क्या मैं गे हूं ?

By:Pradeep Saxena, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jun 06, 2014
गे होने के लक्षणों पर खुद से विचार करने की जरूरत है। अपने अदंर के बदलावों और एक दूसरे पुरुष के प्रति आकर्षण को समझने की कोशिश करें।
  • 1

    भारत में अपराध

    समलिंगी या गे या होमोसेक्सुअल होना बेहद निजी मामला है। दुनिया भर के कई देशों में इनके अध‍िकारों को लेकर आंदोलन होते आए हैं। भारत में भारतीय दण्ड संहिता के अनुच्छेद 377 के अंतर्गत समलैंगिक संबंधों को अपराध की श्रेणी में रखा गया है। हालांकि, इसे लेकर समाज के विभ‍िन्न वर्गों की राय अलग-अलग है। लेकिन, इन सबके बावजूद यह सवाल अहम है कि आख‍िर समलैंगिक होना क्या है। कई लोगों को अकसर इस बात का ही पता नहीं होता।

    भारत में अपराध
    Loading...
  • 2

    संशय रहता है बरकरार

    कई बार देखा गया है कि लोग अपनी लैंगिक आकांक्षाओं को लेकर संशय में रहते हैं। वे समझ नहीं पाते कि किसी पुरुष की ओर उनका आकर्षण महज सामान्य है या फिर वे समलैंगिक हैं। इन सवालों के जवाब भी इतने आसान नहीं, जितने कि दिखायी और प्रतीत होते हैं। लैगिक संरचना और आकर्षण एक जटिल प्रश्न है। और इसे पहचान पाना कई बार और भी दुष्कर हो जाता है।

    संशय रहता है बरकरार
  • 3

    केवल शारीरिक आकर्षण नहीं

    सबसे पहले अपने आप से यह प्रश्न पूछें कि क्या आपका आकर्षण केवल शारीरिक है। क्योंकि गे होना महज दैहिक आकर्षण भर नहीं है। यदि आप किसी समान लिंग की ओर भावनात्मक और शारीरिक दोनों रूप से आकर्षित हो रहे हैं, तो यह गे होने का संकेत हो सकता है। गे होना और महज आकर्षण होने में भावनात्मक रूप से जुड़ाव होना जरूरी होता है। किसी अन्य पुरुष के बारे में सेक्सुअल फंतासी होना भर ही गे होने का संकेत नहीं है।

    केवल शारीरिक आकर्षण नहीं
  • 4

    बनी बनायी परिपाटी

    कुछ बने बनाये और पुराने स्टीरियो टाइप संकेत भी किसी व्यक्ति के गे होने का इशारा करते हैं। उनके हाव-भाव, बातचीत का ढंग, कपड़े पहनने का अंदाज आदि गे होने का संकेत देते हैं। लेकिन, कई बार ये संकेत धोखा भी दे सकते हैं। जरूरी नहीं कि महिलाओं जैसा बर्ताव करने वाला पुरुष गे ही हो। इसलिए ऐसे नियमों पर ज्यादा भरोसा न करें।  

    बनी बनायी परिपाटी
  • 5

    अलग अंदाज

    समलैंगिक व्यक्तियों में भी कई विविधतायें होती हैं। कुछ तो सामान्य पुरुषों से भी ज्यादा पौरुषवान नजर आते हैं। कुछ में स्त्रीत्व गुण अध‍िक प्रखर होते हैं। तो, अपनी पहचान को लेकर इन बंधी बंधायी सामाजिक नियमावलियों को ज्यादा तवज्जो न दें।

    अलग अंदाज
  • 6

    आप कितने गे हैं

    इसके साथ ही यह बात भी ध्यान रखने वाली है कि लैंगिक पहचान पूरी किसी एक सांचे में नहीं ढाली जा सकती। सभी लोग 100 फीसदी गे या 100 फीसदी स्ट्रेट नहीं हो सकते। आप गे, बायसेक्सुअल या फिर केवल एक जिज्ञासु हो सकते हैं। इसलिए अपनी इन दुविधाओं के कारण ही स्वयं को गे न मान बैठें।

    आप कितने गे हैं
  • 7

    कैसे पता लगायें

    क्या आप वाकई गे हैं यह पता लगाने के लिए अपनी सेक्सुअले‍टी को परखें। अपने आकर्षणों की पहचान करें। जब आप किसी महिला के बजाय पुरुष के साथ होते हैं, तो आपको कैसा लगता है। क्या आप दोनों के साथ भावनात्मक और सेक्सुअल स्तर पर आकर्ष‍ित महसूस करते हैं। या फिर किसी एक की ओर ही आपका दिल खिंचता है। इस तरह का अवलोकन एक नितांत निजी मामला है। अपने अवलोकन के बारे में किसी दूसरे को न बतायें।

    कैसे पता लगायें
  • 8

    विशेषज्ञ की सहायता लें

    यदि आपकी मानसिक दुविधा समाप्त होने का नाम न ले रही हो, तो आप किसी विशेषज्ञ की सहायता भी ले सकते हैं। यदि आप केवल जिज्ञासावश ऐसा कर रहे हैं, तो वह आपकी इस जिज्ञासा को शांत करने के उपाय सुझा सकता है। साथ ही वह आपको आपकी सेक्सुअलिटी के बारे में सटीक जानकारी दे सकता है।

    विशेषज्ञ की सहायता लें
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK