कार्डियो संबंधी इन मिथ से अनजान हैं आप

कॉर्डियो व्‍यायाम को सबसे असरदार व्‍यायाम माना जाता है, लेकिन क्‍या आप जानते हैं इसके बारे में कुछ मिथ भी हैं जिनके बारे में आप अनजान हैं, आइए कार्डियो संबंधी इन मिथ के बारे में जानते हैं।

Rahul Sharma
Written by:Rahul SharmaPublished at: Jul 27, 2015

कार्डियो संबंधी मिथ्स

कार्डियो संबंधी मिथ्स
1/8

यकीनन वजन घटाने और फैट बर्न करने के लिए कार्डियो एक्सरसाइज कमाल के होते हैं। लेकिन अगर आप ऐसा मानते हैं केवल घंटों इस तरह की एक्सरसाइज करके आप जल्दी से वजन घटा लेंगे तो आप गलत हैं। लोगों में कार्डियो एक्सरसाइज संबंधी ऐसे ही कई मिथ देखे जाते हैं। तो चलिये आज इन मिथ्स से पर्दा उठाते हैं और सच जानते हैं।image source - getty images

मिथ - देर तक कार्डियो एक्सरसाइज का ज्यादा फायदा।

मिथ - देर तक कार्डियो एक्सरसाइज का ज्यादा फायदा।
2/8

कुछ शोधों पर गौर फरमाएं तो एक घंटे से अधिक कार्डियो एक्सरसाइज करने के फायदे के बजाय नुकसान हो सकते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार कार्डियो कसरत के लिए जरूरी है कि आप थोड़ी देर का एक सेशन करें और बीच-बीच में विराम लेते रहें। छोटे और कड़े सेशन वजन घटाने में घंटों तक कार्डियो कसरत की अपेक्षा अधिक फायदेमंद हो सकते हैं।image source - getty images

मिथ - स्‍वस्‍थ रहने के लिए बस कार्डियो वर्कआउट की जरूरत।

मिथ - स्‍वस्‍थ रहने के लिए बस कार्डियो वर्कआउट की जरूरत।
3/8

कार्डियो वर्कआउट केवल दिल और फेफड़ों को मजबूत बनाता है। यानी अगर आप रोज 40-60‍ मिनट तक कार्डियो वर्कआउट करते हैं तो इससे आपके जोड़, हड्डियां, लिगामेंट्स आदि मजबूत होंगे, यह आपके मांसपेशियों के लिए बिलकुल भी असरकारी नहीं होगा। इसलिए कार्डियो के साथ-साथ स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग भी बहुत जरूरी है।image source - getty images

मिथ - ट्रेडमिल आपकी एक्सरसाइज का सारा हिसाब किताब रखती है।

मिथ - ट्रेडमिल आपकी एक्सरसाइज का सारा हिसाब किताब रखती है।
4/8

एक्सरसाइज करते समय हर व्यक्ति का शरीर अलग-अलग हिसाब से कैलोरी बर्न करता है। कैलोरी बर्न करने में उम्र, लिंग व बीएमआई जैसे कई फैक्टर मायने रखते हैं, तो जो मशीने इन चीजों का आंकलन नहीं करती वे केवल कैसोरी बर्न के बारे में ही आंकड़े दे पाती हैं। image source - getty images

मिथ - फिटनेस ट्रेनर केवल सेलीब्रेटीज के लिए होते हैं।

मिथ - फिटनेस ट्रेनर केवल सेलीब्रेटीज के लिए होते हैं।
5/8

लोगों को लगता है अच्‍छे फिटनेस ट्रेनर और कार्डियो प्रशिक्षक केवल सेलीब्रेटीज के लिए ही होते हैं, और फिर हम बिना प्रशिक्षक के मार्ग दर्षक के किताबों में पढ़कर या नेट पर देखकर कार्डियो व्‍यायाम करना शुरू कर देते हैं जो हमेशा गलत होता है। बेहतर तो ये होता है कि अपने फिटनेस के उद्देश्‍यों को पाने के लिए किसी अच्‍छे ट्रेनर से संपर्क करें और उसके निर्देशन में ही कार्डियो व्‍यायाम करें।image source - getty

मिथ - कार्डियो एक्सरसाइज हमेशा खाली पेट करनी चाहिए।

मिथ - कार्डियो एक्सरसाइज हमेशा खाली पेट करनी चाहिए।
6/8

फिटनेस एक्सपर्ट्स के अनुसार खाली पेट एक्सरसाइज करने से बेवजह थकान हो जाती है। यही नहीं एक्सरसाइज करने की क्षमता भी इससे कम होने लगती है। पेट भर भोजन करने के बाद भी एक्सरसाइज करना ठीक नहीं है, लेकिन एक्सरसाइज करने से पहले जूस, फल, चाय के साथ एक-दो बिस्कुट या अंकुरित अनाज लेना बेहतर होता है। image source - getty

मिथ - कम इंटेंसिटी का एक्सरसाइज देर तक करने से फायदा होता है।

मिथ - कम इंटेंसिटी का एक्सरसाइज देर तक करने से फायदा होता है।
7/8

सच तो यह है कि आप जितनी इंटेंसिटी से कार्डियो करते हैं कार्बोहाइड्रेट उतना ही ज्यादा बर्न होते हैं। शरीर पहले कार्ब को पूरी तरह से जलाने के बाद फैट को जलाना शुरू करता है। image source - getty

मिथ - कार्डियो एक्सरसाइज कर रहे हैं तो कुछ भी खा सकते हैं।

मिथ - कार्डियो एक्सरसाइज कर रहे हैं तो कुछ भी खा सकते हैं।
8/8

ये बहुत बड़ी लगतफ़हमी है, एक्सरसाइझ भले ही कितनी भी और किसी भी प्रकार की हो, यदि संतुलित व पौष्टिक भोजन नहीं खाएंगे तो शरीर को एक्सरसाइज हुआ लाभ होना बंद हो जाएगा।  image source - getty

Disclaimer