सिरदर्द दूर करने के लिए हर्ब्स

सिरदर्द होना आज एक आम समस्या बन गया है। लेकिन इसके उपचार के लिए हमेशा पेन किलर लेना ठीक नहीं, आप कुछ हर्ब्स की मदद से इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

Rahul Sharma
Written by: Rahul SharmaPublished at: Mar 22, 2014

सिरदर्द और हर्ब्स

सिरदर्द और हर्ब्स
1/12

भागदौड़ भरी जिंदगी, बढ़ते तनाव और ऐसे ही कई अन्य कैरणों के चलते सिरदर्द एक आम समस्या बनता जा रहा है। ऐसे में लोग अक्सर पेन किलर का सहारा लेते हैं। लेकिन ज्यादा पेन किलर खाने पर रिएक्शन का डर बना रहता है। इसीलिए सिरदर्द दूर करने के लिए आप कुछ प्रभावी हर्ब्स का प्रयोग कर सकते हैं। चलिए जानते हैं कि सिरदर्द के इलाज के लिए कौंन से हर्ब्स मौजूद हैं।

पैशनफ्लॉवर (Passionflower)

पैशनफ्लॉवर (Passionflower)
2/12

परंपरागत रूप से चिंता और अनिद्रा की स्थितियों के इलाज के लिए पैशनफ्लॉवर को जड़ी बूटी के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। यह सिरदर्द के इलाज में भी कभी कारगर साबित होता है। जैसा की इसके नाम से पता चलता है यह हर्ब बड़ी इच्छाओं के चलते तनाव पूर्ण जीवन बिती रहे लोगों वाले लोगों के नर्स सिस्टम को शांत कर सिरदर्द जैसी समस्या से बचाने में कारगर होता है।

वाइट विलो बार्क (White willow bark)

वाइट विलो बार्क (White willow bark)
3/12

अन्य सिरदर्द दूर करने वाली हर्ब्स की तरह वाइट विलो बार्क भी सिरदर्द दूर करने वाली एक कारगर हर्ब है। इस हर्ब को एस्प्रिन सप्लिमेंट में भी इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन एक एनाल्जेसिक के रूप में यह हर्ब अन्य हर्ब्स की तरह लक्षणों को ना मिटाकर सीधा सिरदर्द को दूर करती है।

बटरबर और फीवरफ्यू (butterbur and feverfew)

बटरबर और फीवरफ्यू (butterbur and feverfew)
4/12

बटरबर और फीवरफ्यू के बारे में जानने से पहले हमें ये जान लेना जरूरी है कि माइग्रेन और सिरदर्द दो अलग प्रकार की समस्याएं हैं। माइग्रेन सिर में रक्त के प्रवाह में तेजी से बदलाव के कारण होता है और गंभीर सिर दर्द , मतली, प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता, और ध्वनि के साथ जुड़ा हुआ होता है। जबकि सिरदर्द माइग्रेन का एक घटक है। बटरबर और फीवरफ्यू दोनों ही बेहतर और नियमित रूप से सिरदर्द के इलाज के लिए उपयुक्त है।

ब्लेक कॉश (Black cohosh)

ब्लेक कॉश (Black cohosh)
5/12

यह एक नेटिव उत्तरी अमेरिकी पौधा है। जिसका गठिया, सिरदर्द आदि के कारगर इलाज के लिए इस्तेमाल किये जाने का इतिहास रहा है। क्योंकि इस जड़ी बूटी में एस्ट्रोजन प्रभाव होता है, यह महिलाओं के लिए बेहतर है। लेकिन पुरुषों भी इसे कभी-कभी इस्तेमाल कर सकते हैं।

सरसों के बीज

सरसों के बीज
6/12

सरसों सिरदर्द के उपचार में लाभदायक होता है। इसके लिए आधा चम्मच सरसों के बीज का पाउडर, 3 चम्मच पानी में घोलकर नाक पर लगाएं। इससे माइग्रेन और इससे होने वाले सिरदर्द में राहत मिलती है।

अदरक

अदरक
7/12

अदरक एक दर्द निवारक के रूप में भी काम करता है। यदि सिरदर्द हो तो सूखे अदरक को पानी के साथ पीसकर उसका पेस्ट बना लें और इसे अपने माथे पर लगा लें। इसे लगाने पर हल्की जलन जरूर होती है लेकीन यह सिरदर्द दूर करने में सहायक होता है।

दालचीनी

दालचीनी
8/12

दालचीनी एक कमाल की हर्ब है, जो कई रोगों के उपचार में लाभदायक होती है। सिरदर्द के उपचार में दालचीनी को पानी के साथ महीन पीसकर ललाट पर पतला पतला लेप करना चाहिए। लेप सूख जाए तो उसे हटाकर दौबारा नया लेप तैयार कर लगाना चाहिए।

पुष्कर मूल

पुष्कर मूल
9/12

पुष्कर मूल अर्थात पुष्कर की जड़ सिरदर्द की समस्या महोने पर काफी सहायक हो सकती है। इसको चंदन की तरह घिसकर लेप को कपाल पर लगाने से सिर दर्द ठीक होता है। यदि आप घर में हैं और सिरदर्द की समस्या होती है तो इस लेप को लगा कर आराम करें। सिर दर्द जल्द ठी हो जाएगा।

प्रिमरोज (पीतसेवती)

प्रिमरोज (पीतसेवती)
10/12

अगर आपके पास बहुत काम है, जिसकी वजह से आप अक्सर 12 घंटे तक दफ्तर में बिताते हैं, तो प्रिमरोज सप्लिमेंट्स को रेग्युलर तौर पर लें। इसमें दर्द से आराम देने वाला कंपाउंड फिनायललानीन प्रचुर मात्रा में होता है। यही नहीं, प्रिमरोज कई अन्य बीमारियों में भी इस्तेमाल किया जाता है।

Disclaimer