जानें सेहत के लिए कितनी फायदेमंद है तुरई

सेहतमंद रहने के लिए हरी सब्जियां खाने की सलाह सभी डॉक्‍टर देते हैं। ताजा हरी सब्जियों के रूप में तुरई का सेवन उचित मात्रा आहार में शामिल करने से शरीर में ब्‍लड का निर्माण होता हैं और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Apr 03, 2017

बीमारियों की रामबाण दवा है तुरई

बीमारियों की रामबाण दवा है तुरई
1/8

सेहतमंद रहने के लिए हरी सब्जियां खाने की सलाह सभी डॉक्‍टर देते हैं। ताजा हरी सब्जियों की उचित मात्रा आहार में शामिल करने से शरीर में ब्‍लड का निर्माण होता हैं और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं। शरीर को रोगों से लड़ने के लिए हमारे ब्‍लड में हीमोग्लोबिन की अच्‍छी होनी चाहिए। रक्त और हीमोग्लोबिन की मात्रा सही रखने के लिए हरी सब्जियों से बढ़कर कुछ भी नहीं है।इसके लिए आप तुरई पर भरोसा कर सकते हैं। गर्मियों में हरी सब्जियों की जरूरत अन्य मौसमों की तुलना में अधिक होती है क्योंकि गर्मी के दिनों में हमारे शरीर से पसीना और नमक निकलता रहना है इस वजह से रक्त की कमी भी अन्य मौसम की तुलना में ज्यादा हो सकती है। तुरई की सब्जी पचने में आसान होती है इसलिए अस्वस्थ व बीमार लोगों के लिए भी यह काफी फायदेमंद होती है। आइए इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से जानते हैं इसके फायदों के बारे में... Image Source : blogspot.com

डायबिटीज रोगियों के लिए फायदेमंद

डायबिटीज रोगियों के लिए फायदेमंद
2/8

तुरई ब्‍लड और यूरीन दोनों में शुगर के स्‍तर को कम करने में मदद करती है। इसलिए यह डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद होती है। तुरई में इन्सुलिन की तरह पेप्टाईड्स पाए जाते हैं। इसलिए इसे डायबिटीज नियंत्रण के लिए एक अच्छे उपाय के तौर पर देखा जाता है। इसलिए सब्जी के तौर पर इसके इस्तेमाल से डायबिटीज में फायदा होता है।

वजन कम करने में सहायक

वजन कम करने में सहायक
3/8

एक तुरई में लगभग 95 प्रतिशत पानी और केवल 25 प्रतिशत कैलोरी होती है। जिससे वजन नहीं बढ़ता। इसमें संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल की भी बहुत ही सीमित मात्रा होती है जो वजन कम करने में सहायक होती है।

त्‍वचा संबंधी रोगों में लाभकारी

त्‍वचा संबंधी रोगों में लाभकारी
4/8

यह मुंहासे, एक्जिमा, सोरायसिस और अन्य त्वचा संबंधी रोगों के उपचार में सहायक होती है। कुष्ठ रोग में भी तुरई उपयोगी होती है। तुरई की सब्जी खाने से प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। इसके सेवन से रक्‍त शुद्ध होता है जिससे त्‍वचा संबंधी रोगों से राहत मिलती है।

आंखों की रोशनी बढ़ाये

आंखों की रोशनी बढ़ाये
5/8

तुरई में बीटा कैरोटीन पाया जाता है जो नेत्र दृष्टि बढ़ाने में मदद करता है। अगर आप अपनी आंखों की रोशनी बढ़ाना चाहते हैं तो अपने आहार में तुरई को शामिल करें।

लिवर के लिए गुणकारी

लिवर के लिए गुणकारी
6/8

लगातार तुरई का सेवन करना सेहत के लिए बेहद हितकर होता है। तुरई रक्त शुद्धिकरण के लिए बहुत उपयोगी माना जाता है। साथ ही यह लिवर के लिए भी गुणकारी होता है। साथ ही पीलिया होने पर अगर रोगी की नाक में 2 बूंद तोरई के फल का रस डाल दें, तो नाक से पीले रंग का द्रव बाहर निकलता है। जिससे पीलिया रोग जल्दी समाप्त हो जाता है।

बालों को काला करने में मददगार

बालों को काला करने में मददगार
7/8

बालों को काला करने में भी तुरई बहुत फायदेमंद होती है। इसके लिए तुरई के छोटे-छोटे टुकड़े काटकर छांव में सूखा लें। फिर इन सूखे टुकड़ों को नारियल के तेल में मिलाकर 5 दिन तक रख लें। बाद में इसे गर्म कर लें। इस तेल को छानकर प्रतिदिन बालों पर लगाकर मालिश करें, इससे उपाय को अपनाने से आपके बाल धीरे-धीरे काले होने लगेगें।

अन्‍य लाभ

अन्‍य लाभ
8/8

इसका नियमित प्रयोग करने से कब्ज नहीं होता और पेट भी साफ रहता है। इसके अलावा तुरई पित्त, सांस संबंधी रोगों, बुखार, खांसी और पेट के कीड़ों को दूर करने में लाभकारी है। Image Source : Getty

Disclaimer