स्पाइन को हेल्दी और मजबूत बनाने के लिए करें इन 9 फूड्स का सेवन

स्पाइन को हेल्दी रखना बेहद जरूरी है। यहां जानें स्पाइन को हेल्दी रखने वाले कुछ फूड्स के बारे में।

Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Aug 04, 2021

स्पाइन को हेल्दी रखने वाले फूड्स

स्पाइन को हेल्दी रखने वाले फूड्स
1/10

स्पाइन यानि रीढ़ की हड्डी का स्वस्थ रहना बेहद जरूरी है। स्पाइन के सहारे हमारा पूरा शरीर टिका हुआ है। स्पाइन में थोड़ी सी भी असमानता हमारे पूरे शरीर को प्रभावित कर सकती है। इसलिए रीढ़ की हड्डी के मामले में बिलकुल भी लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए। हालांकि स्पाइन को कई तरीकों से हेल्द रखा जा सकता है। इस लेख के माध्यम से हम आपको स्पाइन को हेल्दी रखने वाले कुछ फूड्स के बारे में बताएंगे। आइये जानते हैं इसके बारे में।   

सैलमन

सैलमन
2/10

एक स्ट्रॉन्ग स्पाइन के लिए शरीर को प्रोटीन की जरूरत पड़ती है। सैलमन में स्पाइन के लिए फायदेमंद लीन प्रोटीन पाया जाता है। सैलमन ओमेगा 3 फैटी एसिड्स का भी एक बहुत अच्छा स्त्रोत है। ओमेगा 3 फैटी एसिड्स बोन्स में कैल्शियम की मात्रा को बढ़ाकर स्पाइन को मजबूत बनाता है। सैलमन में अच्छी खासी मात्रा में कैल्शियम भी पाया जाता है, जो हड्डियों के स्वास्थ्य को बेहतर रखता है।  

एवोकाडो

एवोकाडो
3/10

एवोकाडो मोनोअनसैचुरेटेड फैट्स से भरपूर होता है। मोनोअनसैचुरेटड फैट्स एक हेल्दी स्पाइन के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। एवाकाडो में फाइबर और पोटेशियम भी होता है, जो हड्डियों में कैल्शियम लॉस को रोकता है। यही नहीं एवोकाडो फॉसफोरस, मैंगनीज और मैग्नीशियम से भी भरपूर होते हैं, जो आपकी स्पाइन को मुख्य रूप से मजबूत बनाते हैं।   

नट्स

नट्स
4/10

नट्स हेल्दी न्यूट्रिएंट्स का बहुत अच्छा स्त्रोत होता है। नट्स में बायोटिन, बी विटामिन्स, ओमेगा 3, ओमेगा 6 फैटी एसिड्स और प्रोटीन आदि होता है। रोजाना एक मुठ्ठी नट्स यानि ड्राई फ्रूट्स खाने से स्पाइन हेल्दी और मजबूत रहती है। नट्स की एंटी इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज होती हैं, जो शरीर में हो रही सूजन को भी कम करती है। वहीं ऐसे में बादाम, काजू और पिस्ता स्पाइन के लिहाज से अधिक फायदेमंद होते हैं।   

पनीर

पनीर
5/10

अपनी स्पाइन को हेल्थी रखने के लिए पनीर का सेवन जरूर करना चाहिए। पनीर कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर होती है। यह हड्डियों की मजबूती के लिए दो अहम न्यूट्रिएंट्स हैं। पनीर में प्रोटीन भी पाया जाता है। इससे ओस्टियोपोरोसिस होने का खतरा भी कम हो जाता है। आसान शब्दों में समझें तो पनीर में स्पाइन और अन्य ज्वॉइंटस को हेल्दी रखने वाले तकरीबन पोषक तत्व पाए जाते हैं।  

सोयाबीन

सोयाबीन
6/10

सोयाबीन कैल्शियम का एक अच्छा स्त्रोत है। स्पाइन की मजबूती को बरकरार रखने के लिए सोयाबीन भी डाइट में शामिल करना चाहीए। कैल्शियम के साथ-साथ सोयाबीन प्रोटीन का भी एक बहुत अच्छा स्टार्ट है, जो कि आपको सेल डैमेज से बचता है और हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। इसका सेवन रीढ़ की हड्डी में होने वाली समस्याओं की आशंका को भी कम करता है।

दूध

दूध
7/10

दूध आपकी बोन्स के डेवलपमेंट और बोन स्ट्रक्चर को मेनटेन करने में अहम भूमिका निभाता है। दूध कैल्शियम का एक जाना माना स्त्रोत है। दूध में कैल्शियम के साथ विटामिन डी भी होता है। विटामिन डी कैल्शियम को एब्जॉर्ब करने में मदद करता है। दूध पीने से स्पाइनल इंजरी होने का खतरा कम हो जाता है। इससे आपकी हड्डियां भी मजबूत रहती हैं।  

ब्रॉकली

ब्रॉकली
8/10

ब्रॉकली में पाए जाने वाले तमाम न्यूट्रीएंट्स आपकी स्पाइन को मजबूती देने में सहायक हैं। यह कैल्शियम का भी अच्छा स्त्रोत होता है। ब्रॉकली में कैल्शियम के साथ-साथ विटामिन के भी होता है, जो की बोन मिनरल डेंसिटी को बढ़ता है और फ्रैक्चर या फिर स्पाइन में दर्द या चोट लगने के खतरे को कम करता है। साथ ही ब्रॉकली में फॉसफोरस, जिंक और मैग्नीशियम भी होता है, जो स्पाइन को मजबूत बनाता है।   

अंडे

अंडे
9/10

अंडे में खासतौर पर इसके यॉक (अंडे का पीला हिस्सा) में विटामिन डी होता है। विटामिन डी शरीर से कैल्शियम को अब्जॉर्ब करने में मदद करता है। अंडे खाने से स्पाइनल इंजरी जैसे कि फ्रैक्चर या फिर स्पाइन में खिंचाव आदि होने का खतरा कम हो जाता है। अंडे में जिंक, कैल्शियम, पोटेशियम, मैंगनीज आयरन और फोलेट भी होता है। ये सभी न्यूट्रिएंट्स स्पाइन को हेल्दी रखने के लिए ज़रूरी होते हैं।  

पालक

पालक
10/10

पालक एक डार्क ग्रीन लीफी वेजीटेबल है। पालक पोटेशियम, मैग्नेशियम, फोलेट, विटामिन ए साथ ही कैल्शियम का भी अच्छा स्त्रोत है। पालक खाने से बोन हेल्थ बढ़ती है। पालक में विटामिन के भी होता है। विटामिन के कैल्शियम को हड्डियों तक पहुंचने में मदद करता है। यह बोन मिनरल डेंसिटी को भी बढ़ाता है और फ्रैक्चर के खतरे को भी काफी हद तक कम करता है। पालक आपकी स्पाइन में होने वाली समस्याओं में भी मददगार साबित होती है।   

Disclaimer