प्‍याज से होता है इन 5 स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का उपचार

प्‍याज आहार का लोकप्रिय हिस्‍सा होने के साथ सर्दी जुकाम के इलाज से लेकर हैजा और प्‍लेग जैसी महामारी के इलाज के लिए भी सदियों से इस्‍तेमाल किया जा रहा है। आइए जानें प्‍याज की मदद से स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का उपचार कैसे किया जा सकता है।

Pooja Sinha
Written by:Pooja SinhaPublished at: Oct 16, 2015

प्‍याज से करें स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का उपचार

प्‍याज से करें स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का उपचार
1/6

प्‍याज आहार का लोकप्रिय हिस्‍सा होने के साथ सर्दी जुकाम के इलाज से लेकर हैजा और प्‍लेग जैसी महामारी के इलाज के लिए भी सदियों से इस्‍तेमाल किया जा रहा है। प्‍याज एक पोषक तत्‍वों से भरपूर आहार है, इसमें कैलोरी की मात्रा कम और विटामिन, मिनरल और एंटीऑक्‍सीडेंट जैसे पोषक तत्‍वों की भरपूर मात्रा होती है। कटे हुए प्‍याज के एक कप में लगभग 64 कैलोरी, 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, वसा 0ग्राम, 0ग्राम कोलेस्ट्रॉल, 3 ग्राम फाइबर, 7 ग्राम चीनी, 2 ग्राम प्रोटीन और विटामिन सी, विटामिन बी -6 और मैंगनीज का दैनिक जरूरत का 10 प्रतिशत से अधिक होता है। इसके अलावा प्‍याज में थोड़ी सी मात्रा में कैल्शियम, लोहा, फोलेट, मैग्नीशियम, फास्फोरस और पोटेशियम और एंटीक्वेरसेटिन और सल्‍फर भी होता है। आइए जानें प्‍याज की मदद से स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का उपचार कैसे किया जा सकता है।

आसानी से हटाये ईयरवैक्‍स

आसानी से हटाये ईयरवैक्‍स
2/6

ईयरवैक्‍स कान की नलिका में मौजूद ग्रंथियों और ब्‍लॉकेज के कारण होती है। ईयरवैक्‍स होने से आपको सुनने में परेशानी, चक्‍कर आना, कान में दर्द और खुजली का अनुभव होता है। प्‍याज एंटी-बैक्‍टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेंटरी गुणों की मौजूदगी के कारण ईयरवैक्‍स के इलाज की एक कारगर औषधि है। ईयरवैक्‍स को साफ करने के लिए आपको प्‍याज का एक टूकड़ा गोलाई में काटकर आपको कान की नलिका के कोने में रखना है। लेकिन ध्‍यान रहें कि यह कान के अंदर न जाये। इसे पूरी रात ऐसे की छोड़ने से वैक्‍स को नर्म होने में मदद मिलती है। ऐसा करने से आप अगली सुबह वैक्‍स को आसानी से साफ कर सकते हैं।

विषाक्त पदार्थों को दूर करने में मददगार

विषाक्त पदार्थों को दूर करने में मददगार
3/6

यह तो आप जानते ही हैं कि प्‍याज अमीनों एसिड से युक्‍त सल्‍फर का समृद्ध स्रोत है। सल्‍फर की मौजूदगी के कारण प्‍याज प्रभावी ढंग से लिवर को डिटॉक्‍स करने में मदद करता है। इसके अलावा प्‍याज में पोटेशियम, फाइबर फीटोनुट्रिएंट्स, फ्लेवोनॉयड के कारण शरीर की जहरीले केमिकल से लड़ने में मदद करता है।

जलन कम करें प्‍याज

जलन कम करें प्‍याज
4/6

त्‍वचा के जलने पर भी आप प्‍याज के रस का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। सल्‍फर और क्वेरसेटिन के प्‍याज में मौजूद होने के कारण यह जले के घाव की चिकित्‍सा और जलने पर होने वाले दर्द से राहत प्रदान करने में मदद करता है। साथ ही यह छाले के होने की संभावना को प्रभावी ढंग से कम करता है। जलने पर प्‍याज के कुछ स्‍लाइस लेकर से सीधे प्रभावित त्‍वचा पर लगाये। दर्द और जलन से राहत पाने के लिए इस उपाय को एक दिन में दो बार करें।

कीड़े के डंक से राहत दें

कीड़े के डंक से राहत दें
5/6

कीड़े के डंक के लिए प्‍याज एक कारगर उपाय है। समस्‍या होने पर एक प्‍याज लेकर उसे बीच में से काट लें। फिर इसे कुछ मिनट के लिए सीधा डंक वाली त्‍वचा पर लगाये। यह दर्द से राहत देने में मदद करता है।

शरीर के तापमान को कम करने में मददगार

शरीर के तापमान को कम करने में मददगार
6/6

एक प्‍याज लेकर उसे बीच में से आधा काट लें। इसे अपने पैर के नीचे रखकर इसके चारों ओर कंबल लपेट लें। बुखार को कम करने के लिए आप अपने मोजे में कच्‍चे प्‍याज के स्‍लाइस को रखकर भी पहन सकते हैं। Image Source : Getty

Disclaimer