बाइसेप्‍स बनाने के दौरान कभी न करें ये गलतियां, खराब हो जाएगी बॉडी!

लोग बाइसेप्स बनाने के लिये अकसर ज्यादा वेट से एक्सरसाइज करने लगते हैं। लेकिन सच तो यह है कि बाइसेप्स का अधिकांश भाग ट्राइसेप्स से ही बनता है। इन्हें नज़रअंदाज़ करने पर बाइसेप्स नहीं बनते।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jul 31, 2018

बड़े बाइसेप्स बनाने की चाह में बड़ी गलतियां

बड़े बाइसेप्स बनाने की चाह में बड़ी गलतियां
1/6

बड़े और मज़बूत डोले आपकी शक्ति को बखूबी दर्शाते हैं। इसलिये लगभग सभी जिमिंग करने वाले लोगों को बड़े और आकर्षक डोलों की दरकार होती है। लेकिन इन्हें पाना इतना आसान नहीं, आकर्षक और मजबूत बाइसेप्स पाने के लिये अच्छी डाइट और सही वर्कआउट की जरूरत होती है। लोग बाइसेप्स बनाने के लिये अकसर ज्यादा वेट से एक्सरसाइज करने लगते हैं। लेकिन सच तो यह है कि बाइसेप्स का अधिकांश भाग ट्राइसेप्स से ही बनता है। इसलिये इन्हें नज़रअंदाज़ करने पर बाइसेप्स नहीं बनते। चलिये आज आपको ऐसी ही पांच गलतियों के बारे में बताते हैं, जिनकी वज़ह से नहीं बन पा रहे हैं आपके बाइसेप्स।

क्लोज़ ग्रिप बेंच प्रेस और डिप्स न करना

क्लोज़ ग्रिप बेंच प्रेस और डिप्स न करना
2/6

ट्राइसेप्स बिल्डिंग प्रोग्राम में कुछ एक्सरसाइज बेहद महत्वपूर्ण स्थान रखती हैं। क्लोज़ ग्रिप बेंच प्रेस और डिप्स को अपने वर्कआउट प्रोग्राम में शामिल किये बिना बाइसेप्स का मन मुताबिक साइज और शेप पाना संभव नहीं है। 

बहुत ज्यादा वजन उठाना

बहुत ज्यादा वजन उठाना
3/6

जिम में वेट लिफ्टिंग के दौरान ये ध्यान रखें कि आपका लक्ष्य क्या है और उसके लिये कितना वर्कआउट करना है। लक्ष्य के लिये मजबूत इरादा होना अच्छी बात है लेकिन जोश में खुद को नुकसान न पहुंचाएं। जरूरत से ज्यादा वेट उठाने से बाइसेप्स और ट्राइसेप्स की मसल्स और टिशू को स्थाई नुकसान हो सकता है और उनकी ग्रोथ रुक सकती है। 

मांसपेशियों पर ज्यादा तनाव डालना

 मांसपेशियों पर ज्यादा तनाव डालना
4/6

वर्कआउट के दौरान मांसपेशियों को अगर जरा भी आराम नहीं दे रहे हैं तो आपको इससे फायदे की जगह नुकसान हो सकता है। लगातार एक्सरसाइज से मसल्स पर गलत तरीके से पड़ रहा तनाव डोलों को बड़ा बनाए या न बनाए, आपको चोटिल जरूर कर सकता है।

सही वर्कआउट नहीं करना

सही वर्कआउट नहीं करना
5/6

बाइसेप्स हों या ट्राइसेप्स, अच्छी मसल्स बिल्डिंग के लिए जरूरी है कि विभिन्न प्रकार के कर्ल किये जाएं। अगर आप वर्कआउट के दौरान एक तरह के ही कर्ल बार-बार कर रहे हैं तो इससे आपको पूरा फायदा नहीं मिलेगा। अच्छा तरीका यह है कि वर्कआउट के दौरान एक जैसे कर्ल करने के बजाय बार्बेल कर्ल, डंबल कर्ल स्टैंडिंग कर्ल का कांबिनेशन बनाकर करें।

ओवर हेड वर्काउट न करना

 ओवर हेड वर्काउट न करना
6/6

ट्राइसेप्स का लोंग हेड सेही इसका ज्यादातर शेप और मसल्स आते हैं और इसको बेहतर बनाने के लिये ओवर दी हेड और शोल्डर एक्सरसाइझ करना जरूरी होता है। इसलिये हर ट्राइसेप्स वर्कआउट में सीटिट/इनक्लाइन ओवर हेड बारबैल, डम्बल बारबैल और केबल एक्सटेंशन शामिल होने चाहिये।

Disclaimer