खूनी और बादी बवासीर के लक्षण और इनसे राहत पाने के 7 घरेलू उपाय

बवासीर दाे तरह की हाेती है। एक खूनी बवासीर और दूसरा बादी बवासीर। जानें इनके लक्षण और घरेलू उपाय

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Aug 11, 2021

1/10

(Image Source : Ayusharogyam.com) बवासीर एक पीड़ादायक बीमारी है। इसे Piles, Hemorrhoids भी कहा जाता है। इसमें गुदा के अंदर, बाहर सूजन आ जाती है, जिससे मस्से बन जाते हैं। ये मस्से कभी अंदर रहते हैं, ताे कभी बाहर रहते हैं। खूनी और बादी दाे तरह के बवासीर हाेते हैं। इसमें असहनीय पीड़ा, जलन हाेती है। इनका समय पर इलाज करना बहुत जरूरी हाेता है। शुरुआत में आप चाहें ताे कुछ घरेलू उपायाें की मदद से भी इसमें आराम पा सकते हैं। लेकिन डॉक्टर से कंसल्ट करना भी बेहद जरूरी हाेता है, अन्यथा यह समस्या बढ़कर फिस्टुला का रूप ले सकता है।

खूनी बवासीर के लक्षण

खूनी बवासीर के लक्षण
2/10

(Image Source : Yogawithbank.com) खूनी बवासीर में पीड़ादायक नहीं हाेती है। इसमें गुदा के अंदर मस्से हाे जाते हैं, जिससे मल त्याग करते हुए मल से साथ खून निकलता है। इसमें मल त्याग करने के बाद मस्से अंदर चले जाते हैं। मल के रंग में बदलाव, मल त्याग करने की आदताें में बदलाव, गुदा में दर्द हाेना, शरीर का वजन कम हाेना, पेट दर्द, उल्टी और मतली हाेना खूनी बवासीर के लक्षण हाे सकते हैं। अगर आपकाे इनमें से काेई भी लक्षण दिखाई दे, ताे डॉक्टर से कंसल्ट करें।

बादी या मस्से वाली बवासीर के लक्षण

बादी या मस्से वाली बवासीर के लक्षण
3/10

(Image Source : Elpinero.mx) बादी बवासीर में पेट से संबंधित समस्याएं अधिक रहती हैं। इसमें व्यक्ति गैस, कब्ज से परेशान रहता है। इसमें मस्से बाहर निकल जाते हैं, मस्साें के साथ रक्तस्त्राव नहीं हाेता है। बादी बवासीर में खुजली, जलन हाेती है, यह पीड़ादायक हाेती है। बैठने में तकलीफ हाेना, गुदा के पास कठाेर गांठ बनना, पेट साफ न हाेना, मल त्याग करते हुए दर्द हाेना, म्यूकस निकलना और मल त्याग करते समय मल न निकलना आदि बादी बवासीर के लक्षण है।

1. एलाेवेरा

1. एलाेवेरा
4/10

(Image Source : Womenhealthmag.com) एलाेवेरा स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी हाेता है। यह बवासीर की जलन काे भी कम करता है। इसमें सूजनराेधक और कई औषधीय गुण हाेते हैं। एलाेवेरा आंतरिक और बाहरी दाेनाें तरह की बवासीर से राहत दिलाने में मदद करता है। इसके लिए आप मस्साें पर एलाेवेरा जेल लगाएं। इससे जलन, खुजली ठीक हाेती है। आप चाहें ताे एलाेवेरा का जूस भी पी सकते हैं। इससे कब्ज दूर हाेती है और मल त्याग में आसानी हाेती है।

