कैलेंडुला के अद्भुत स्‍वास्‍थ्‍य और सौंदर्य लाभ के बारें में जानें

कैंलेडुला का फूल गेंदे की प्रजाति का होता है। इस फूल के कई औषधीय गुण होते है जिससे सेहत और सौंदर्य दोनो को लाभ मिलता है। इस बारे में विस्तार से जानने के लिए ये स्लाइडशो पढ़े।

Aditi Singh
Written by: Aditi Singh Published at: Jul 04, 2016

एंटीसेप्टिक की तरह प्रयोग

एंटीसेप्टिक की तरह प्रयोग
1/5

होम्योपैथिक में कैलेंडुला का प्रयोग एंटीसेप्टिक की तरह किया जाता है।इसमें मौजूद गंध तेल, ऑर्गेनिक एसिड व स्टेरोल्स घावों को भरते हैं।चोट लग जाने पर या जख्म के बढ़ जाने पर इस औषधि का प्रयोग करने से दर्द में आराम मिलता है। साथ जख्म जल्दी भरने लग जाता है। जख्म पर लगाने से पहले इसे जैतून के तेल के साथ मिला लेँ।चर्म रोग होने या शरीर के किसी हिस्से में सूजन आ जाने पर इन फूलों को पीसकर पेस्ट बनाकर लगाने से फायदा होता है।  त्वचा की ड्राईनेस के लिए भी कैलेंडुला सोप का प्रयोग करना बेहतर होता है। त्वचा का रूखापन दूर करने के लिए इसको ग्लिसरीन के साथ मिलाकर लगा सकते है। Image Source-Getty

सूजन को ठीक रखें

सूजन को ठीक रखें
2/5

मुंह, गले और पेट की सूजन में होने पर कैलेंडुला पंखुड़ियों को 1 कप पानी के साथ उबाल कर कुल्ला या गरारा करें।दांत के मसूड़ों में अगर पस पड़ जाए, तो कैलेंडुला की बीस बूँद आधा कप पानी में डाल कर दिन में चार बार कुल्ला करें और कैलेंडुला 30 की पांच बूँद को दो चम्मच पानी से दिन में तीन चार बार एक माह तक लेने से पायरिया नष्ट हो जाएगा। इसकी चाय बनाकर पीने से सांस की बदबू आदि की समस्या भी खत्म हो जाती है। पंखुडिय़ों को एकत्र कर पीस लिया जाए और शरीर के सूजन वाले हिस्सों में लगाया जाए तो सूजन मिट जाती है।Image Source-Getty

सौंदर्य में भी लाभदायक

सौंदर्य में भी लाभदायक
3/5

कैंलेंडुला में मौजूद कैरोटीनॉयड, ग्लाइकोसाइड, गंध तेल, फैवॉनॉयड एवं स्टेरोल्स त्वचा पर अपना अद्भुत कमाल दिखाते हैं। ये त्वचा को नमी प्रदान करके कसाव बनाए रखता है।इसके तेल का उपयोग चेहरे के रंग को निखारने में मदद करता है तथा त्वचा की चमक को बरकरार रखता है।इसके फूल से बनी क्रीम का प्रयोग करने से चेहरे मुंहासोँ और झुर्रियों की समस्या भी दूर हो जाती है। Image Source-Getty

बालों को मजबूत बनाएं

बालों को मजबूत बनाएं
4/5

इससे बना तेल बालों से रूसी को हटाकर मजबूत बनाता है।मुट्ठी भर सूखे फूलों को 3 कप गरम पानी में मिलाएं। एक घंटा रखा रखने के बाद पानी से फूलों को निकाल लें। पानी को ठंडा होने दें और फिर  बालों को शैंपू से धोने के बाद कंडीशनर के तौर पर प्रयोग करें। ये प्राकृतिक कंडीशनर ऑयली हेयर के साथ-साथ डैंड्रफ के लिए भी अच्छे हैं।कैंलेंडुला फूल के तेल से सिर पर मालिश करने से सिरदर्द और शरीर के दर्द में आराम मिलता है। इसकी मालिश से शरीर में रक्त संचरण ठीक हो जाता है जो मांसपेशियों को आराम देता है।Image Source-Getty

रक्तस्राव में विशेष उपयोगी

रक्तस्राव में विशेष उपयोगी
5/5

यह रक्तप्रदर, बवासीर तथा रक्तस्राव में विशेष उपयोगी माना जाता है।इसमें रक्तस्राव को रोकने की विशेष क्षमता होती है। बावासीर के रोगी को फूल की पत्तियों का रस, काली मिर्च और नमक का घोल पिलाया जाए, तो आराम मिल जाता है।दिन में 5-10 ग्राम रस दिन में 2-3 बार सेवन करना बहुत ही लाभकारी होता है। रक्तप्रदर इस फूल का रस 5-10 ग्राम की मात्रा में सेवन करने से लाभ मिलता है। इससे पुरुषों को शक्ति मिलती है, पुरुषों का स्पर्मेटोरिया (पेशाब और मल करते समय वीर्य जाने की शिकायत) ठीक होता है। इससे पेशाब भी खुलकर होने लगता है। Image Source-Getty

Disclaimer