सस्ते फोन कॉल्स बनेंगे ब्रेकअप की वजह! जानें कैसे?

रिश्तों को जोड़ने के लिए स्पेस और चुप्पी की उतनी ही जरूरत होती है जितनी बातों की। जब बातें बढ़ जाती हैं और चुप्पी घट जाती है तो रिश्ते का अंत शुरू होने लगता है, सस्ते फोन कॉल्स भी धीरे-धीरे यही करेंगे। कैसे? इसके लिए ये पूरा लेख पढ़ें।

Gayatree Verma
Written by: Gayatree Verma Published at: Nov 08, 2016

क्या कॉल रेट कम हो जाने से बातें बढ़ जाती हैं...?

क्या कॉल रेट कम हो जाने से बातें बढ़ जाती हैं...?
1/5

और इसी सवाल के तर्ज पर ये भी पूछा जा सकता है कि,क्या वीडियो कॉलिंग फ्री हो जाने से इंसान फ्री हो जाता है...??जी हां,  हम बात कर रहे हैं आजकल बेहद सस्ती या फ्री कॉल्स की सुविधा उपलब्ध कराने वाले ढेरों प्लान की। ऐसे में एक बार इस सवाल के बारे में जरूर सोचिएगा कि कहीं सस्ती और फ्री की फोन कॉल्स आपके ब्रेकअप की वजह न बन जाएं। हैरान मत होइए, जब फेसबुक और वॉट्सएप रिश्ते टूटने की वजह बन सकते हैं तो जरा सोचिए कि अनलिमीटेड फ्री कॉल्स से क्या-क्या हो सकता है...???

ज्यादा ऑनलाइन रहना भी खतरनाक!

ज्यादा ऑनलाइन रहना भी खतरनाक!
2/5

कोई इंसान कब तक ऑनलाइन रह सकता है। जब लोगों के रिश्ते फेसबुक और वॉट्सऐप में मैसेज के जवाब ना देने भर से टूट सकते हैं तो जरा सोचिए अनलिमिटेड डेटा की वजह से जब आप हमेशा ऑनलाइन रहेंगे तो क्या-क्या होगा। ऐसे प्लान से आपकी सोशल लाइफ तो हमेशा लाइव रहेगी और साथ ही इसके द्वारा वीडियो कॉलिंग भी काफी आसान बन गई है। ऐसे में किसी समय अगर आप वीडियो कॉल अटेंड नहीं पाए तो शक की सुईं घूमना शुरू हो जाएगी जो आपके रिश्ते का अंत कर के ही दम लेगी।

उलझनों का दौर

उलझनों का दौर
3/5

सामने बैठकर बात करने और वीडियो कॉलिंग करने में फर्क होता है। सामने बैठकर बात करने में सामने वाला आपकी बातों से ज्यादा आपके बॉडी लैंग्वेज को ध्यान में रखकर आपकी बातें समझता है। यहीं से भावनाओं का मिलन शुरू होता है। जबकि वीडियो कॉलिंग में ऐसा कुछ नहीं होता। आप एक-दूसरे को केवल देख सकते हैं। समझ नहीं सकते। और यहीं से शुरू होता है उलझनों का दौर।

स्पेस की कमी

स्पेस की कमी
4/5

आज हर कपल की सबसे बड़ी समस्या है- स्पेस की कमी। स्पेस की कमी या यूं कहें निजता का उल्लंघन। जिसके चक्कर में पिछले दिनों एक पत्नी ने अपने पति से तलाक लेने के लिए अर्जी भी डाल दी थी, जिस पर जज ने भी फैसला सुनाया था कि पत्नी की निजी जिंदगी उसका मूल अधिकार है। अब आप खुद सोचिए कि जब आप 24x7 ऑनलाइन हैं तो स्पेस की कमी होगी ही। जिसके बाद एक झगड़ा...फिर दूसरा झगड़ा और फिर रिश्ते का "दि एंड"।

मानिसक तनाव

मानिसक तनाव
5/5

गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रैंड के मैसेज का जवाब दूं कि मां के कॉल का...?? दोस्त को एक्जाम हॉल (मतलब कोई भी जरूरी जगह) तक छोड़ने जाऊं या बॉस के साथ ऑनलाइन मीटिंग अटैंड करूं?  अनलिमिटेज फ्री नेट और वीडियो कॉलिंग की सुविधा होने पर हमेशा इन सवालों के जवाबों से जूझना पड़ेगा। और इसमें ये भी नहीं बोल सकते कि बीमारी के कारण घर पर हूं। क्योंकि वीडियो कॉलिंग से आपकी वर्तमान जगह का पता चल जाएगा। तो फ्री फोन कॉल्स और अनलिमिटेड प्लान्स को लेकर खुश जरूर हों लेकिन इन समस्याओं के बारे में भी जरूर सोचें।

Disclaimer