प्रेग्नेंसी में करें तिल का सेवन, शिशु होगा स्वस्थ

अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा स्वस्थ और हेल्दी पैदा हो तो आपको प्रेग्नेंसी में नियमित रूप से तिल का सेवन करना चाहिए। प्रेग्नेंसी में तिल के सेवन से और भी कई फायदे होते हैं।

Rashmi Upadhyay
Written by: Rashmi UpadhyayPublished at: Mar 09, 2017

प्रेग्नेंसी में तिल का सेवन

प्रेग्नेंसी में तिल का सेवन
1/5

हेल्दी बच्चा पाना हर मां की ख्वाहिश होती है। लेकिन जिस तरह का आजकल खानपान और महिलाओं का लाइफस्टाइल हो गया है उसमें हेल्दी बच्चे की ख्वाहिश बहुत कम महिलाओं की ही पूरी हो पाती है। अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा स्वस्थ और हेल्दी पैदा हो तो आपको प्रेग्नेंसी में नियमित रूप से तिल का सेवन करना चाहिए। प्रेग्नेंसी में तिल के सेवन से और भी कई फायदे होते हैं।

पोषक तत्वों से भरपूर है तिल

पोषक तत्वों से भरपूर है तिल
2/5

प्रेग्नेंसी में तिल के सेवन को डॉक्टरों ने भी मंजूरी दी है। तिल जरूरी पोषक तत्वों से भरपूर होता है। तिल में प्रचूर मात्रा में कैल्शियम, अमीनो एसिड, प्रोटीन और विटामिन-बी होता है। ये सभी तत्व शिशु को हेल्दी बनाएं रखने में मदद करते हैं।

कब्ज की समस्या

कब्ज की समस्या
3/5

जब कोई महिला गर्भवती होती है तो उसके शरीर में अचानक कई तरह के बदलाव आते हैं। जिसमें से कब्ज भी एक है। प्रेग्नेंसी में कब्ज से राहत पाने के लिए तिल अचूक उपाय है। हर गर्भवती को अपनी डाइट में तिल को जरूरी शामिल करना चाहिए। तिल पेट संबंधित सारी परेशानियों को दूर करता है।

कैल्शियम की कमी

कैल्शियम की कमी
4/5

महिलाओं में आमतौर पर कैल्शियम की कमी देखी जाती है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में कैल्शियम का स्तर और भी गिर जाता है। तिल में भारी मात्रा में कैल्शियम होता है। कैल्शियम की कमी का सीधा असर शिशु पर पड़ता है। इसलिए प्रेग्नेंसी में तिल का सेवन करना चाहिए।

मांसपेशियां होती हैं मजबूत

मांसपेशियां होती हैं मजबूत
5/5

प्रेग्नेंसी में कमजोरी के चलते महिलाओं की मांसपेशियां कमजोर हो जाती है। तिल के सेवन से मांसपेशियों को काफी मजबूती मिलती है। इसके लिए तिल के बीज काफी अच्छा स्त्रोत है। तिल मांसपेशियों और तंत्रिकाओं को मजबूत बनाने और शरीर को फिट रखने में मदद करता है।

Disclaimer