ऐसे हर्ब जो प्राकृतिक रूप से बढ़ायें ऊर्जा

कुदरत ने हमें कई ऐसी जड़ी बूटियां दी हैं जिनके इस्‍तेमाल से एनर्जी को प्राकृतिक रूप से बढ़ाया जा सकता हैं। उनमें से कुछ जड़ी-बूटियां इस प्रकार हैं।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Dec 27, 2013

प्राकृतिक रूप से बढ़ायें ऊर्जा

प्राकृतिक रूप से बढ़ायें ऊर्जा
1/11

हम अपनी ऊर्जा को बढ़ाने के लिए क्‍या-क्‍या करते। एनर्जी ड्रिंक का इस्‍तेमाल, जिम और कसरत और भी न जाने क्‍या-क्‍या। लेकिन, हर किसी के बस में कसरत करना नहीं होता और एनर्जी ड्रिंक्‍स के साइड इफेक्‍ट्स को लेकर चर्चा चलती रहती है। कुदरत ने हमें कई ऐसे हर्ब दिए हैं जिनके इस्‍तेमाल से हम अपनी ऊर्जा प्राकृतिक रूप से बढ़ा सकते हैं। आइए जानें ऐसे ही कुछ प्राकृतिक हर्ब के बारे में इस स्‍लाइड शो में।

अश्वगंधा (विथानिआ सोमनीफ़ेरा)

अश्वगंधा (विथानिआ सोमनीफ़ेरा)
2/11

प्राकृतिक रूप से एनर्जी बढ़ाने के लिए अश्वगंधा बहुत ही फायदेमंद होता हैं। इससे मस्तिष्क भी तेज होता है। यह एक झाड़ीदार रोमयुक्त पौधा है। कहने को तो अश्वगंधा एक पौधा है, लेकिन यह पौधा पौष्टिक जड़ों से युक्त है। न केवल इसकी जड़े बल्कि इसके बीज, फल एवं छाल भी विभिन्न रोगों के उपचार में प्रयोग किया जाता है। तरोताजा रहने और ऊर्जावान बने रहने के लिए अश्वगंघा चूर्ण को प्रतिदिन दूध के साथ लेना चाहिए।

जिन्‍सेंग

जिन्‍सेंग
3/11

जिन्सेंग एक सुगन्धित जड़ है जिसकी शाखायें होती हैं। जिन्सेंग जड़ मानव शरीर का प्रतिनिधित्व करती है और पूरे शरीर के लिए रामबाण औषधि है। यह शरीर में बाहरी तत्‍वों के खिलाफ प्रतिरोधक शक्ति का निर्माण करता है। यह हर्ब रक्‍त, पेट, किडनी और अग्‍नाशय कैंसर को काफी हद तक ठीक करती है।

सिंहपर्णी (Dandelion) जड़

सिंहपर्णी (Dandelion) जड़
4/11

सिंहपर्णी पत्तियों प्रोटीन से समृद्ध होता हैं, इसमें विटामिन सी और ई, कैरोटीन, पोटेशियम, लोहा और फास्फोरस भरपूर मात्रा में मौजूद होता है। इसके सेवन से शरीर में ऊर्जा बढ़ती हैं। आयुर्वेदिक अवयवों का संयोजन होने के कारण यह लीवर को  मजबूत और स्वस्थ बनाने और हेपेटाइटिस, पीलिया, सिरोसिस, फैटी लीवर के रूप में लीवर की बीमारियों के इलाज में फायदेमंद होता हैं।

कोरियन गिनसेंग

कोरियन गिनसेंग
5/11

कोरियन गिनसेंग यह एक शक्तिशाली हर्ब है, जो शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ा देता है, जिससे तनाव कम होता है। जब आप स्मोकिंग छोड़ रहे होते हैं, तो आपका शरीर तनाव और आलस्य की चपेट में आ जाता है। गिनसेंन इन सबसे निपटने में मदद करता है।

जिन्कगो (जिन्कगो बिलोबा)

जिन्कगो (जिन्कगो बिलोबा)
6/11

जिन्कगो ऑक्सीजन का उपयोग करके मस्तिष्‍क को बेहतर बनाने में मदद करता है जिससे मानसिक सतर्कता को बेहतर बनाता है और परिधीय रक्त परिसंचरण में सुधार करता है। यह एक एंटीऑक्सीडेंट और किडनी के लिए टॉनिक है।

नागफनी के पत्ते

नागफनी के पत्ते
7/11

नागफनी के औषधीय गुणों के बारे में शायद ही कोई जानता होगा। कांटों से भरी यह नागफनी आपके स्वास्थ्य के लिए रामबाण है। सूखे में पायी जाने वाली यह नागफनी आपके पेट के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है। नागफनी का दूध कब्ज को तो मिटाता ही है साथ ही यह त्वचा रोगों में लाभदायक है। नागफनी परिधीय संचलन और शरीर की क्षमता में सुधार करता है, ऑक्सीजन का उपयोग करने के लिए।

लीकोरिस हर्ब

लीकोरिस हर्ब
8/11

लीकोरिस हर्ब एक आश्चर्यजनक जड़ीबूटी है जो स्‍वाभाविक रूप से मीठी होती है। यह रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य करने में मदद करता है। इससे थक अधिवृक्क ग्रंथियों (किडनी के पास स्थित ग्लैन्ड) का पोषण होता है। लीकोरिस रूट एन्डोक्राइन प्रणाली के लिए एक उत्कृष्ट टॉनिक है और प्रजनन प्रणाली के लिए विशिष्ट होता है। यह विशेष रूप से अवसाद से ग्रस्त में लोगों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

ग्रीन टी

ग्रीन टी
9/11

ग्रीन टी एंटीऑक्‍सीडेंट से भरपूर होती है। यह शरीर से विषैले तत्‍वों को बाहर निकालने और वजन घटाने में मदद करती है। इसका प्रयोग शरीर में उपापचय दर या वसा ऑक्सीकरण को भी बढ़ाता है। ग्रीन टी के सेवन से आप अपने एनर्जी लेवल को बढ़ा सकते हैं।

मुलेठी

मुलेठी
10/11

मुलेठी एक बारहमासी झाड़ी है। इसका इस्‍तेमाल लगभग 4,000 से अधिक वर्षों से किया जा रहा है। मुलेठी किडनी टॉनिक के रूप में लाभदायक होती है। यह शरीर में एनर्जी लेवल को भी बढ़ाती है और क्रोनिक थकान का मुकाबला करने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।

Disclaimer