जानें कैसे पीरियड की समस्‍याओं को दूर करती है कलौंजी

अनियमित पीरियड्स, व्हाइट डिस्चार्ज होना, पेट व कमर में ज़्यादा दर्द होना जैसी कई समस्यों से छुटकारा पाने के लिए कलौंजी का सेवन बहुत फायदेमेंद होता है। कलौंजी के सेवन माहवारी से जुड़ी समस्याओं को दूर करने में बड़ा असरदार है।

Aditi Singh
Written by:Aditi Singh Published at: May 18, 2016

पीरियड्स से जुड़ी समस्या

 पीरियड्स से जुड़ी समस्या
1/5

दो ग्लास पानी में लगभग 50 ग्राम ताज़ी पुदीने की पत्तियां तब तक उबालें, जब तक पानी आधा कप ना रह जाए। फिर इसे छान लें और इसमें दो चम्मच मिश्री व आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिला लें। इस पानी को सुबह खाली पेट और रात को सोते समय पिएं। इसे 40 दिन तक करने से इससे आपकी पीरियड्स से जुड़ी ज्यादातर समस्या दूर हो जाएंगी। Image Source-Getty

पीरियड्स में होता हो लंबा अंतर

पीरियड्स में होता हो लंबा अंतर
2/5

पीरियड बहुत लंबे गैप में आता है या बंद हो जाता है, तो रोजाना सुबह एक चम्मच कलौंजी पाउडर पानी के साथ खा लें। कभी-कभार किसी को इससे पेट दर्द हो सकता है, तो चुटकी भर हिंग पानी के साथ खा लें, दर्द बंद हो जाएगा और पीरियड भी आ जाएगा।  अगर आपको कम ब्लींडिग होती है या नाममात्र की ब्लींडिग होने की समस्या है तो हल्का सा तीन ग्राम कलौंजी पाउडर को शहद के साथ मिलाकर रोजाना खायें, इसके ऊपर से गुनगुना पानी पी लें। Image Source-Getty

मासिक-धर्म के न होने पर होने वाले पेट दर्द

मासिक-धर्म के न होने पर होने वाले पेट दर्द
3/5

पीरियड्स के दौरान दर्द की समस्या को दूर करने के लिए ये कारगर उपाय है। 2-3 महीने तक भी मासिक-धर्म के न होने पर और पेट में भी दर्द रहने पर एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल और 2 चम्मच शहद मिलाकर सुबह-शाम को खाना खाने के बाद सोते समय 30 दिनों तक पियें |Image Source-Getty

पीरियड्स के दौरान पेट दर्द

पीरियड्स के दौरान पेट दर्द
4/5

पीरियड्स के दर्द को ठीक करने के लिए आधा चम्मच कलौंजी के बीज का चूर्ण दिन में दो बार गर्म पानी के साथ लेने से पीरियड्स के तेज दर्द से आराम मिलता हैं। लेकिन इस उपाय को पीरियड आने के 15 दिन पहले शुरू करें और दो सप्ताह तक लें। पीरियड के दौरान इसका सेवन ना करें। Image Source-Getty

मासिक धर्म रूक जाने पर

मासिक धर्म रूक जाने पर
5/5

अगर आपको नींद न आना, दस्त लगना, पेट में दर्द, शरीर में जगह-जगह सूजन, मानसिक तनाव, हाथ, पैर व कमर में दर्द, स्वरभंग, थकावट, शरीर में दर्द आदि जैसे मासिक धर्म रूकने के लक्षण दिख रहें हौ तो बरगद की जटा, मेथी और कलौंजी - सब 3-3 ग्राम की मात्रा में लेकर मोटा-मोटा कूट लें। फिर आधा किलो पानी में सब चीजें डालकर काढ़ा बनाएं। जब पानी आधा रह जाए तो छानकर शक्कर डालकर पी जाएं। Image Source-Getty

Disclaimer