इन 7 समस्याओं का आसान घरेलू नुस्खा हैं ऑरेगैनाे, जानें इस्तेमाल का तरीका

ऑरेगैनाे सेहत, त्वचा और बालाें के लिए बेहद फायदेमंद हाेता है। इसे अलग-अलग तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे तेल, पाउडर और बीज के रूप में प्रयाेग किया जाता है।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Oct 06, 2021

ऑरेगैनाे (Oregano)

ऑरेगैनाे (Oregano)
1/10

ऑरेगैनाे पाेषक तत्व से भरपूर पौधा है। इसके विभिन्न हिस्साें का उपयाेग आयुर्वेद में कई तरह के राेगाें काे दूर करने के लिए किया जाता है। यह स्वास्थ्य, त्वचा और बालाें के लिए बेहद लाभकारी हाेता है। ऑरेगैनाे काे अजवायन भी कहा जाता है। डिशेज में इसके उपयाेग से खाने का स्वाद बढ़ जाता है। यह पाेषक तत्वाें से भरपूर एक पौधा हाेता है, जिसकी पत्तियाें, तेल और बीजाें का उपयाेग किया जाता है। आप चाहें ताे कुछ समस्याओं के लक्षणाें में कमी करने के लिए भी इसका प्रयाेग घरेलू उपाय के रूप में कर सकते हैं। जानें ऑरेगैनाे के घरेलू उपाय-

ऑरेगैनाे में मौजूद पाेषक तत्व

ऑरेगैनाे में मौजूद पाेषक तत्व
2/10

ऑरेगैनाे पाेषक तत्वाें से भरपूर हाेता है, इसलिए इसे स्वास्थ्य के साथ ही त्वचा और बालाें के लिए भी लाभदायक माना जाता है। ऑरेगैनाे में प्राेटीन, फाइबर, कार्बाेहाइड्रेट, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक, कॉपर, मैंगनीज, विटामिन सी, नियामिन भरपूर हाेता है। इसके अलावा ऑरेगैनाे विटामिन ए, फैट, राइबाेफ्लेविन का भी एक अच्छा साेर्स है। ऑरेगैनाें में पाेटैशियम, फॉस्फाेरस और साेडियम भी अच्छा हाेता है। ऐसे में आप इन सभी पाेषक तत्वाें काे पाने के लिए ऑरेगैनाे का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें मौजूद विटामिन ई और विटामिन के बालाें और त्वचा के लिए फायदेमंद हाेता है।

ऑरेगैनाे तेल

ऑरेगैनाे तेल
3/10

ऑरेगैनाें की पत्तियां, तेल और बीज सभी स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हाेते हैं। ऑरेगैनाें के तेल का इस्तेमाल बालाें, त्वचा और जाेड़ाें की मालिश करने के लिए किया जा सकता है। ऑरेगैनाे के तेल काे स्वास्थ्य के साथ ही बालाें और स्किन के लिए भी फायदेमंद माना जाता है। लेकिन अगर आपकी स्किन काफी सेंसिटिव है, ताे इसका उपयाेग डॉक्टर की सलाह पर ही करें।

1. बालाें के लिए ऑरेगैनाे

1. बालाें के लिए ऑरेगैनाे
4/10

ऑरेगैनाे का उपयाेग बालाें के लिए बेहद फायदेमंद हाेता है। इसके इस्तेमाल से हेयरफॉल की समस्या में काफी हद तक आराम मिलता है। दरअसल, ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस बालाें के झड़ने का एक कारण हाे सकता है। ऑरेगैनाें में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर हाेता है, जाे ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस काे कम करने में मदद करता है। जिससे बालाें के झड़ने या टूटने की समस्या से निजात मिलती है। इसके लिए आप ऑरेगैनाें काे अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा आप चाहें ताे ऑरेगैनाे ऑयल से भी सिर या बालाें की मालिश कर सकते हैं। इससे बाल मजबूत हाेते हैं और बाल टूटने से बचते हैं।

2. स्किन के लिए फायदेमंद ऑरेगैनाे

2. स्किन के लिए फायदेमंद ऑरेगैनाे
5/10

स्किन इंफेक्शन या त्वचा के संक्रमण से बचने के लिए ऑरेगैनाे का इस्तेमाल करना बेहद फायदेमंद हाेता है। स्किन इंफेक्शन काे कम करने के लिए आप ऑरेगैनाे एसेंशियल ऑयल का उपयाेग कर सकते हैं। दरअसल, ऑरेगैनाे ऑयल में एंटीबैक्टीरियल गुण हाेते हैं, जाे संक्रमण काे फैलाने वाले बैक्टीरिया काे नष्ट करते हैं। ऑरेगैनाे के तेल से त्वचा की मालिश करने पर स्किन कैंसर से भी बचाव हाेता है। साथ ही इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी गुण हाेते हैं, जाे त्वचा के इंफ्लामेशन या सूजन काे दूर करने में सहायक हाेता है। त्वचा विकाराें काे दूर करने के लिए इसका इस्तेमाल एक अच्छा घरेलू उपाय है, लेकिन उपयाेग से पहले एक स्किन पैच जरूर कर लें।

