नौकरी को लेकर इन वजहों से शिकायत करते हैं आप!

हम हर जगह शिकायत करते हैं और सबसे अधिक शिकायत नौकरी को लेकर होती है, लेकिन क्‍या आप जानते हैं इन शिकायतों के पीछे क्‍या है कड़वी सच्‍चाई, आइए इस स्‍लाइडशो में हम आपको बाते हैं।

Rahul Sharma
Written by: Rahul SharmaPublished at: Feb 03, 2016

मैनें छोड़ दिया तो ये कंपनी बंद ही हो जाएगी!

मैनें छोड़ दिया तो ये कंपनी बंद ही हो जाएगी!
1/5

ऐसा सोच या कह कर आप केवल अपने महत्व को बढ़ा-चढ़ा कर महसूस कर सकते हैं। मैने खुद भी कई कंपनियां छोड़ी हैं और मैनेजर सहित पूरी टीम को नौकरी छोड़ते देखा है। लेकिन यकीन मानिये इनमें से कोई भी कंपनी बंद नहीं हुई। इसलिये बेहतर होगा कि हम खुद के विकास पर ध्यान दें, बजाए कंपनी में अपनी हैसियत के बारे में सोचकर परेशान होने के।

मेरा बॉस एक नम्बर का कमीना, खडूस है!

मेरा बॉस एक नम्बर का कमीना, खडूस है!
2/5

ज्यादातर मामलों में बॉस जान-बूझ कर ऐसा बन कर रहता है, क्योंकि उन्हें इस तरह रहने के लिए प्रशिक्षित किया गया है। मैनेजर बनने का एक सबसे जरूरी रूल है कि आपको अपने मुलाज़िमों के साथ दोस्ती नहीं करनी होती है। दोस्ताना माहौल रखने में कोई ख़राबी नहीं है, लेकिन ख़ास दोस्ती हानिकारक है। ऐसा इसलिये, क्योंकि एक मैनेजर को कई क्रूर फैंसले लेने होते हैं, और ये दोस्त के साथ मुमकिन नहीं हो पाता है।

मेरे सारे सहकर्मी गधे हैं

मेरे सारे सहकर्मी गधे हैं
3/5

ये एक जटिल मामला है। ऑफिस और काम के तनाव के साथ अपने सभी सहकर्मियों के साथ अच्छे संबंध बन पाना मुश्किल होता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि वे लोग भी शायद आपके बारे में ऐसा ही सोचते होंगे। तो बजाए उनकी वजह से अपना खून जलाने के आपको अपने काम को बेहतर करना चाहिये। बाकी काम के अच्छे परिणाम खुद ही सबके सामने सब बयां कर देंगे।

मेरी जगह हमेशा नालायकों को ही प्रमोशन मिलता है

मेरी जगह हमेशा नालायकों को ही प्रमोशन मिलता है
4/5

देखिये जब तक आप अपनी कंपनी के "नेतृत्व के गुणों" की परिभाषा को नहीं समझेंगे, तब तक ये कुंठा आपके दिमाग में खलबली करती ही रहेगी। साथ ही आपको ये साबित करना और बताना भी होता है कि आप इस पद के इच्छुक भी हैं और लायक भी। आपको कंपनी और बॉस की जरूरत के हिसाब से काम करना होता है और समय-समय पर दावेदारी पेश करनी होती है।

इन्हें लगता है कि ऑफस के बाहर हमारी कोई ज़िदगी ही नहीं है!

इन्हें लगता है कि ऑफस के बाहर हमारी कोई ज़िदगी ही नहीं है!
5/5

आपकी जॉब की क्या मांगे हैं, ये आपको ईमानदारी से जानना बेहद जरूरी होता है। और अगर इसके लिये आपको कभी-कभी ज्यादा काम करना पड़े तो ये भी आपको करना ही होगा। लेकिन इसके साथ एक अच्छी बात भी है। अगर आप सिफ्टों में काम कर रहे हैं और ओवर टाइम कर रहे हैं तो आपको इसके लिये कॉम्प ऑफ और अधिक पैसे भी मिलते हैं, जिसके लिये आप अपने बॉस से बात कर सकते हैं।

Disclaimer