सेहत से जुड़ी इन 5 गलतफहमियों पर कभी न करें विश्वास, होगा नुकसान

चिंतनीय है कि हमारे बीच सेहत और इससे जुड़ी जानकारियों को लेकर तरह तरह के मिथ और भ्रम पनपे हुए हैं, जिन्हें दूर करना हमारे लिये बेहद जरूरी है।

Rashmi Upadhyay
Written by: Rashmi UpadhyayPublished at: Sep 05, 2018

सेहत से जुड़ी गलतफहमियां

सेहत से जुड़ी गलतफहमियां
1/10

अच्छा स्वास्थ्य को पाने के लिए लोग क्या जतन नहीं करते। एक सर्वे की मानें तो एक सामान्य व्यक्ति अपने वार्षिक बजट में से औसतन 12 प्रतिशत सेहत बनाने के नाम पर व्यय करता है। लेकिन यह चिंतनीय है कि हमारे बीच सेहत और इससे जुड़ी जानकारियों को लेकर तरह तरह के मिथ और भ्रम पनपे हुए हैं। दुनियाभर में हो रहे शोध तथा नित छपते स्वास्थ्य लेख हमें लगातार ऐसे भ्रमों से दूर रहने की हिदायद देते रहते हैं। तो चलिये हांसिल करते हैं कुछ नई जानकारियां और करते हैं खुद को सेहत से जुड़ी गलतफहमियों से दूर। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

ठंडा मौसम हमेशा बनाता है बीमार

ठंडा मौसम हमेशा बनाता है बीमार
2/10

बहुत से लोगों मानते हैं कि ठंडे मौसम में लोग ज्यादा बीमार पड़ते हैं, जबकि अध्ययन की मानें तो ठंडे मौसम में रोग अपेक्षाकृत कम फैलते हैं। यही नहीं ठंडे मौसम या ठंडी चीजों से लोग कम बीमार पड़ते हैं, बनिस्बत अन्य कारकों और कारणों के। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

दातुंन नहीं करना चाहिए

दातुंन नहीं करना चाहिए
3/10

बुजुर्ग मानते हैं कि ब्रश न करके दांतों को साफ करने के लिए नीम की दातुन आदि का इस्तेमाल करना चाहिए। यह धारणा गलत है पहले और अब के खान-पान में काफी बदलाव आ चुका है। इसलिए सोफ्ट ब्रश का प्रयोग करना चाहिए। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

सख्त चीजें नहीं खानी चाहिए

सख्त चीजें नहीं खानी चाहिए
4/10

यह सोच गलत है कि खाने में सख्त चीजें खानी ही नहीं चाहिए। कभी-कभी गन्ना, अमरूद जैसी सख्त चीजें भी खानी चाहिए इससे दांत मजबूत बनते हैं और मसूड़े और जबड़े का व्यायाम भी हो जाता है।  courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

रक्तदान से होती है खून की कमी

रक्तदान से होती है खून की कमी
5/10

अगर आप यह सोचते हैं कि रक्तदान करने से आपके शरीर में खून की कमी हो जाएगी तो आप बिल्कुल गलत सोच रहे हैं। रक्तदान करने के 48 घंटे के भीतर ही दिये गये रक्त की पूर्ति हो जाती है। यही नहीं, अगर आप पूरी तरह स्वस्थ हैं तो आप हर तीन महीने में बिना किसी स्वास्थ्य समस्या के एक बार रक्तदान कर सकते हैं।courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

रक्तदान से सेहत को नुकसान

रक्तदान से सेहत को नुकसान
6/10

आपको बता दें कि रक्तदान पूरी तरह सुरक्षित है और रक्तदान करने से सेहत पर कोई बुरा असर नहीं होता। वास्तविकता तो यह है कि रक्तदान से दिल की बीमारियों की आशंका कम होती है और रक्तदान शरीर में अतिरिक्त आयरन को जमने से रोकता है। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

सिर से निकलती है सारी गर्मी

सिर से निकलती है सारी गर्मी
7/10

ऐसा सच नहीं नहीं है। शरीर की गर्मी हमारे शरीर के उन सभी अंगों से बाहर निकलती है जिन्हें हमने कपड़ो आदि से न ढ़का हो। फिर चाहे वह सिर हो या शरीर का कोई अन्य अंग। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

दूध पीने से कफ बनाता है

दूध पीने से कफ बनाता है
8/10

यह बात वैज्ञानिक तौर पर प्रमाणित नहीं है। एक अध्ययन के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि वायरल बुखार वाले कई मरीजों ने स्वेच्छापूर्वक काफी मात्र में दूध पिया। शोधकर्ताओं ने पाया कि दूध पीने वाले मरीजों में से किसी के शरीर में न कफ बना और न ही इस वजह से कंजेशन (रक्तसंकुलता) हुआ।courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

अविवाहितों का यौन जीवन ज्यादा बेहतर

अविवाहितों का यौन जीवन ज्यादा बेहतर
9/10

बहुत से लोग ऐसा मानते हैं कि शादीशुदा लोगों की बनिस्पत अविवाहितों का भावनात्मक और सैक्स जीवन ज्यादा बेहतर होता है, जबकि शोधों के परिणाम इस धारणा से उलट जानकारी देते हैं। एक अध्ययन के अनुसार शादीशुदा व्यक्ति के पास उसकी भावनाओं को समझने वाला व्यक्ति हमेशा मौजूद रहता है जबकि अविवाहित व्यक्ति अधिकांश समय अकेला होता है। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

एंटीबायोटिक के साथ बर्थकंट्रोल पिल नहीं लेनी चाहिए

एंटीबायोटिक के साथ बर्थकंट्रोल पिल नहीं लेनी चाहिए
10/10

कई लोगों का मानना है कि गर्भ निरोधक गोलियां एंटीबायोटिक दवाओं के साथ नहीं लेनी चाहिए क्योंकि इन्हें साथ लेने पर इनका प्रभाव खत्म हो जाता है। जबकि यह सोच गलत है। गर्भ निरोधक गोलियों को नियत समय पर लिया जाना चाहिए तभी वे असर करती हैं।courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

Disclaimer