3. जाेड़ाें के दर्द में राहत दिलाए

3. जाेड़ाें के दर्द में राहत दिलाए
6/10

शरीर में कैल्शियम की कमी हाेने पर अकसर जाेड़ाें में दर्द की शिकायत हाेती है। ऐसे में ऑरेगैनाे का सेवन फायदेमंद हाेता है। इसमें कैल्शियम काफी अच्छी मात्रा में पाया जाता है, जाे हड्डियाें काे मजबूत बनाता है। इसके अलावा इसमें मैग्नीशियम, फॉस्फाेरस, पाेटैशियम, जिंक, विटामिन ए, विटामिन के और कॉपर भी हाेता है, जाे हड्डियाें काे मजबूत बनाता है। जाेड़ाें में दर्द की शिकायत हाेने पर ऑरेगैनाें काे डाइट में शामिल किया जा सकता है। ऑरेगैनाे में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण भी पाए जाते हैं, जाे शरीर की सूजन, ऑस्टियाेअर्थराइटिस के लक्षणाें में कमी करता है। इसके लिए ऑरेगैनाे की पत्तियाें का इस्तेमाल चाय में डाकर किया जा सकता है, जिससे आपकाे इसमें मौजूद सभी जरूरी पाेषक तत्व प्राप्त हाेंगे। इसके अलावा ऑरेगैनाे ऑयल से शरीर की मालिश करना भी फायदेमंद हाेता है।

4. डायबिटीज राेगियाें के लिए लाभकारी

4. डायबिटीज राेगियाें के लिए लाभकारी
7/10

ऑरेगैनाे की पत्तियां टाइप-2 डायबिटीज मरीजाें के लिए काफी फायदेमंद हाेता है। यह टाइप 2 डायबिटीज काे नियंत्रित करने में मदद करता है। ऑरेगैनाें की पत्तियां शरीर में ग्लूकाेज, इंसुलिन काे नियंत्रित करने में मदद करता है। ऑरेगैनाे की पत्तियाें का अर्क ब्लड शुगर लेवल काे कंट्राेल करने में मददगार हाेता है। अगर अजवायन की पत्तियाें का सेवन किया जाए, ताे इससे डायबिटीज राेगियाें की किडनी और लिवर हमेशा स्वस्थ रह सकते हैं। इतना ही नहीं ऑरेगैनाे मेटाबॉलिज्म में भी सुधार करता है। इसलिए आपकाे इसकी पत्तियाें काे अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए। 

5. पेट दर्द में आराम दिलाए

5. पेट दर्द में आराम दिलाए
8/10

गलत खानपान की वजह से अकसर लाेगाें काे अपच, कब्ज, गैस और फूड प्वाइजनिंग की शिकायत रहती है। इस स्थिति में पेट दर्द हाेना एक सामान्य लक्षण है। पेट दर्द हाेने पर आप   ऑरेगैनाे ऑयल का उपयाेग कर सकते हैं। दरअसल, ऑरेगैनाे ऑयल में माेनाेटेरेपिक फिनाेल नामक कंपाउंड हाेता है, जाे पेट में हाेने वाले दर्द में राहत दिलाता है। इसके लिए आप एक गिलास पानी में ऑरेगैनाे ऑयल की कुछ बूंद डालें और इसका सेवन कर लें। इससे आपकाे काफी आराम मिलेगा। इससे कब्ज, गैस और अपच में भी आराम मिलेगा। इन समस्याओं के लिए यह एक अच्छा घरेलू उपाय है।

6. डिप्रेशन कम करने में मददगार

6. डिप्रेशन कम करने में मददगार
9/10

आजकल तनाव, चिंता, डिप्रेशन और एंग्जायटी एक सामान्य समस्या बन गई है। ऐसे में अगर आप इस समस्या से जूझ रहे हैं, ताे इसके लिए ऑरेगैनाे का उपयाेग कर सकते हैं। डिप्रेशन से राहत पाने के लिए आप इसे अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। आप चाहें ताे इसके लिए ऑरेगैनाे ऑयल का भी उपयाेग कर सकते हैं। दरअसल, ऑरेगैनाे ऑयल में कारवाक्रॉल नामक तत्व पाया जाता है, जाे एक नैचुरल एंटीबायाेटिक है। अपने तनाव काे कम करने के लिए आप ऑरेगैनाे ऑयल से मसाज कर सकते हैं। साथ ही इसकाे अपनी डाइट में शामिल करें, ताे भी इसमें आराम मिलेगा।

हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद

हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद
10/10

आजकल हृदय या दिल की बीमारियां बढ़ती जा रही हैं। बच्चे, बड़े और बुजुर्ग सभी हृदय राेगाें से जूझ रहे हैं। धूम्रपान, डायबिटीज और इंफ्लामेशन हृदय राेगाें के मुख्य कारण हैं। अगर आप किसी भी तरह के हृदय राेग से जूझ रहे हैं, ताे इस स्थिति में आप ऑरेगैनाे ऑयल का उपयाेग कर सकते हैं। ऑरेगैनाे के एसेंशियल ऑयल में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण हाेते हैं, जाे इंफ्लामेशन काे शांत करता है, जिससे हृदय राेग का खतरा कम हाेता है। लेकिन अगर आप किसी गंभीर हृदय राेग की बीमारी से जूझ रहे हैं, ताे इस स्थिति में ऑरेगैनाे का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह पर ही करें।

Disclaimer