आहार जो दूर करें माइग्रेन का पेन

कुछ खास तरह के खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल कर माइग्रेन से बचा और निपटा जा सकता है, आइए जानें ऐसे ही कुछ आहारों के बारे में।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Nov 07, 2013

माइग्रेन

माइग्रेन
1/6

माइग्रेन को अर्द्धकपाली भी कहते हैं। इसमें सिर के आधे हिस्‍से में दर्द होता है। मतली, उल्‍टी और प्रकाश से संवेदनशीलता आदि इसके सामान्‍य लक्षण हैं। माइग्रने के दर्द के चलते कई लोग अपना रोजमर्रा का काम भी नहीं कर पाते। हालांकि अधिकतर यही माना जाता है कि इसका कोई इलाज नहीं है, लेकिन कुछ खास तरह के खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल कर इससे बचा और निपटा जा सकता है।

कॉफी

कॉफी
2/6

कैफीन और माइग्रेन के तार एक दूसरे से काफी मजबूती के साथ जुड़े हैं। ब्‍लैक कॉफी, कैफीन का एक अच्‍छा स्रोत है। कैफीन का एक उपयोग मस्तिष्क में रक्त वाहिकाओं की सूजन कम करना है। यह माइग्रेन के रोगियों के लिए काफी मददगार होती है। हालांकि, कुछ लोगों को इससे लाभ के स्‍थान पर हानि होने की बात भी सामने आई है।

फल

फल
3/6

कई महिलाओं को पीरियड्स में माइग्रेन का अनुभव होता है। जो अक्‍सर ऐसे समय में एस्‍ट्रोजेन के स्‍तर में अचानक से आई गिरावट के कारण होता है। एस्‍ट्रोजेन वह हार्मोन है जो किसी भी महिला के दिल से लेकर दिमाग तक को कंट्रोल करता है। ऐसे में आपको फलों का सेवन करना चाहिए। फलों में भरपूर मात्रा में पोषक तत्‍व होते हैं और साथ ही इनमें फैट की मात्रा भी कम होती है। फलों में मौजूद फाइबर एस्‍ट्रोजेन के स्‍तर को नियंत्रित करते है।

अदरक

अदरक
4/6

अदरक माइग्रेन में बहुत लाभकारी होता है। अदरक को यौगिक की तरह माना जाता है। यह माइग्रेन के खिलाफ उत्तेजक पदार्थों जैसे प्रास्टाग्लैंडिनों को अवरुद्ध करने का काम करता है। अगर आपको भी माइग्रेन के लक्षण दिखाई दें तो अपने मसालों में इसको भी जोड़ दें।

मछली

मछली
5/6

मछली जैसे सालेमोन और मैकरील ओमेगा-3 फैटी एसिड और विटामिन से समृद्ध स्रोत है। यह माइग्रेन के दर्द और उससे होने वाली सनसनाहट को कम करने में मदद करता है। सिनसिनाटी विश्वविद्यालय में शोधकर्ताओं ने शोध के दौरान पाया कि जिन लोगों ने फैटी मछली को छह सप्‍ताह तक लगातार लिया उन लोगों में माइग्रेन के दर्द और उससे होने वाली सनसाहट की गंभीरता को कम कर दिया।

मैगनीशियम रिच फूड्स

मैगनीशियम रिच फूड्स
6/6

कई अध्‍ययनों से यह बात समाने आई है‍ कि मैगनीशियम की कमी से माइग्रेन के खतरा बढ़ा जाता है। मैगनीशियम को माइग्रेन के मरीजों के लिए रामबाण की तरह माना जाता है। ब्‍लड शुगर और ब्‍लड प्रेशर के स्तर को नियंत्रित कर यह प्रभावी ढंग से माइग्रेन सक्रियताओं का मुकाबला करता है। आहार में 500 मिलीग्राम मैग्नीशियम की खुराक माइग्रेन का प्रभावी ढंग से इलाज करने में मदद कर सकती है। साबुत अनाज, सेम, हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां में मैग्निशियम अधिक होता है।

Disclaimer