3. जैतून का तेल

3. जैतून का तेल
5/10

(Image Source : Haraj.com) जैतून का तेल बवासीर काे ठीक करने के लिए सबसे बेहतरीन घरेलू उपायाें में से एक है। ऑलिव ऑयल बाहरी बवासीर के लिए लाभदायक हाेता है। इसके लिए आप जैतून के तेल काे बाहर निकले मस्से पर लगाएं। इसमें सूजन काे ठीक करने वाले गुण हाेते हैं। इसका तेल लगाने से रक्तवाहिकाओं में आई सूजन कम हाेती है। जैतून का तेल बादी बवासीर के लिए फायदेमंद माना जाता है। दिन में 2-3 बार इस तेल काे मस्से पर लगाएं।

3. बादाम का तेल

3. बादाम का तेल
6/10

(Image Source : Ecoflores.eu) बादाम का तेल भी बादी बवासीर के लिए एक अच्छा घरेलू उपाय के रूप में कार्य कर सकता है। इसके लिए आप शुद्ध बादाम के तेल में रूई डुबाेएं। इसे बादी बवासीर में मस्से पर लगाएं। दिन में 2-3 बार बादाम के तेल काे मस्से पर लगाने से सूजन, जलन और खुजली दूर हाेती है। धीरे-धीरे इसमें आराम मिलता है।

4. जीरा

4. जीरा
7/10

(Image Source : Brainstudy.info) बवासीर एक पीड़ादायक समस्या है। इसमें गुदा क्षेत्र में काफी दर्द और जलन महसूस हाेता है। इतना ही नहीं इसमें बैठना तक मुश्किल हाे जाता है। ऐसे में जीरे का उपयाेग कारगर हाे सकता है। आप जीरे के बीज काे पानी के साथ पीस लें और पेस्ट तैयार करें। जीरा पेस्ट काे मस्से पर लगाएं। इससे बादी बवासीर में राहत मिलती है। खूनी बवासीर से राहत पाने के लिए आप जीरा भून लें और मिश्री के साथ पीसकर खाएं। दिन में 2-3 बार इसके सेवन से आपकी समस्या दूर हाेगी।

6. नींबू

6. नींबू
8/10

(Image Source : Sjeave.com) नींबू बवासीर काे ठीक करने के लिए एक काफी बेहतरीन उपाय है। नींबू के सेवन से इससे काफी हद तक राहत पाई जा सकती है। नींबू कब्ज की समस्या काे दूर करके खूनी बवासीर से राहत दिलाता है। इसके लिए आप नींबू के रस में अदरक और शहद मिलाकर सेवन करें। इससे आपका पेट साफ हाेगा, धीरे-धीरे समस्या दूर हाेगी।

6. बाथ टब में बैठें

6. बाथ टब में बैठें
9/10

(Image Source : Diamondspas.com) बवासीर हाेने पर डॉक्टर भी अकसर बाथ टब में बैठने की सलाह देते हैं। इससे मस्सा नरम हाेता है और आसानी से अंदर चला जाता है। इसके लिए आप एक बाथ टब में गर्म पानी डालें। अब 10-15 मिनट तक इस टब में बैठे रहें। मस्से वाली जगह पानी में रहनी चाहिए। इससे बवासीर के दर्द, जलन में काफी हद तक आराम मिलता है। आपकाे बवासीर के लक्षण दिखने पर डॉक्टर से तुंरत कंसल्ट करना हाेता है। साथ में आप इस घरेलू उपायाें काे आजमा सकते हैं।

7.सेब का सिरका

7.सेब का सिरका
10/10

(Image Source : Diet.ind.in) सेब का सिरका बवासीर के लिए एक काफी अच्छा घरेलू उपाय है। यह रक्तवाहिनियाें काे सिकाेड़ने में मदद करता है। इसमें अच्छी मात्रा में फाइबर हाेता है, जिससे कब्ज की परेशान दूर हाेती है। इसके लिए आप एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका डालकर पिएं। आप दिन में दाे बार सेब के सिरके का सेवन करें। चाहें ताे सेब के सिरके काे प्रभावित स्थान पर भी लगा सकते हैं। इससे आपकाे काफी आराम मिलेगा।

Disclaimer