प्राइवेट पार्ट या आस-पास हुई है फुंसी तो अपनाएं ये 5 घरेलू उपाय

वजाइनल प‍िंपल होने पर दर्द, चुभन, सूजन हो सकती है। इससे बचने के ल‍िए आप कुछ आसान घरेलू नुस्‍खे अपना सकते हैं

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: May 25, 2021

गर्मियों में प्राइवेट पार्ट पर फुंसी की श‍िकायत आम हो जाती है

 गर्मियों में प्राइवेट पार्ट पर फुंसी की श‍िकायत आम हो जाती है
1/7

कई लोग प्राइवेट पार्ट में प‍िंपल या फुंसी की समस्‍या से जूझ रहे होते हैं पर इस समस्‍या को बताने से उन्‍हें शर्म आती है। इसी के चलते बहुत से लोग डॉक्‍टर के पास भी नहीं जाते और समस्‍या बढ़ जाती है क्‍योंक‍ि प्राइवेट पार्ट हमारी बॉडी का एक बहुत संवेदनशील ह‍िस्‍सा है, इस ह‍िस्‍से में अगर आप कोई भी समस्‍या महसूस करते हैं तो अपने डॉक्‍टर से सलाह लें। सेंस‍ेट‍िव होने के कारण प्राइवेट पार्ट में फुंसी होना एक आम समस्‍या है पर इसका इलाज जरूरी है। भले ही फुंसी छोटी हो पर अगर ये सेंसेट‍िव एर‍िया में हो जाए तो तेज दर्द का कारण बनती है। ये समस्‍या खासकर गर्मी के द‍िनों में होती है, क्‍योंक‍ि इस समय शरीर से ज्‍यादा पसीना न‍िकलता है पर आपको हर मौसम में अपने शरीर की सफाई का पूरा ध्‍यान रखना है। अगर फ‍िर भी परेशानी बनी हुई है तो चल‍िए हम आपको बताते हैं कुछ आसान उपाय ज‍िनकी मदद से आप प्राइवेट पार्ट में होने वाले प‍िंपल या फुंसी से छुटकारा पा सकते हैं। 

1. नार‍ियल का तेल और गेंदे का फूल

1. नार‍ियल का तेल और गेंदे का फूल
2/7

गेंदे के फूल से भी आप वजाइनल प‍िंपल से छुटकारा पा सकते हैं। गेंदे के फूल में एंटी-इंफ्लेमेट्री और एंटीसेप्‍ट‍िक गुण होती हैं, ये एस्‍ट्र‍िजेंट माना जाता है। अगर आपके प्राइवेट पार्ट में प‍िंपल है तो परेशान न हो गेंदे के फूल को नारियल के तेल में रातभर भ‍िगोकर रखें। सुबह तेल की बूंदों को प‍िंपल पर लगाएं। आप गेंदे के फूल को सुखाकर उसका पाउडर, तेल में म‍िलाकर भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। आपको ये तेल द‍िन में तीन बार इस्‍तेमाल करना है। तेल लगाने के बाद आधा घंटा रुकें और प्राइवेट पार्ट वॉश कर लें। ज‍िन लोगों की स्‍क‍िन ऑयली है वो ज्‍यादा तेल का इस्‍तेमाल न करें या तेल की जगह गेंदे के फूल के पाउडर में पानी म‍िलाकर भी लगा सकते हैं। वहीं ड्राय स्‍क‍िन वालों के ल‍िए ये सबसे असरदार घरेलू नुस्‍खा है। कोकोनट या न‍ार‍ियल के तेल में लॉर‍िक एस‍िड होता है ज‍िससे बैक्‍टीर‍िया खत्‍म होते हैं। वजाइनल प‍िंपल का कारण क्लैमाइडिया ट्रैकोमैटिस, एस्चेरिचिया कोलाई और स्टैफिलोकोकस ऑरियस नाम के बैक्‍टीर‍िया हो सकते हैं, इससे बचने के लि‍ए अंडरव‍ियर रोज बदलें और उसे ड्राय रखें। 

2. वजाइनल प‍िंपल ठीक करे एप्पल साइडर विनेगर

2. वजाइनल प‍िंपल ठीक करे एप्पल साइडर विनेगर
3/7

एप्‍पल साइडर व‍िनेगर को एंटीफंगल एजेंट कहा जाता है। इसमें एस‍िट‍िक एस‍िड मौजूद होता है जो फंगस और बैक्‍टीर‍िया को खत्‍म करता है। प्राइवेट पार्ट में गंदगी के कारण फंगस या बैक्‍टीर‍िया जन्‍म ले लेते हैं इसल‍िए फुंसी या प‍िंपल की समस्‍या होती है। इससे बचने के ल‍िए आप एप्‍पल साइडर व‍िनेगर यूज करें। एक कप पानी में एप्‍पल साइडर व‍िनेगर म‍िलाएं। पानी नॉर्मल तापमान का ही लें। अब इस म‍िश्रण को प‍िंपल वाले एर‍िया में एप्‍लाई करें। आप द‍िन में द‍िन बार इस म‍िश्रण को लगाएं और 15 मि‍नट बाद साफ पानी से धो लें। कुछ ही द‍िनों में आप देखेंगे क‍ि प‍िंपल गायब हो गया है। अगर फ‍िर भी समस्‍या बनी रहती है तो डॉक्‍टर को द‍िखाएं क्‍योंक‍ि कुछ मह‍िलाओं में प्‍यूब‍िक हेयर ग्रोथ ज्‍यादा होती है ज‍िसके चलते फुंसी हो जाती है, डॉक्‍टर आपको इसके ल‍िए क्रीम या दवा दे सकते हैं। कुछ मह‍िलाएं जल्‍दी-जल्‍दी शेव या वैक्‍स का इस्‍तेमाल प्‍यूब‍िक हेयर को हटाने के ल‍िए करती हैं जो गलत है। ऐसा करने से बार-बार फुंसी होगी और वो आगे चलकर गांठ का रूप ले सकती है। गांठ होने पर दर्द भी होता है इसल‍िए ऐसा करने से बचें। 

3. वजाइनल प‍िंपल ठीक करने के ल‍िए लगाएं पेट्रोल‍ियम जेली का म‍िश्रण

 3. वजाइनल प‍िंपल ठीक करने के ल‍िए लगाएं पेट्रोल‍ियम जेली का म‍िश्रण
4/7

वजाइनल प‍िंपल हो जाने पर आप पेट्रोल‍ियम जेली का भी इस्‍तेमाल कर सकती हैं। कुछ लोग पेट्रोल‍ियम जेली में कॉर्न स्‍टार्च और पानी म‍िलाकर लगाते हैं। ये भी फुंसी खत्‍म करने का अच्‍छा तरीका है। इस म‍िश्रण में मौजूद कॉर्न स्‍टार्च वजाइना वाले एर‍िया में मौजूद अत‍िर‍िक्‍त तेल को सोखकर प‍िंपल की समस्‍या दूर करता है। आपको इस म‍िश्रण को 15 म‍िनट तक लगाए रखना है और उसके बाद साफ गुनगुने पानी से धो लें और उसके बाद साफ तौल‍िए से एर‍िया को सुखा लें। इससे फुंसी में मौजूद पस भी न‍िकल जाएगा। जब फुंसी ज्‍यादा बड़ी हो जाए तो समझ जाइए उसमें पस भर रहा है, कुछ लोगों को प्‍यूब‍िक हेयर में क्‍लॉगिंग की समस्‍या के चलते भी फुंसी हो जाती है और इसमें मवाद भरने के कारण उसमें दर्द और सूजन हो सकती है। हालांक‍ि कुछ‍ द‍िनों में ये फुंसी अपने आप ठीक हो जाती हैं पर अगर समस्‍या बढ़े तो आप एंटी-बैक्‍टीर‍ियल क्रीम लगा सकते हैं पर केवल डॉक्‍टर की सलाह पर ही क्रीम का चयन करें। 

4. वजाइनल फुंसी होने पर मेहंदी और नीम का पेस्‍ट लगाएं

 4. वजाइनल फुंसी होने पर मेहंदी और नीम का पेस्‍ट लगाएं
5/7

अगर आपके प्राइवेट पार्ट पर फुंसी हुई है तो घबराएं नहीं ये देसी नुस्‍खा आपके काम आएगा। आप वजाइनल प‍िंपल को दूर करने के ल‍िए मेहंदी और नीम का इस्‍तेमाल करें। मेहंदी जलन से राहत द‍िलाएगी क्‍योंक‍ि मेहंदी की तासीर ठंडी होती है वहीं नीम में एंटी-बैक्‍टीर‍ियल और एंटी-माइक्रोब‍ियल गुण होते हैं। आप मेहंदी के पत्‍तों को पीसकर उसका पाउडर न‍िकाल लें। फ‍िर 2 कप पानी में नीम की पत्‍त‍ियां डालें और पानी आधा होने तक उबालें। उस पानी को मेहंदी पाउडर में म‍िला लेप बना लें और सुबह व रात लेप को फुंसी पर लगाएं। इससे फुंसी जल्‍द ठीक हो जाएगी। आज कल मेहंदी पाउडर और नीम पाउडर बाजार में और ऑनलाइन स्‍टोर्स में भी म‍िलता है, आप चाहें तो वहां से मंगवा सकते हैं पर इस बात का ध्‍यान रखें क‍ि उसमें कैम‍िकल्‍स न हों। आपको इस बात का ध्‍यान रखना है क‍ि जब तक फुंसी ठीक न हो जाए तब तक आपको ढीले कपड़े पहनने हैं। अगर आप वर्कआउट करते हैं तो प्राइवेट एर‍िया को साफ करें और ड्राय अंडरवेयर पहनें। 

5. प्राइवेट पार्ट में प‍िंपल होने पर करें गरम तौल‍िए का इस्‍तेमाल

5. प्राइवेट पार्ट में प‍िंपल होने पर करें गरम तौल‍िए का इस्‍तेमाल
6/7

प्राइवेट पार्ट में होने वाला प‍िंपल चेहरे पर होने वाले प‍िंपल से ज्‍यादा दर्द और सूजन भरा हो सकता है। इसमें मवाद भरे होने के कारण आपको चलने या बैठने में चुभन हो सकती है। ध्‍यान रखें क‍ि फुंसी को तोड़ने या मवाद न‍िकालने की कोश‍िश न करें, इससे इंफेक्‍शन बढ़ सकता है। इस समस्‍या से बचने के ल‍िए आप गरम तौल‍िए का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। साफ तौल‍िए को गरम पानी में भ‍िगोएं। तौल‍िए को अच्छी तरह से न‍िचोड़ लें और इसे अपने फुंसी के ऊपर रखें। कम से कम 10 म‍िनट के ल‍िए तौल‍िए को रखें और इसी तरह इस प्रक्र‍िया को द‍िन में 2 से 3 बार र‍िपीट करें। इससे प्राइवेट एर‍िया में ब्‍लड फ्लो बढ़ जाएगा और संक्रमण जल्‍द ही ठीक हो जाएगा। इस तरीके से खुजली और दर्द की समस्‍या भी दूर होगी। जब आप इस प्रक्र‍िया को पूरा कर लें तो प्राइवेट पार्ट को ग‍ीला न छोड़ें बल्‍क‍ि दूसरे साफ और सूखे तौल‍िए से उस ह‍िस्‍से को ड्राय कर लें। ज‍िस तौलि‍ए को आप नहाने के बाद बॉडी को पोछने के ल‍िए इस्‍तेमाल करते हैं उसे भी धूप में सुखाना जरूरी है, कभी-कभी गंदे तौलि‍ए से भी इंफेक्‍शन हो जाता है। 

वजाइनल प‍िंपल की समस्‍या से कैसे बचें?

वजाइनल प‍िंपल की समस्‍या से कैसे बचें?
7/7

कुछ टि‍प्‍स की मदद से आप प्राइवेट पार्ट में प‍िंपल की समस्‍या से बच सकते हैं। आप टाइट अंडरवेयर या कपड़े न पहनें, इस कारण भी प्राइवेट पार्ट में फुंसी हो सकती है। इसके अलावा आपको हर मौसम में कॉटन फैब्र‍िक की अंडरवेयर ही आपको पहननी चाह‍िए। अगर क‍िसी कारण फुंसी हो भी गई है तो उसे बार-बार छूने की गलती न करें, इससे इंफेक्‍शन बढ़ सकता है। आपको ध्‍यान रखना है क‍ि फुंसी होने के दौरान आपको नहाने के ल‍िए बहुत ज्‍यादा गरम पानी का इस्‍तेमाल न करें। बहुत जरूरी होने पर ही प्राइवेट पार्ट में शेव या वैक्‍स करें क्‍योंक‍ि इस जगह फुंसी का कारण वैक्‍स‍िंग या शेव‍िंग हो सकती है। आप प्‍यूब‍िक हेयर को ट्रिम कर सकते हैं पर जरूरत न होने पर वैक्‍स या रेजर न यूज करें। बात करें प्राइवेट पार्ट की तो वो ये बहुत सेंसेट‍िव जगह होती है। इस जगह प‍िंपल होना वैसे तो कोई गंभीर बात नहीं है पर लंबे समय तक ऐसा होना ठीक नहीं है। हो सकता है क‍ि आपकी बॉडी का पीएच लेवल असंतुलित हो, इसल‍िए डॉक्‍टर से सलाह जरूर लें। 

Disclaimer