इन सात आहारों को कभी न खायें कच्‍चा

By:Nachiketa Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Dec 12, 2014
कुछ आहार ऐसे भी हैं जिनको कच्‍चा खाने पर पेट की समस्‍या हो सकती है, इनमें बैक्‍टीरिया होते हैं जिनके कारण सिरदर्द, चक्‍कर आना, पेट में दर्द जैसी समस्‍या हो सकती है।
  • 1

    कच्‍चा आहार खाने के नुकसान

    कुछ आहारों को कच्‍चा खाने की सलाह दी जाती है, क्‍योंकि इससे उनमें मौजूद पौष्टिक तत्‍व पकाने के दौरान नष्‍ट हो जाते हैं और उनका फायदा नहीं मिल पाता। लेकिन कुछ आहार ऐसे भी हैं जिनको कच्‍चा खाने के कई नुकसान हो सकते हैं। इन आहार के सेवन से पेट में दर्द, मरोड़, सिरदर्द, चक्कर आना, आदि समस्‍यायें हो सकती हैं। फूड प्‍वॉयजनिंग के लिए भी ये जिम्‍मेदार हो सकते हैं। इन आहारों में मौजूद सालमोनेला, स्टेफाइलोकोकाई और क्लसट्रिडियम बोटयूलियम जैसे रोगाणु इनको संक्रमित कर देते हैं, जिसका असर रक्त, किडनी और तंत्रिका तंत्र पर पड़ता है। इसलिए इन आहारों का सेवन करने से बचें।

    image source - getty images

    कच्‍चा आहार खाने के नुकसान
    Loading...
  • 2

    चिकन

    चिकन के शौकीन अगर इसे कच्‍चा खा जायें तो इसके कारण उनके पेट की हालत इतनी खराब हो जायेगी कि उन्‍हें अस्‍पताल के चक्‍कर लगाने पड़ जायेंगे। इसमें मौजूद बैक्‍टीरिया पेट में कई तरह की समस्‍या कर सकते हैं, इसे अगर कच्‍चा खा लिया जाये तो फूड प्‍वॉयजनिंग हो सकती है। इसलिए चि‍कन को पकाने से पहले इसे 165 डिग्री के तापमान पर देर तक पकायें, इससे इसमें मौजूद बैक्‍टीरिया मर जायेंगे।

    image source - getty images

    चिकन
  • 3

    छाया (Chaya)

    देखने में यह पालक की तरह होता है और अगर इसे पका कर खाया जाये तो इसके कई फायदे हैं। लेकिन कच्‍चा खाने पर यह जानलेवा हो सकता है। क्‍योंकि इसमें साइनाइड नामक पदार्थ पाया जाता है जो कि जहर है। इसे विष‍रहित करने के लिए कम से कम पांच मिनट तक पकायें।
    image source - hondurastips.hn

    छाया (Chaya)
  • 4

    कसावा की जड़ (Yucca)

    छाया की तरह इसमें भी साइनाइड होता है। दरअसल साइनाइड की इसकी पत्तियों में होता है, जो इसे की‍ड़ों और जानवरों से बचाने में मददगार है। इसकी जड़ खाने के काम आती है। लेकिन इसकी जड़ में भी साइनाइड की थोड़ी मात्रा मौजूद होती है जिसे खाना खतरनाक हो सकता है। इसे खाने से पहले अच्‍छी तरह पानी में धोयें, अच्‍छे से पकायें फिर इसका सेवन करें।

    image source - getty images

    कसावा की जड़ (Yucca)
  • 5

    अंडे

    संडे हो या मंडे रोज खाओ अंडे, ऐसा इसलिए बोला जाता है क्‍योंकि अंडा बहुत स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक होता है और इसमें शरीर के लिए जरूरी लगभग सभी पौष्टिक तत्‍व मौजूद होते हैं। लेकिन अंडे को कच्‍चा खाना स्‍वास्‍थ्‍य के लिहाज से सही नहीं है। कच्‍चे अंडे में सैलमोनेला (salmonella) वॉयरस हो सकता है जो पेट में समस्‍या पैदा कर सकता है। इसलिए अंडा खाने से पहले इसे पका लें।

    image source - getty images

    अंडे
  • 6

    हरा आलू

    पुराने आलू या फिर धूप के संपर्क में अधिक देर तक रहने के कारण आलू का कुछ हिस्‍सा हरा हो जाता है। जब भी आलू हरा हो जाता है इसमें सोलेनाइन नाम केमिकल बन जाता है। जिसके सेवन से सिर में दर्द, थकान, मतली, पेट की समस्‍या हो सकती है। इससे बचाव के लिए आलू को ठंडे स्‍थान पर रखें और इस तरह के आलू के सेवन से बचें।

    image source - getty images

    हरा आलू
  • 7

    किडनी बीन्‍स

    लाल सेम को अगर आप कच्‍चा खा जायें तो इसे खाने के कुछ पल बाद आपको उल्‍टी, मतली, पेट में दर्द, पेट में सूजन जैसी समस्‍या हो सकती है। दरअसल इसमें कलप्रिट नामक एक प्रकार का विषाक्‍त पदार्थ होता है, इसके कारण ही पेट की समस्‍यायें होती हैं। इसलिए इसे प्रयोग करने से पहले कम से कम पांच घंटे तक भिगोकर रखें, फिर इसे अच्‍छे से पकार इसका सेवन करें।

    image source - getty images

    किडनी बीन्‍स
  • 8

    रेवंदचीनी की पत्तियां (Rhubarb Leaves)

    रेवंदचीनी एक प्रकार की पत्तियां हैं जिनका सेवन किसी भी हाल में करने से बचना चाहिए। इसकी पत्तियों में ऑक्‍सेलिक एसिड नामक विषाक्‍त पदार्थ होता है जो जानलेवा भी हो सकता है। अगर इसकी छोटी सी मात्रा का सेवन कर लें तो इसके कारण किडनी क्षतिग्रस्‍त हो सकती है। इसलिए कोशिश करें कि इसकी पत्तियों का सेवन बिलकुल भी न करें।

    image source - getty images

    रेवंदचीनी की पत्तियां (Rhubarb Leaves)
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK