घर पर करें ये 5 काम, बालों होंगे सिल्की और मजबूत

By:Rashmi Upadhyay, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jan 12, 2018
आमतौर पर अब युवतियां तेल की चंपी नहीं कराती हैं।
  • 1

    ऑयलिंग है ज़रूरी

    आमतौर पर अब युवतियां तेल की चंपी नहीं कराती हैं। जिस वजह से बालों को पूरा पोषण नहीं मिल पाता है। सप्ताह में कम से कम एक बार ऑयल मसाज करें। इससे बालों को मॉयस्चर मिलेगा और उनका रूखापन भी दूर होगा।

    ऑयलिंग है ज़रूरी
    Loading...
  • 2

    चमकदार और बाउंसी बनाएं

    मौसम कोई भी हो, बाल चमकदार और बाउंसी बनाने के लिए स्कैल्प पर शहद लगा लें। अब हलके हाथों से मसाज करें। करीब 8-10 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें और बाद में गुनगुने पानी से धो दें।

    चमकदार और बाउंसी बनाएं
  • 3

    ट्रिम करवाएं

    सर्दियों की शुरुआत में बालों को नीचे से हलका ट्रिम करवा लेने से दोमुंहे बाल निकल जाते हैं और बालों की ग्रोथ अच्छी होती है।

    ट्रिम करवाएं
  • 4

    कलरिंग ज्य़ादा न करें

    बालों को कलर कराने से बचें। कलर करने से नैचरल बाल खराब हो जाते हैं। इसलिए बालों के साथ खिलवाड़ न करें। इनकी नैचरल तरीके से देखभाल करना ही उचित है।

    कलरिंग ज्य़ादा न करें
  • 5

    कवर करें

    सर्दियों में बालों को सबसे ज्य़ादा नुकसान ठंडी हवा पहुंचाती है। बाहर जाने से पहले बालों को स्कार्फ, कैप व हैट से कवर कर लें। अगर बाल गीले हों तो उनके सूख जाने के  बाद ही उन्हें कवर करें। गीले बाल बांधने व कवर करने से रूसी की समस्या हो सकती है। सर्दियों में रूसी होना स्वाभाविक है। बालों से रूसी दूर करने के लिए स्कैल्प पर नींबू का रस लगाएं या हॉट ऑयल से मसाज करें।

    कवर करें
  • 6

    रोज़ाना न धोएं

    कुछ लोगों को हर दिन बालों को धोना पसंद होता है। अगर आपकी आदत भी ऐसी है तो सर्दियों में इस आदत से बचें। हर तीसरे दिन बालों को धोएं। ऐसा करने से बाल अच्छे और साफ रहेंगे। यानि कि सर्दियों के दिनों में बालों में शैंपू का ज्य़ादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

    रोज़ाना न धोएं
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK