बहना, आखें लाल होने जैसी समस्‍यायें होती हैं। image source - getty images

गर्भावस्‍था में अधिक नुकसानदेह

गर्भावस्‍था में अधिक नुकसानदेह
7/8

गर्भावस्‍था में पेनकिलर का सेवन करने से गर्भ में पल रहे बच्‍चे का विकास रुक सकता है। गर्भपात और बांझपन की समस्‍या भी पेनकिलर से हो सकती है। इसलिए गर्भावस्‍था में इन दवाओं का सेवन बिलकुल भी नहीं करना चाहिए। image source - getty images

हड्डियों और मांसपेशियों में असर

हड्डियों और मांसपेशियों में असर
8/8

हालांकि पेनकिलर का सेवन करने से दर्द दूर होता है, लेकिन यह हड्डियों और मांसपेशियों का दर्द बढ़ा देता है। इसके कारण हड्डियों के कुछ हिस्‍सों में दर्द और मांसपेशियों में दर्द की शिकायत देखी गई है। image source - getty images

Disclaimer