आदतें जो दांतो को नुकसान पहुंचाती हैं

दांतों को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है कि यह जान लिया जाए कि कौन सी आदतें आपके दांतो को नुकसान पहुंचा सकती हैं। स्वस्थ दांत चाहिए तो दांतों को इन बुरी आदतों से दूर रखें।

Anubha Tripathi
Written by: Anubha TripathiPublished at: Jul 11, 2014

दांतो की सेहत

दांतो की सेहत
1/10

आपकी मुस्कान आपके दांतो से ही खूबसूरत लगती है। जरा सोचिए अगर आपकी कोई भी गलत आदत दांतो की सेहत पर असर डाले तो क्या होगा। हम में से ज्यादातर लोग हर रोज कई ऐसी चीजें करते हैं जो आपके दांतो को काफी नुकसान पहुंचा सकते हैं। आइए जानें दांतों को नुकसान पहुंचाने वाली आदतों के बारे में।

नियमित चेकअप से परहेज

नियमित चेकअप से परहेज
2/10

नियमित रूप से अपने दांतों का चेकअप करना दांतों की देखभाल के लिए बहुत जरूरी है। आपको अपने दांतों में दर्द, सड़न, सेंसिटिविटी होने तक का इंतज़ार नहीं करना चाहिए। साल में एक बार डेंटिस्ट से चेकअप कराएं। इससे होने वाली परेशानी को पहले ही रोक सकेंगे।

ब्रश ना बदलना

ब्रश ना बदलना
3/10

अगर ब्रश पुराना हो जाए या ब्रश के दातें खराब हो गए हों तो ब्रश तुरंत बदल लें नहीं तो खराब ब्रश आपके मसूडों व दांतों को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके साथ ही हमेशा सॉफ्ट ब्रश का इस्तेमाल करें। अगर आप सख्त ब्रश का इस्तेमाल करते हैं तो उसे कुछ देर गर्म पानी मे डुबोकर फिर ब्रश करें।

दांतो की परेशानी को अनदेखा करना

दांतो की परेशानी को अनदेखा करना
4/10

दांतों में होने वाली परेशानी को अनदेखा ना करें। दांतों में होने वाली समस्या की जांच और इलाज करवाएं। खासतौर पर अगर रूट कैनाल, दांत निकलवाना. मसूड़ों की सर्जरी जैसी स्थिति में घाव भरने और स्थिति के पूरी तरह से सामान्य होने में समय लगता है।

दांत का डॉक्टर बनना

दांत का डॉक्टर बनना
5/10

किसी भी दवा के बिना डॉक्टरी सलाह के लेना नुकसानदायक हो सकता है। इसलिए जब भी आपको दांत, मुंह या शरीर के किसी अन्य हिस्से में कोई परेशानी महसूस हो तो डॉक्टर के पास जाएं न कि पुराने नुस्खों को ही आजमाएं।

तेजी से ब्रश करना

तेजी से ब्रश करना
6/10

लोग दांतों को साफ करने में या तो वक्त बिताना ही नहीं चाहते या फिर बहुच कम वक्त देना चाहते हैं। कुछ लोगों को दिन में 2 बार दांतों की सफाई झंझट लगती है। हालांकि दांतों को हेल्थी बनाए रखने के लिए जरूरी है कि दांतों को 2 से 3 बार कायदे से साफ किया जाए। एक बात ध्यान रखें कि दांतों को ज्यादा बार और तेज ब्रश करने से दांतों की ऊपरी परत यानी इनेमल कमजोर हो जाती है।

डेंटल फ्लॉस और एंटीसेप्टिक माउथवॉश

डेंटल फ्लॉस और एंटीसेप्टिक माउथवॉश
7/10

ब्रशिंग के साथ माउथवॉश और फ्लॉसिंग भी जरूरी हैं । आपके दांतों के बीच में जो खाना फंसता है वो दांतों की सड़न और मसूड़ों के इंफेक्शन का एक बड़ा कारण होता हैं। इसलिए स्वस्थ मसूड़ों और दांतों के लिए डेंटल फ्लॉस जरूरी है। इसके अलावा मुंह के कीटाणुरहित रखने के लिए रात में सोने से पहले एंटीसेप्टिक माउथवॉश का प्रयोग करें।    

जंक फूड का सेवन

जंक फूड का सेवन
8/10

ज्यादा मात्रा में सोडा , कोल्ड ड्रिंक आदि पीना दांतों के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। इन्हें ज्यादा लेने से दांतों की ऊपरी परत यानी इनेमल को नुकसान पहुंचता है और दांत सेंसेटिव हो जाते हैं जिससे कुछ भी गर्म-ठंडा दांतों में लगने लगता है।

हरी सब्जियों और फल का सेवन ना करना

हरी सब्जियों और फल का सेवन ना करना
9/10

हरी सब्जियां और फल दोनों ही आपके शरीर के साथ दांतों के लिए भी बहुत जरूरी होते हैं। इन्हें लेने से जरूरी विटामिन शरीर को मिलते हैं जो दांतों के लिए भी जरुरी हैं। विटामिन सी और विटामिन डी दोनों ही दांतों के लिए बहुत फायदेमेंद हैं।

तंबाकू का नशा करना

तंबाकू का नशा करना
10/10

तंबाकू को किसी भी तरह लेने से (बीड़ी ,सिगरेट,जर्दा आदि) हेल्थ के साथ-साथ दांतों और मसूड़ों को नुकसाना पहुंच सकता है। दांतों से जुड़े मसूड़ों को कमजोर करता है । तंबाकू को किसी भी तरीके से लेने पर दांतों पर भूरी, लाल ,पीली परत जमा हो जाती है।

Disclaimer