तलाक के दुख से इस तरह उभरें पुरुष

तलाक से दोनों पक्ष को बराबर दुख होता है। लेकिन एक समय के बाद महिलाएं इस दुख से पार पा लेती हैं जबकि पुरुषों की लाइफ में उदासीनता आ जाती है। ऐसे में तलाक के दुख से पार पाने के लिए ये करें।

Gayatree Verma
Written by: Gayatree Verma Published at: Mar 09, 2016

तलाक के बाद का जीवन

तलाक के बाद का जीवन
1/5

तलाक जब भी होता है तो उस वक्त महिलाओं को ही बेचारगी की नजरों से देखा जाता है। जबकि तलाक के बाद महिलाओं की हालत पुरुषों से ठीक ही रहती है। हाल ही में लंदन की किंग्सटन यूनिवर्सिटी की स्टडी में इस बात की पुष्टि हुई है कि तलाक होने के पांच साल बाद नकारात्मक वित्तीय असर में भी महिलाएं पुरुषों की तुलना में ज्यादा खुश रहती हैं। ऐसा महिलाओं का खुद को आजाद महसूस करने के कारण होता है।

पुरुष बदलाव के लिए तैयार नहीं

पुरुष बदलाव के लिए तैयार नहीं
2/5

पुरुषों का बदलाव से गुजरना कम ही हो पाता है जिस कारण वो तलाक के बाद होने वाले बदलावों से हताश हो जाते हैं। तलाक के बाद महिलाएं आजादी जैसे शब्द को अपनी सच्चाई मानकर खुद को रिलेक्स महसूस करती हैं जबकि पुरुषों के पास ऐसा कोई शब्द भी नहीं होता। इस कारण भी महिलाओं की तुलना में पुरुषों पर तलाक का विपरीत असर पड़ता है। अगर आप या आपका कोई दोस्त तलाक जैसी परिस्थिती से गुजर रहा है तो उन्हें समझाएं और तलाक से पार लगने में मदद करें।

बच्चों को अपने पास रखें

बच्चों को अपने पास रखें
3/5

अगर शादी के बाद आपके बच्चे हैं तो उन्हें कस्टडी में लेने की कोशिश करें। तलाक के बाद पुरुषों की लाइफ खाली हो जाती है जबकि महिलाओं की लाइफ में दोगुनी जिम्मेदारी आ जाती है जिससे उन्हें खाली बैठने और सोचने का समय नहीं मिलता और वो अपनी लाइफ और जिम्मेदारियों में आगे बढ़ती जाती हैं। जबकि पुरुषों की लाइफ पूरी तरह से खाली और अकेली हो जाती है। जिस कारण उन्हें जिंदगी उदासीन लगने लगती है। इस उदासीनता से बचने का एक ही तरीका है जिम्मेदारियों का बोझ। बच्चों की जिम्मेदारी लें। इससे आपकी लाइफ उदासीन होने से बच जाएगी।

एक्स के खिलाफ कुछ ना बोलें

एक्स के खिलाफ कुछ ना बोलें
4/5

कई बार तलाक होने के बाद दोनों परिवार और महिला व पुरुष भी एक-दूसरे के खिलाफ बोलने लगते हैं। ये गलत है। तलाक के बाद अपनी एक्स वाइफ के बारे में ना बुरा सोचें और ना किसी से बुरा बोलें। लोग एक्स की बुराई अच्छा फील करने के लिए करते हैं जबकि कुछ दिनों के बाद इसका उलटा असर होने लगता है। इससे कहीं न कहीं आप खुद अपने नजर में भी गिरने लगते हैं। जिससे तलाक का दर्द और खुद की नजरों में गिरना, दोनों ही जीवन को उदासीन बना देता है। इसलिए तलाक के बाद एक्स की बुराई बिल्कुल भी ना करें।

सोशल लाइफ में व्यस्त हों

सोशल लाइफ में व्यस्त हों
5/5

तलाक के बाद पुरुष खुद को काम में या बार में व्यस्त ऱखने लगते हैं। जबकि ये समस्या का समाधान नहीं है। तलाक के बाद खुद को सोशल लाइफ में वयस्त करें। ऑफिस के बाद या सप्ताह में दो दिनों के लिए कोई एनजीओ या वर्कशॉप ज्वॉयन करें। इससे आपको दूसरे और अनजान लोगों से जुड़ने का मिलेगा। अनजान लोगों से जुड़ने का एक फायदा होता है कि वहां आपकी पुरानी लाइफ के बारे में बात करने वाले बहुत कम लोग होते हैं। इसलिए तलाक के बाद सोशल लाइफ में खुद को वयस्त रखने की कोशिश करें।

Disclaimer