इन 5 बीमारियों का काल है ये 'आयुर्वेदिक जूस'

By:Atul Modi, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jul 17, 2017
जब भी किसी स्‍वस्‍थ्‍यवर्धक पेय पदार्थ की बात होती है तो फलों और सब्जियों के जूस की चर्चा जरूर होती है। मगर ये बात बहुत कम लोग जानते हैं कि कौन सा जूस किस बीमारी में या किन परिस्थितियों में पिया जाए तो उससे गंभीर से गंभीर बीमारियां दूर रहती है। तो चलिए आज हम आपको 5 ऐसी बीमारियों को नष्‍ट करने के लिए 5 आयुर्वेदिक जूस के बारे में बता रहे हैं जिसे बनाना बहुत आसान है और आपके बजट में भी है। इसे आप अपने दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं।
  • 1

    माइग्रेन (अधकपारी)

    एक गिलास पानी में एक नींबू का रस और एक चम्मच अदरक का रस मिलाकर पियें। माइग्रेन की समस्‍या से छुटकारा मिलेगा।

    माइग्रेन (अधकपारी)
    Loading...
  • 2

    गठिया

    गर्म पानी में शहद के साथ नींबू का रस पियें। गर्म पानी में एक-एक चम्मच लहसुन और प्याज के रस का सेवन किया जा सकता है। गठिया के रोगी को फनसी और चेरी का रस विशेष रूप से पीनी चाहिए। आलू का रस भी उपयोगी हो सकता है। शराब, मांसाहार तथा अत्यधिक प्रोटीनयुक्त आहार का त्याग करें।

    गठिया
  • 3

    फ्रेक्चर

    अगर हड्डी टूट गई है तो आप पालक, चौलाई, मेथी, सहजन और अजवाइन के रसों को मिलाकर सेवन करें। आंवला, तरबूज, गाजर, अमरूद और पपीते का रस पीने सेचोट वाले हिस्से को विशेष आराम मिलता है और उचित मात्रा में प्रोटीन प्राप्त होता है। ऐसा आप डॉक्‍टर से इलाज करने के बाद ही करें तो बेहतर रहेगा। इस जूस से हड्डी जल्‍दी जुड़ती है।

    फ्रेक्चर
  • 4

    अपच

    सुबह खाली पेट एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू निचोड़ कर पियें। भोजन के समय से आधा घंटा पहले एक चम्मच अदरक का रस पियें। पपीता, अनानास, ककड़ी और पत्ता गोभी का रस तथा गाजर, बीट और पालक के मिश्रित रस का सेवन करें।

    अपच
  • 5

    अनिद्रा

    कुछ लोगों को अनिद्रा की शिकायत रहती है। देर रात तक नींद नही आती है। ऐसी स्थिति में सेब, अमरूद और आलू का रस इसके अलावा पालक और गाजर के मिश्रित रस को अनिद्रा की स्थिति में पीना फायदेमंद होता है।

    अनिद्रा
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK