सीने में दर्द के होते हैं ये जानलेवा कारण, कभी ना करें इग्नोर

सीने में दर्द हृदय संबंधी समस्याओं के अलावा कुछ और संभावित कारणों से भी हो सकता है। यह समस्या फेफड़ों में संक्रमण, इसोफैगस, मांसपेशियों, पसलियों या तंत्रिकाओं की किसी समस्या के कारण भी हो सकता है।

Rashmi Upadhyay
Written by: Rashmi UpadhyayPublished at: Feb 23, 2018

सीने में दर्द के कारण

सीने में दर्द के कारण
1/8

सीने में दर्द हृदय संबंधी समस्याओं के अलावा कुछ और संभावित कारणों से भी हो सकता है। यह समस्या फेफड़ों में संक्रमण, इसोफैगस, मांसपेशियों, पसलियों या तंत्रिकाओं की किसी समस्या के कारण भी हो सकता है। गर्दन के निचले हिस्से से लेकर पेट के ऊपरी हिस्से तक कहीं भी छाती के दर्द को महसूस किया जा सकता है। तो चलिये जानते हैं छाती में दर्द के कुछ अनजाने कारण क्या हैं।

पेट की समस्या के कारण

पेट की समस्या के कारण
2/8

पेट का कोई रोग या समस्या होने के कारण भी छाती में दर्द हो सकता है। जब पीत की थैली में गैस बनती है और ये गैस छाती के तरफ जाती है तो थाती में दर्द होता है। इस कारण से छाती में जलन होने पर एंटीसीड खाने पर दर्द घट जाता है। तो यदि सोते समय सीने में दर्द बढ़ जाय तो ध्यान रहे कि ये पेट के रोग के कारण हो सकता है।

फेफडे की बीमारी होने पर

फेफडे की बीमारी होने पर
3/8

फेफडे की बीमारी होने की वजह से भी छाती में दर्द हो सकता है। ऐसे में छाती के बीच में दर्द होने के बजाए बगल में दर्द होता है। सांस लेने या खांसने से ये दर्द और बढ़ जाता है। तपेदिक या निमोनिया आदि रोग होने के कराण भी छाती में दर्द हो सकता है। Image courtesy: © Getty Images

प्ल्यूराइटिस (छाती की अंदरूनी दिवारों में सूजन)

प्ल्यूराइटिस (छाती की अंदरूनी दिवारों में सूजन)
4/8

छाती की अंदरूनी दिवारों में सूजन के कारण भी सीने में दर्द हो सकता है। यदि फेफ़डे की ऊपरी सतह पर मौजूद झिल्ली में सूजन आ जाए तो छाती की अंदरूनी दीवार की सूजी हुई सतह से सांस लेने पर हवा रगड़ खाने लगती है। जिससे असहनीय दर्द होता है। इस स्थिति को प्ल्यूराइटिस कहा जाता है। ज्यादातर प्ल्यूराइटिस का कारण टीबी का इंफेक्शन या निमोनिया होता है।Image courtesy: © Getty Images

टीबी हो सकता है कारण

टीबी हो सकता है कारण
5/8

छाती में दर्द का एक मुख्य कारण टीबी भी हो सकती है। टीबी या निमोनिया की वजह से फेफड़ों की झिल्ली में सूजन आ सकती है। और फिर मरीज के सांस लेने पर सूजी हुई सतह से हवा रगड़ खाती है और दर्द होने लगता है, इस अवस्था को प्ल्यूराइटिस कहा जाता है। Image courtesy: © Getty Images

एंजाइना पेक्टोरिस

एंजाइना पेक्टोरिस
6/8

सीने के बाई ओर दर्द का एक कारण हार्ट अटैक भी हो सकता है। सीने में बार-बार दर्द होना एंजाइना पेक्टोरिस का लक्षण होता है, जो दिल की बीमारी का रूप ले लेता है। इस समस्या में दिल तक पहुंचने वाले रक्त की मात्रा कम हो जाती जाती है। दिल को ऑक्सीजन की पूर्ति न होने से छाती में दर्द के साथ सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। Image courtesy: © Getty Images

कोरोनरी आर्टरी डिसेक्शन

कोरोनरी आर्टरी डिसेक्शन
7/8

कोरोनरी धमनी में किसी छेद या खरोंच होने को कोरोनरी आर्टरी डिसेक्शन कहा जाता है। यह स्थिति कई प्रकार के कारकों की वजह से पैदा हो सकती है। इसके कारण अचानक सनसनी के साथ गंभीर दर्द हो सकता है जो कि गर्दन, पीठ या पेट तक चला जाता है। Image courtesy: © Getty Images

पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज

पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज
8/8

दिल की धमनियों के दर्द को पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज अर्थात पीवीडी कहा जाता है। दिल से जुड़ने वाले शरीर के आंतरिक अंग और दिमाग को रक्त पहुंचाने वाली धमनियों में रक्त का संचरण बाधित होने पर सीने में दर्द होता है। ध्यान रहे कि केवल दिल ही नहीं, शरीर के किसी भी भाग में धमनियां अवरुद्ध होने पर हृदयघात हो सकता है।Image courtesy: © Getty Images

Disclaimer