इस घरेलू नुस्खे से करें बैक्टीरियल वेजिनोसिस का उपचार

वैसे तो बैक्टीरियल वेजिनोसिस आमतौर पर गंभीर नहीं होता और अक्सर अपने आप ही दूर हो जाता है। लेकिन कुछ सरल घरेलू उपचार इस कष्टप्रद समस्या से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद कर सकते हैं।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Apr 06, 2017

बैक्टीरियल वेजिनोसिस

बैक्टीरियल वेजिनोसिस
1/12

बैक्‍टीरियल वेजिनोसिस योन‍ि संक्रमण का एक बहुत ही आम प्रकार है। योनि में सामान्‍य रूप से बहुत से 'अच्छे' बैक्टीरिया के साथ ही कुछ 'बुरे' बैक्टीरिया भी उपस्थित होते हैं। अच्‍छे और बुरे बैक्‍टीरिया के बीच संतुलन में परेशानी के कारण संक्रमण होता है। आम लक्षणों में खुजली और कभी कभी दर्द के साथ यूरीन, मछली जैसी गंध के साथ अत्यधिक योनि स्राव शामिल है।

बैक्टीरियल वेजिनोसिस के कारण

बैक्टीरियल वेजिनोसिस के कारण
2/12

बैक्‍टीरिया के संतुलन से बाहर होने के बारे में विशेषज्ञ यकीन के साथ कुछ नहीं कहते, लेकिन कुछ कारक संक्रमण के खतरे को बढ़ा सकते हैं। इस कारकों में एक से अधिक पार्टनर के साथ सेक्‍स, नया सेक्‍स साथी, अत्‍यधिक धूम्रपान और सफाई न करना शामिल है।

बैक्टीरियल वेजिनोसिस के लिए घरेलू उपचार

बैक्टीरियल वेजिनोसिस के लिए घरेलू उपचार
3/12

बैक्टीरियल वेजिनोसिस आमतौर पर गंभीर नहीं होता और अक्सर अपने आप ही दूर हो जाता है। लेकिन जैसे ही इसके लक्षण दिखाई दें, तुरंत उपचार शुरू कर देना चाहिए। कुछ सरल घरेलू उपचार इस कष्टप्रद समस्या से छुटकारा दिलाने में आपकी  मदद कर सकते हैं। यहां बैक्टीरियल वेजिनोसिस की समस्‍या को दूर करने के 10 घरेलू उपचार दिये गये हैं।

सेब साइडर सिरका

सेब साइडर सिरका
4/12

सेब साइडर सिरका, बैक्टीरियल वेजिनोसिस के लिए एक शानदार घरेलू उपाय है। इसकी अम्लीय प्रकृति के कारण, सेब  साइडर सिरका योनि अम्लता बढ़ाने में मदद करता है। इससे बुरे बैक्टीरिया का जीवित रहना मुश्किल हो जाता है। और अच्छे बैक्टीरिया को कामयाब बनाये रखने के लिए एक बेहतर माहौल पैदा करता है। बैक्‍टीरियल वेजिनोसिस की समस्‍या से बचने के लिए अपने नहाने के पानी में एक या दो कप सेब साइडर सिरके की मिलाये। फिर इस पानी में 20 मिनट के लिए बैठें। इसके बाद योनि क्षेत्र को अच्‍छे से सूखा लें। हालत में सुधार होने तक इस उपाय को दिन में एक बार करें।

दही

दही
5/12

दही बैक्टीरियल वेजिनोसिस के लिए सबसे आम घरेलू उपचारों में से एक है। दही में लैक्टोबैसिलस नामक फायदेमंद बैक्टीरिया पाया जाता हैं। जिससे बुरे बैक्टीरिया से लड़ने और स्वस्थ योनि पीएच संतुलन बनाए रखने में मदद मिलती है। दही में कॉटन पैड को भिगो कर इसे प्रभावित हिस्‍से में लगाकर, कम से कम आधे घंटे के लिए छोड़ दें। फिर ताजे पानी से इस हिस्‍से को अच्‍छे से धो लें। जब तक इसके लक्षण खत्‍म नहीं हो जाते, इस उपाय को एक दिन में तीन बार दोहराये। इसके अलावा योन‍ि के पीएच संतुलन को सामान्‍य बनाये रखने और बुरे बैक्‍टीरिया की वृद्धि को कम करने के लिए एक दिन में कम से कम दो कम दही की खायें।

टीट्री ऑयल

टीट्री ऑयल
6/12

टीट्री ऑयल में नैचुरल एंटीबैक्‍टीरियल के साथ एंटीफंगल गुण होते है, जो बैक्‍टीरियल वेजिनोसिस के कारण होने वाले बैक्‍टीरिया को मारने में मदद करते है। इसके अलावा यह भयंकर गंध को दूर करने में भी मददगार होता है। इस उपाय को करने के लिए एक छोटे बाउल गर्म पानी में दो बड़े चम्‍मच टीट्री ऑयल की मिला लें। फिर इस मिश्रण से योनि को अच्‍छे से धो लें। इस उपाय को तीन से चार सप्‍ताह तक नियमित रूप से करें।

लहसुन

लहसुन
7/12

लहुसन एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है, बैक्‍टीरियल वेजिनोसिस के इलाज में मदद करता है। इसके अलावा इसमें मौजूद एंटीफंगल गुण बुरे बैक्‍टीरिया को जांच में रखता है। तीन से चार लहसुन की कली को क्रश करके प्रभावित क्षेत्र पर लगाकर 20 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से उस हिस्‍से को अच्‍छे से धो लें। इस उपाय को कई महीनों के लिए करें। इसके अलावा, लहसुन का सेवन नियमित रूप से कच्‍चा या पका कर करें। image courtesy : getty images

मेथी

मेथी
8/12

बैक्‍टीरियल वेजिनोसिस के इलाज के लिए मेथी बहुत ही फायदेमंद होती है। यह योनि में पीएच स्तर को बेहतर बनाने और घाव को भरने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देता है। एक गिलास पानी में मेथी के दो बड़े चम्‍मच को रात भर के लिए भिगो लें। सुबह, इस पानी को खाली पेट पी लें। इस उपाय को कम से कम एक महीने तक करें। या एक कप दही में एक चम्‍मच मेथी पाउडर को मिलाकर दिन में दो बार तब तक लें जब कि बैक्‍टीरियल वेजिनोसिस के लक्षण कम न हो जाये। image courtesy : getty images

दूध

दूध
9/12

दूध में लेक्‍टोबेकिली नामक बैक्‍टीरिया की मौजूदगी बैक्‍टीरियल वेजिनोसिस का एक उत्‍कृष्‍ट प्राकृतिक उपचार है। इसके अलावा, दूध प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में मदद करता है। संक्रमण होने पर कॉटन के टूकड़े को ठंडे दूध में डिबोकर योनि में लगाये। कॉटन को एक से दो घंटे रखने के बाद हटा दें। लक्षणों से राहत पाने के लिए दिन में एक बार कई दिनों के लिए इस उपाय को करें। इसके अलावा वैकल्पिक रूप से, गर्म दूध के एक गिलास में एक चम्‍मच हल्दी पाउडर को मिलाकर लें। image courtesy : getty images

नारियल का तेल

नारियल का तेल
10/12

नारियल तेल में प्राकृतिक एंटीवायरल, एंटीबैक्‍टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं, यह बैक्‍टीरिया को मारने और इसकी आवर्ती को रोकने में मदद करते हैं। अपनी समस्‍या में सुधार लाने के लिए कार्बनिक नारियल तेल को प्रभावित हिस्‍से में दिन में तीन बार लगाये। या कार्बनिक नारियल के तेल में कॉटन को डूबोकर योनि में रखें, कुछ घंटे लगा रहने के बाद योनि को अच्‍छे से गुनगुने पानी से धो लें। इसके अलावा, अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और उपचार प्रक्रिया को तेज करने के लिए, जितना संभव हो खाना पकाने में नारियल के तेल का उपयोग करें। image courtesy : getty images

Disclaimer