ब्रेस्‍टफीडिंग के दौरान एंटीबायोटिक सेवन के प्रभाव

अगर कोई महिला अपने शिशु को स्‍तनपान करवाती है तो उसे इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि स्‍तनपान के दौरान एंटीबायोटिक खाने से शिशु और उसकी सेहत पर क्‍या असर पड़ेगा।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Apr 08, 2016

ब्रेस्‍टफीडिंग के दौरान एंटीबायोटिक का असर

ब्रेस्‍टफीडिंग के दौरान एंटीबायोटिक का असर
1/6

मां का दूध केवल पोषण ही नहीं, बल्कि बच्‍चे के लिए जीवन की धारा है। इससे मां और बच्चे के स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। आपको अपने शिशु को पहले छह महीने तक केवल ब्रेस्‍टफीडिंग पर ही निर्भर रखना चाहिए। यह आपके शिशु के जीवन के लिए जरूरी है, क्योंकि मां का दूध सुपाच्य होता है और इससे पेट की गड़बड़ियों की आशंका नहीं होती। लेकिन हर मां को ब्रेस्‍टफीडिंग के दौरान कुछ बातों को ध्‍यान में रखना चाहिए ताकी बच्‍चे पर इसका असर न पड़ें। जैसे अगर कोई महिला अपने शिशु को स्‍तनपान करवाती है तो उसे इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि स्‍तनपान के दौरान एंटीबायोटिक खाने पर शिशु और उस पर क्‍या असर पड़ेगा। आइए इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से जानकारी लेते हैं कि स्तनपान के दौरान एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन करने से शिशु पर क्या असर होता है।

शिशु की पोट्टी के कलर में अस्‍थायी बदलाव

शिशु की पोट्टी के कलर में अस्‍थायी बदलाव
2/6

अगर आप ब्रेस्‍टफीडिंग के दौरान एंटीबायोटिक दवाएं लेती है तो आपका शिशु सामान्‍य से ज्‍यादा या उसकी पोट्टी का हर रंग का भी हो सकता है। इसे किसी उपचार की आवश्‍यकता नहीं हैं, और एंटीबायोटिक्‍स लेना बंद करने पर इस समस्‍या का हल हो जाता है। लेकिन अगर समस्‍या ज्‍यादा हो तो अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें।

दांतों निकलने के दौरान समस्‍या

दांतों निकलने के दौरान समस्‍या
3/6

मां द्वारा एंटीबायोटिक खाने पर बच्‍चे को दांतों के निकलने के दौरान दिक्‍कत होती है, क्‍योंकि उसे दांत निकलने के समय काफी छोटी-छोटी समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है और एंटीबायोटिक से भी ऐसा ही होता है। ऐसे में आपको अपने डॉक्‍टर से परामर्श लेना चाहिए।

बच्‍चे को दस्‍त की समस्‍या

बच्‍चे को दस्‍त की समस्‍या
4/6

ब्रेस्‍टफीडिंग के दौरान मां द्वारा एंटीबायोटिक का सेवन करने पर शिशु को दस्‍त हो सकते हैं। हालांकि यह कोई गंभीर बात नहीं है, ज्‍यादा परेशान न हो। लेकिन शरीर में पानी की कमी के लिए आप अपने शिशु को ओआरएस का घोल दे।

निप्‍पल में कट

निप्‍पल में कट
5/6

क्‍या आप जानते हैं कि स्‍तनपान कराने के दौरान एंटीबायोटिक लेने से निप्‍पलों में रैशेज और कटने की समस्‍या बढ़ जाती है। जिससे स्‍तनपान करवाने के दौरान दर्द होता है और कई बार तो स्‍तनों में इंफेक्‍शन का असर शिशु के स्‍वास्‍थ्‍य पर भी पड़ता है।

शिशु के स्‍वभाव में बदलाव

शिशु के स्‍वभाव में बदलाव
6/6

अगर मां स्‍तनपान कराने के दौरान एंटीबायोटिक खाती है तो उसे पेट में दर्द की हल्‍की हरारत रहती है और इससे बच्‍चे के स्‍वभाव में चिड़चिड़ापन आ जाता है। कभी-कभी तो बच्‍चा रोने भी लगता है। हालांकि इसके लिए किसी उपचार की जरूरत नहीं है, क्‍योंकि एंटीबायोटिक का सेवन बंद होने के बाद समस्‍या ठीक हो जाती है। लेकिन अगर बच्‍चा ज्‍यादा परेशान होता है तो अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। Image Source : Getty

Disclaimer