हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

त्‍वचा की इन 5 अजीब समस्‍याओं की जांच है जरूरी

By:Pooja Sinha, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Sep 04, 2015
त्‍वचा संबंधी कुछ जिद्दी समस्‍याओं जैसे लिंफोमा, रिंगवार्म, रोजेसिया आदि के आलाव दूसरी ऐसी त्‍वचा की समस्‍यायें हैं जिनकी जांच कराना बहुत जरूरी है, इनके बारे में यहां जानें।
  • 1

    त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं की जांच है जरूरी

    त्वचा की कुछ समस्याएं आंतरिक कारणों से होती हैं, तो कुछ हार्मोनल बदलावों के कारण। इसके अलावा खान-पान और वातावरण भी आपकी त्वचा को प्रभावित करता है। त्वचा की कुछ समस्याएं थोड़े समय में अपने आप ठीक हो जाती हैं जैसे मुंहासे, रैशेज आदि। लेकिन त्‍वचा संबंधी कुछ जिद्दी समस्‍याओं जैसे लिंफोमा, रिंगवार्म, रोजेसिया आदि को गंभीरता से लेना चाहिए और समय पर इनकी जांच करवानी चाहिए, क्‍योंकि यह चिंता का विषय हो सकती है। आइए त्‍वचा संबंधी ऐसी ही कुछ अजीब समस्‍याओं के बारे में जानें। 

    त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं की जांच है जरूरी
    Loading...
  • 2

    रेड पैच के साथ त्‍वचा में खुजली यानी लिंफोमा

    जरूरत से ज्‍यादा खुजली जोखिम का कारण हो सकती है। त्वचा विशेषज्ञ एमडी डेबरा जलिमान के अनुसार, फ्लैट रेड पैच, प्‍लॉक का बढ़ना और गांठों के साथ बहुत ज्‍यादा खुजली कुछ मामलों में त्‍वचा के लिंफोमा का संकेत हो सकता है। अगर आपको क्लस्टर के लक्षण परिचित लग रहे हैं तो आपको इस गंभीर बीमारी का मूल्‍यांकन त्‍वचा विशेषज्ञ से कराना चाहिए।

    रेड पैच के साथ त्‍वचा में खुजली यानी लिंफोमा
  • 3

    चेहरे की लाली यानी रोजेसिया

    रोजेसिया के कारण चेहरे पर लाली होना काफी कष्‍टदायक होता है। जीं हां, रोजेसिया मुंहासों का बिगड़ा रूप है जो मध्यम आयु की गोरी त्वचा वाली महिलाओं को ज्यादा होती है। महिलाओं में यह हार्मोन के असंतुलन, प्रेग्नेंसी, गर्भनिरोधक गोलियों के गलत इस्तेमाल से होती है। आमतौर पर रोजेसिया चेहरे, विशेष रूप से माथे, गाल, नाक, और ठोड़ी को प्रभावित करता है। यहां लाल रंग की छोटी-बड़ी फुंसियों हो जाती हैं। इन फुंसियों में मवाद भरा होता है। ये त्वचा के नीचे रक्त वाहिकाओं की सूजन के कारण होती है।

    चेहरे की लाली यानी रोजेसिया
  • 4

    दूर न होने वाले ड्राई पैच एक्जिमा या सोरायसिस

    सोराइसिस त्वचा का एक ऐसा रोग है जो पूरे शरीर की त्वचा पर तेजी से फैलता है। इसमे त्वचा मे जलन होती है और सारी त्वचा लाल हो जाती है। त्वचा पर छोटे-छोटे धब्‍बों से मिलकर छोटे या बड़े आकार के धब्बे हो जाते हैं। इनमें शुरुआत मे प्रायः पस होती है जो बाद मे सुख जाता है। इन धब्बो/ चकतों का रंग गुलाबी या चमकदार सफेद होता है। एक्जिमा भी त्वचा का जटिल रोग है। त्वचा मे जलन, दर्द व लाली दिखाई देती है जो कुछ दिन बाद कालिमा मे बदल जाती है। एक्जिमा की शुरुआत त्वचा के मोड़ों जैसे कुहनी, गर्दन के पिछले भाग, पैर का ऊपरी भाग, हथेली के पिछले हिस्से और घुटनो के नीचे वाले हिस्सों से होती है। दोनों ही समस्‍या को इलाज और उचित दवा के साथ नियंत्रित किया जा सकता है: एक्जिमा के मामले में सामयिक या मौखिक स्टेरॉयड या एंटीथिस्टेमाइंस, और विटामिन डी क्रीम, सामयिक स्टेरॉयड, ओरल दवाओं, या सोरायसिय का इलाज पराबैंगनी प्रकाश और लेजर से किया जाता है।

    दूर न होने वाले ड्राई पैच एक्जिमा या सोरायसिस
  • 5

    शरीर पर पिग्मेंटेड पैच यानी टिनिअ वेर्सिकोलोर

    अगर आपके चेस्‍ट और पीठ पर ड्राई और परतदार हल्‍के भूरे रंग के धब्‍बे हैं तो यह टिनिअ वेर्सिकोलोर यानी पसीने वाली त्‍वचा में यीस्‍ट इंफेक्‍शन हो सकता है। अक्‍सर लोग इसे कॉमन पिग्‍मेंटेशन मानते हैं, लेकिन यह कॉमन पिग्‍मेंटेशन से अलग होता है क्‍योंकि यह आमतौर पर चेहरे को प्रभावित करता है। बेशक, यह देखने में भद्दा लगता है, लेकिन यह दर्दनाक या संक्रामक नहीं होता है। अपने त्‍वचा विशेषज्ञ को दिखने पर, वह इसका इलाज एंटीफंगल क्रीम, लेाशन और यीस्‍ट कंट्रोल दवाओं से करते हैं।
    Image Source : minarsdermatology.com

    शरीर पर पिग्मेंटेड पैच यानी टिनिअ वेर्सिकोलोर
  • 6

    परतदार पैच जिसमें लोशन भी मदद नहीं करता, रिंगवार्म

    त्वचा पर परतदार पैच दाद या रिंगवार्म का संकेत हो सकता है। अपने नाम के बावजूद इसमें कोई कीड़ा शमिल नहीं है बल्कि यह एक फंगल इंफेक्‍शन है जो त्‍वचा की ऊपरी सतह पर विकसित होता है। यह त्‍वचा, नाखूनों और स्‍कैल्‍प को प्रभावित करता है। ये लाल या हलके ब्राउन रंग का गोल आकार का होता है। दाद शरीर के जिस भाग पर होता है उस भाग पर खुजली मचती है और जब व्यक्ति इसे खुजलाने लगता है तो यह और भी फैलने लगता है। गीलेपन, नमी और भीड़-भाड़ वाली जगह पर यह ज्‍यादा फैलता है। लेकिन इसकी आसानी से पहचान की जा सकती है और डॉक्टर द्वारा बताई क्रीम या एंटीफंगल दवाओं से इसका इलाज किया जा सकता है।

    परतदार पैच जिसमें लोशन भी मदद नहीं करता, रिंगवार्म
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर