5 तरीकों से मोटापे को कम कर जोड़ों को बनायें मजबूत

कई अध्ययनों में पाया गया है कि शरीर में अतिरिक्त वजन और घुटनों के दर्द के बीच संबंध है, हालांकि अच्छी खबर ये है कि छोटे-छोटे परिवर्तनों से बड़ा फर्क पैदा किया जा सकता है, इसके बारे में यहां विस्‍तार से जानें।

Rahul Sharma
Written by: Rahul SharmaPublished at: Oct 30, 2015

मोटापा और जोड़ों के बीच संबंध

मोटापा और जोड़ों के बीच संबंध
1/5

कई अध्ययनों में पाया गया है कि शरीर में अतिरिक्त वजन और घुटनों के दर्द के बीच कनेक्शन होता है। ऑस्टियोआर्थराइटिस (Osteoarthritis), जोकि गठिया का सबसे अधिक प्रचलित रूप है और 15 लाख भारतीयों में हर साल विकलांगता का कारण बनता है। हालांकि अच्छी खबर ये है कि छोटे-छोटे परिवर्तनों से बड़ा फर्क पैदा किया जा सकता है। घुटने के ऑस्टियोआर्थराइटिस के साथ मोटापे से ग्रस्त लोगों पर हुए एक अध्ययन के अनुसार जिन लोगों ने आहार और व्यायाम की मदद से वज़न कम किया उनके घुटनों को दर्द आधा हो गया। वजन कम करना स्वस्थ घुटने पाने के लिये बेहद महत्वपूर्ण होता है। चलिये जानते हैं ऐसे 5 टिप्स जिनकी मदद से आप मोटापे को कंट्रोल में रखते हुए जोड़ों की समस्याओं को भी कम कर सकते हैं।  Images source : © Getty Images

चिकित्सक से परामर्श करते रहें

चिकित्सक से परामर्श करते रहें
2/5

समय-समय पर अपने चिकित्सक से परामर्श करते रहें। कुछ किलो वजन भपर-नीचे होना सामान्य बात है, लेकिन कुछ ही महिनों में 20 किलो बढ़ा लेना बिल्कुल सामान्य बात नहीं है। लेकिन हेवी वर्कआउट शुरू करने से पहले आपको विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिये। यदि आपको आप पहले से ही घुटनो का दर्द हो रहा है, तो अपने डॉक्टर को अपनी दिनचर्या के बारे में सब कुछ बताएं। परामर्श में देरी से समस्या और भी खराब हो सकती है।  Images source : © Getty Images

कुछ जानकारी भी रखें

कुछ जानकारी भी रखें
3/5

यह मरीज और उसके परिवार के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है कि किसी भी सर्जरी को चुनने से पहले गहराई से उसकी जानकारियां पढ़ें और समझें। जो लोग समझौता भरा जीवन नहीं जीना चाहते हैं, वे टोटल नी रिप्लेसमेंट करा सकते हैं। पिछले कुछ वर्षों ने नी रिप्लेसमेंट सर्जरी के लिए इस्तेमाल की जानी वाली टेक्नोलॉजी में क्रियाशील परिवर्तन देखा गया है। Images source : © Getty Images

नियमित व्‍यायाम करें

नियमित व्‍यायाम करें
4/5

भारी लोगों के लिए वॉक करना, इनडोर या आउटडोर साइकलिंग करना और मजबूब मसल्स पाने के लिये स्ट्रेंथ ट्रेनिंग (भले ही कुछ मिनटों के लिये) करना बेहतर होता है। कुछ मिलाकर इन लोगों को जितना हो सके एक्टिव रहना चाहिये। बस अपनी दैनिक दिनचर्या में अधिक शारीरिक गतिविधियों और कामों को शामिल करें। Images source : © Getty Images

वजन संतुलित रखें और हेल्‍दी खायें

वजन संतुलित रखें और हेल्‍दी खायें
5/5

मोटापा अस्वास्थ्यकर भोजन और व्यायाम की कमी का एक उत्पाद होता है। बीमारियों से निपटने के लिये आपको रोजाना कम से कम 30 मिनट के लिए वर्कआउट करना चाहिए। ऐसे करने से आप ज्यादा लचीले बनते हैं और ऑस्टियोआर्थराइटिस के विकसित होने का घतरा भी कम होता है। अपने बीएमआई, कोलेस्ट्रॉल और वजन की जांच करते रहें। संतुलित भोजन खाएं और फास्ट फूड डाइट से खुद को बचाएं। यह मांसपेशियों के क्षय से बचने में मदद करता है और अपनी मांसपेशियों के वजन को बनाए रखता है। हेल्दी डाइट आपको एक समग्र और स्वस्थ जीवन प्रदान करती है।Images source : © Getty Images

Disclaimer